So much devotion hero worship in Indian politics Dr BR Ambedkar Constituent Assembly speech 25 November 1949
राजनीति में नायक पूजा अंत में तानाशाही की ओर ले जाएगी…. डॉ. बीआर आंबेडकर

last and historic long speech given by Dr. Babasaheb Ambedkar in the Constituent Assembly of India on 25 November 1949 : 25 नवंबर 1949 को संविधान सभा में डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर द्वारा दिए आखिरी व ऐतिहासिक लंबे भाषण के कुछ अंश..

और पढ़ें »
Achievements of Dr. BR Ambedkar in London School of Economics, professor says – there is no other world here for him to win
London School of Economics: लंदन स्‍कूल ऑफ इकोनॉमिक्‍स में डॉ. आंबेडकर की उपलब्धियां, प्रोफेसर कहते- उसके जीतने के लिए यहां और कोई दुनिया नहीं है

1920 में अर्थशास्त्री एडविन आर सेलिगमैन ने कोलंबिया विश्वविद्यालय (Columbia University) से प्रोफेसर हर्बर्ट फॉक्सवेल को लिखा, जो एलएसई में पढ़ाते थे… इसमें उन्होंने एक पूर्व छात्र, भीमराव रामजी (बीआर) आंबेडकर (Bhimrao Ramji (B R) Ambedkar) की सिफारिश की और फॉक्सवेल से उनके शोध में मदद करने के लिए कहा.

और पढ़ें »
Samata Sainik Dal role in struggle of Dr BR Ambedkar Mahad movement
Samata Sainik Dal: महाड़ आंदोलन के डॉ. आंबेडकर के संघर्ष में समता सैनिक दल की अहम भूमिका

महाड़ आंदोलन (Mahad Satyagraha) से पांच दिवस पूर्व, 13 मार्च, 1927 रविवार को मुंबई में सुभेदार सवादकर की सहायता से ‘समता सैनिक दल’ (Samata Sainik Dal) की स्थापना की गई.

और पढ़ें »

सबसे ज्‍़यादा पढ़ी गई खबरें