Election Results 2022: चुनावी नतीजों के बाद आसपा प्रमुख चंद्रशेखर आजाद ने बताया ‘अब वह क्‍या करेंगे’

After Election Results 2022 ASP Chandrashekhar Azad told about their new targets

नई दिल्‍ली : (Election Results 2022) उत्‍तर प्रदेश विधानसभा चुनाव (UP Election Results 2022) के साथ उत्‍तराखंड (Uttarakhand Election Results 2022) और पंजाब के चुनाव नतीजों 2022 (Punjab Election Results 2022) में आजाद समाज पार्टी (Azad Samaj Party) के खराब प्रदर्शन पर चंद्रशेखर आजाद (Chandrashekhar Azad) ने शुक्रवार रात अपनी बात सबके सामने रखी. चंद्रशेखर ने भीम आर्मी (Bhim Army), आजाद समाज पार्टी के कार्यकर्ताओं, समर्थकों के अलावा सभी नागरिकों को हार के कारणों के बारे में बताया. साथ ही उन्‍होंने बताया कि इस चुनाव से उन्‍हें क्‍या सीख मिली है. उन्‍होंने अब पार्टी और कार्यकर्ताओं के लिए नया लक्ष्‍य स्‍थापित करते हुए कहा कि अब हमें वोटर बनाने हैं. साथ ही चंद्रशेखर आजाद ने कहा कि ये लड़ाई अब शुरू हुई है.

चंद्रशेखर ने कही ये प्रमुख बातें…

सफलता और सत्‍ता स्‍थायी नहीं, वह आती जाती रहती है.
जैसा आप संघर्ष करेंगे, वैसी आपको सफलता मिलेगी.
उत्‍तर प्रदेश, उत्‍तराखंड और पंजाब में हमने प्रत्‍याशी उतारे, जो भी समर्थन वहां मिला मैं उनको धन्‍यवाद देता हूं.
हां, हम लोग हार गए हैं, लेकिन हार अंतिम नहीं होती.
हमारे प्रयास में कुछ कमी रही है, उसे हमें पूरा करना है.
आप जानते हैं कि किन हालातों में ये चुनाव लड़ा गया.
हमारा प्रयास था कि बहुजन समाज के लोगों में एकता बने. लेकिन स्‍थापित दलों ने उसे नकार दिया.
हमारा लक्ष्‍य भारतीय जनता पार्टी को हराना था, लेकिन हम उसमें सफल नहीं हो सके. ये लड़ाई आसान नहीं थी.
मेहनत के लिए भीम आर्मी, आजाद समाज पार्टी के प्रत्‍येक कार्यकर्ता का आभार, कोटि-कोटि धन्‍यवाद.
मैंने व्‍यक्ति भी गोरखपुर सदर सीट से मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ के खिलाफ चुनाव लड़ा.
मुख्‍यमंत्री अपनी सेफ सीट चले गए, जहां बहुजनों का वोट बड़ा कम है.
क्‍योंकि समाज से वादा किया गया था, इसलिए हम वहां लड़ने गए.
हमने मजबूती से लड़ाई लड़ी. हां, हम हारे. वहां की जनता ने हम पर भरोसा नहीं दिखाया.
मैं गोरखपुर से लगातार जुड़ा रहूंगा. जनादेश को स्‍वीकार करने वहां जाऊंगा.
मैं यहां संघर्ष करने आया है और इससे पीछे नहीं हट सकता हूं.
चुनाव बड़ी चीज है और चुनाव खत्‍म हुआ है.
साथी लगातार संदेश भेज रहे हैं कि हिम्‍मत मत हारना, कमजोर मत पड़ना.
मैं फ‍िर उनसे कहना चाहता हूं कि हमने इस आंदोलन की शुरुआत ही महापुरुषों का संघर्ष देखकर की.
बाबा साहेब डॉ. भीमराव आंबेडकर और मान्‍यवर कांशीराम परिवर्तन चाहते थे, इसलिए हम इस आंदोलन से जुड़े.
ये लड़ाई अभी शुरू हुई है. बीजेपी विचारधारा पर आधारित पार्टी है. आसपा भी विचारधारा पर आधारित पार्टी है.
वो अपनी विचारधारा को आगे बढ़ाना चाहते हैं और हम अपनी.
मेरी अपील है आपसे. हम जहां जाते हैं, वहां भीड़ बहुत आती है. हमारे पास लोग बहुत हैं, लेकिन अब हमें वोटर तैयार करना है.
साथियों, इसके लिए आपको खुद तैयार होना है.
मैं खुले मन से आपसे अपील करता हूं कि इस आंदोलन को अंतिम पायदान पर लेकर जाना है, सफल करना है.
मेरी समझ में एक चीज तो आई, जब तक देश में बहुजन एकजुट नहीं होंगे, कुछ हासिल नहीं होगा.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *