Dalit Atrocities dharapuram police station

दक्षिण भारत में किस हद तक फैला है जातिवाद, इस घटना से पता चलता है…

Read Time:2 Minute, 49 Second

भारत के दक्षिणी हिस्‍से में आज भी जातिवाद (Casteism) किस हद तक फैला है, इसका अंदाजा स्‍थानीय अखबारों में रोज़ आने वाली खबरों से सहज ही लगता है. द हिंदू में प्रकाशित एक ऐसी ही खबर इसे और पुख्‍ता करती है.

तमिलनाडु (Tamil Nadu) में घटित इस घटना में कवान्दीचिपुदूर ग्राम पंचायत (Kavandachipudur Village Panchayat) की अध्यक्ष आर सेल्वी को वार्ड मेंबर ने ही जाति का नाम लेकर न केवल गालियां बकीं, बल्कि उसे धमकी भी दी.

पढ़ें- डॉ. आंबेडकर की मूर्ति पर डाली जूतों की माला, चेहरे पर बांधा अपमानजनक टिप्‍पणियों वाला पोस्‍टर

आर सेल्‍वी की शिकायत के बाद धारापुरम पुलिस (Dharapuram police) ने वार्ड मेंबर के खिलाफ गुरुवार को अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति (अत्याचार निवारण) अधिनियम (SC/ST Act) के प्रावधानों के तहत मामला दर्ज किया.

सेल्वी ने गुरुवार को ग्राम पंचायत के वार्ड नंबर 6 के सदस्य एस. कुप्पुसामी पर उनके खिलाफ जातिसूचक गालियों का इस्तेमाल करने और धमकी देने का आरोप लगाते हुए शिकायत दर्ज कराई. पुलिस ने सेल्‍वी की शिकायत पर आरोपी के खिलाफ आईपीसी एवं एससी/एसटी एक्‍ट की विभिन्‍न धाराओं के तहत केस दर्ज कर लिया है.

पढ़ें- दलित लड़की से घर में घुसकर रेप, आरोपी निकला ओवैसी की पार्टी AIMIM का सदस्‍य

पुलिस के अनुसार, आरोपी फरार है और उसकी गिरफ्तारी की कोशिश की जा रही है. सेल्वी दिसंबर 2019 में हुए चुनावों में कवान्दीचिपुदूर ग्राम पंचायत की अध्यक्ष बनी थीं.

ये भी पढ़ें- राजस्‍थान के नागौर में दलित महिला से एक साल से हो रहा था गैंगरेप, क्‍योंकि…

रायबरेली: दलित की गाय चरने खेत में घुसी, दंबगों ने दलित को इतना पीटा की हुई मौत, पुलिस की लापरवाही

सिद्धार्थनगर: प्रधान के बेटे-दबंगों ने दलित युवक को पीटा, सिर मुंडवाया, गांव में घुमाया, पुलिसवाले देखते रहे

दलित बस्‍ती को 2 महीने से नहीं मिल रहा पानी, सरपंच के पति ने कुएं से पानी भरने से भी मना किया

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

One thought on “दक्षिण भारत में किस हद तक फैला है जातिवाद, इस घटना से पता चलता है…

  1. आरक्षण खत्म करने की तो बात करते है लेकिन जातिवाद खत्म करने की कोई बात नहीं कर रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *