Dalit

Dalit, द‍लित, दलित न्‍यूज़, दलित समाचार, dalit news in hindi, दलित न्यूज़, दलित न्यूज़ 2021, दलित न्यूज़ 2021, दलित न्यूज़ वीडियो, Dalit की सभी खबरें, दलित समाचार | दलित की ताजा खबर, dalit News in Hindi, dalit News, photos and videos, dalit हिंदी न्यूज़, dalit meaning in hindi, dalit caste list in india, how to pronounce dalit, dalit girl, who are dalits why are they called so, dalit surnames, dalit caste surnames list

uttar pradesh Varanasi bhu dalit student thrashed for not touching upper caste student feet Lanka police station, Dalit beaten up for not touching feet, Dalit student beaten up, Upper caste student beaten up, Dalit student beaten up in BHU, Dalit student tried to kill in BHU, Lanka police station, Varanasi police, BHU, Varanasi News, Uttar Pradesh News, पैर नहीं छूने पर दलित को पीटा, दलित छात्र को पीटा, सवर्ण छात्र ने दलित छात्र को पीटा, बीएचयू में दलित छात्र की पिटाई, बीएचयू में दलित छात्र की हत्या की कोशिश, लंका थाना वाराणसी, बीएचयू, वाराणसी न्यूज, उत्तर प्रदेश पुलिस, उत्तर प्रदेश न्यूज

Varanasi BHU में दलित छात्र को पैर न छूने पर सवर्ण छात्रों ने पीटा, सिर पर बाल्‍टी मारी, जान से मारने की कोशिश

उत्‍तर प्रदेश (Uttar Pradesh ) के वाराणसी (Varanasi) के काशी हिंदू विश्‍वविद्यालय (Banaras Hindu University) में दलित छात्र के साथ सवर्ण जाति के छात्र ने इसलिए मारपीट (Dalit Student beaten up for not touching feet) की, क्‍योंकि उसने उसके पांव छूने से मना कर दिया. जब दलित छात्र ने ऐसा करने से मना किया तो उसके साथ जमकर मारपीट की गई. छात्र का कहना है कि मारपीट के दौरान उस पर जानलेवा हमला किया गया और बाल्टी तक उसके सिर पर दे मारी गई. यहां तक की उसका गला दबाकर जान लेने की कोशिश भी की गई. वाराणसी पुलिस (Varanasi police) मामले में की जांच कर रही है.

पीडि़त दलित छात्र (Dalit Student) का नाम संतोष है, जोकि बीएचयू (BHU) से एमए की पढ़ाई कर रहा है. अभी वह तीसरे सेमेस्टर में है और बीएचयू के बिड़ला सी हॉस्टल (BHU Birla C Hostel) में रहता है. संतोष ने आरोप लगाया है कि बीते 21 दिसंबर की रात 10 बजे हॉस्टल में रहने वाला सवर्ण जाति का एक छात्र शुभम सिंह नशे की हालत अपने दोस्तों के साथ उसके कमरे में आ धमका. शुभम ने उससे अपने और दोस्तों के पैर छूने के लिए कहा. जब उसने ऐसा करने से मना कर दिया तो उसने पीटना शुरू कर दिया और बाल्टी सिर पर दे मारी गई और गला दबाकर जान लेने की कोशिश की गई.

पीड़ित दलित छात्र का कहना है कि वह किसी तरह अपनी जान बचाकर हॉस्टल से बाहर भागा. इसके बाद भी शुभम उसके पीछे भागता रहा और जातिसूचक गालियां (Caste Slurs) दे रहा था. Varanasi के भारत कला भवन के चौराहे पर पहुंचने पर जब मौके पर मौजूद सिक्योरिटी गार्ड की वार्डन सर से बात कराई गई तब जाकर उसे सुरक्षा मिली.

पीड़ित छात्र संतोष का यह भी कहना है कि उसने घटना के दिन ही लंका थाने (Lanka police station) में आरोपी छात्र के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई, लेकनि पुलिस ने उसकी एक नहीं सुनी. इसके बाद उसने बीएचयू के ही अपने साथियों के साथ मिलकर थाने का घेराव किया. तब कहीं जाकर लंका थाना पुलिस ने आरोपी सवर्ण छात्र शुभम सिंह के खिलाफ 24 दिसंबर की रात केस दर्ज किया. इसमें मारपीट की धाराओं के साथ एससी/एसटी एक्‍ट (SC-ST Act) की धाराएं भी लगाई गई हैं.

Gujarat Morbi mid day meal cooked by Dalit OBC students refuse to eat

गुजरात: OBC छात्रों ने दलित महिला द्वारा बनाया मिड-डे मील खाने से इनकार किया, पुलिस ने झाड़ा पल्‍ला

नई दिल्‍ली/अहमदाबाद : अब गुजरात के मोरबी जिले (Gujarat Morbi District) के एक सरकारी स्कूल में दलित के हाथ का बना मिड डे मिल खाने से बच्‍चों ने इनकार (Gujarat OBC students refuse mid day meal cooked by Dalit) कर दिया है. शिक्षा के मंदिर में जातिवाद (Casteism) के इस जहरीले माहौल में जिन बच्‍चों ने दलित रसोइये के हाथ से बना खाना खाने से मना किया है, वह ओबीसी (OBC) समाज से ताल्‍लुक रखते हैं. यह स्थिति पिछले 16 जून से बनी हुई है.

मामला गुजरात के मोरबी जिले के श्री सोखड़ा प्राइमरी स्कूल (Shree Sokhda Primary School in Morbi District) का है, जहां अन्य पिछड़ा वर्ग यानि ओबीसी समुदाय के 153 छात्रों में से 147 बच्‍चों ने सरकार की मिड-डे मील (mid day meal) योजना के तहत परोसे जाने वाले भोजन को खाने से मना कर दिया है, क्‍योंकि वह दलित महिला द्वारा बनाया जा रहा है. ये 147 छात्र खुद कोली, भरवाड़, ठाकोर और गढ़वी जैसे अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) से आते हैं.

मोरबी पुलिस में दर्ज शिकायत के अनुसार, छात्रों के माता-पिता ने अपने बच्चों को एक दलित महिला धारा मकवाना द्वारा तैयार भोजन खाने पर आपत्ति जताई थी. दलित महिला (Dalit Woman) को जून माह में स्कूल अधिकारियों द्वारा भोजन तैयार करने के लिए ठेका दिया गया था. महिला के पति के अनुसार गोपी ने आरोप लगाया, ‘बच्‍चों के अभिभावकों ने उनसे कहा कि वे अपने बच्चों को एक दलित महिला के हाथ से बना खाना नहीं खाने दे सकते.’

इस घटना के बाद गोपी ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई. उन्होंने कहा कि उनकी शिकायत को डीएसपी के पास भेज दिया गया, लेकिन TOI को उन्‍होंने यह भी बताया कि पुलिस अधिकारियों ने उनके सामने यह कहकर पल्‍ला झाड़ दिया कि चूंकि यह स्कूल के अधिकारियों और जिला प्रशासन के बीच का मामला है, इसलिए वे हस्तक्षेप नहीं कर सकते.

टाइम्स ऑफ इंडिया से बातचीत में स्‍कूल प्रिंसिपल ने कहा, हम बच्चों को सिखा सकते हैं कि जातिवादी रवैया न रखें और सभी समान हैं, कोई भी अछूत नहीं है. दुख की बात है कि हम उनके माता-पिता को समझा नहीं सकते.

Uttar Pradesh Deoria Dalit Atrocities Dalit daughter in law thrashed by in laws put rod in her private part

Dalit Atrocities: बहू का छोटी जाति से होना सुसरावालों को नागंवारा, बांधकर पीटा, प्राइवेट पार्ट में रॉड डाली

उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के देवरिया (Deoria) में प्रेम विवाह के चलते एक दलित महिला (Dalit Woman) को ससुराल वालों ने बेरहमी से पीटा है. दलित उत्‍पीड़न (Dalit Atrocities) के इस मामले में पीड़िता का कहना है कि सोते वक्‍त ससुराल वालों की तरफ से आए 6 से 7 लोगों ने उसे रस्‍सी से बांधकर बुरी तरह मारा. आरोप है कि महिला के प्राइवेट पार्ट में रॉड और डंडा भी डाला गया. पीड़िता के पति का कहना है कि उनके परिवार को उनकी पत्‍नी के छोटी जाति के होने से दिक्‍कत है. कई बार शिकायत करने पर भी आरोपियों की गिरफ़्तारी केवल इसलिए नहीं हुई, क्योंकि उसके चाचा बीजेपी किसान मोर्चा (BJP Kisan Morcha) में मंडल अध्यक्ष है.

न्‍यूज एजेंसी एएनआई के अनुसार, देवरिया में हुई इस घटना की पीड़िता ने कहा कि, “21 जुलाई की रात जब हम लोग सो रहे थे कि तभी ससुराल वालों की तरफ से 6-7 लोग आए और मुझे रस्सी से बांधकर मारने लगे. उन्होंने मेरे प्राइवेट पार्ट में रॉड और डंडा भी डाला.”

UP Deoria Dalit Atrocities Dalit daughter in law thrashed by in laws

एजेंसी से बातचीत में महिला के पति ने कहा कि मेरे परिवार को मेरी पत्नी की छोटी जाति से दिक़्कत है. उन्होंने कई बार ऐसा किया है. मैंने किसी तरह अपनी बच्ची को बचाया और पुलिस बुलाई. मेरी पत्नी खुन निकलने से बेहोश थी. कई बार शिकायत की लेकिन गिरफ़्तारी नहीं हुई, क्योंकि मेरे चाचा BJP किसान मोर्चा में मंडल अध्यक्ष हैं.

UP Deoria Dalit Atrocities Dalit daughter in law thrashed by in laws put rod in her private part 1

इस घटना को लेकर देवरिया (Deoria) के एसपी संकल्‍प शर्मा ने कहा कि एक पीड़िता द्वारा अपने ही परिवारजनों सास-ससुर, देवर-ननद इत्यादी पर कुछ गंभीर आरोप लगाए हैं. इस संदर्भ में मदनपुर थाना में सुसंगत धाराओं में अभियोग पंजीकृत किया जा चुका है और विवेचना चल रही है. तथ्यों के आधार पर कार्रवाई की जाएगी.

Bihar MLC Chunav 2022 RJD Lalu Yadav gave ticket to Dalit Munni Devi Rajak

रेलवे प्‍लेटफॉर्म पर लोगों के कपड़े धोने वाली दलित मुन्‍नी रजक को लालू यादव ने दिया MLC टिकट

नई दिल्‍ली/पटना: (Bihar MLC Chunav 2022) बिहार विधान परिषद चुनाव 2022 (Bihar Legislative Council Election 2022) के लिए लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) के नेतृत्‍व वाली राष्‍ट्रीय जनता दल (RJD) द्वारा 3 नामों की घोषणा की गई है, उसमें मुन्नी देवी उर्फ मुन्नी रजक (RJD MLC Candidate Munni Rajak) की चर्चा पूरे देश में हो रही है. दलित मुन्‍नी रजक (Dalit Munni Rajak), जिनका जीवनयापन का जरिया कपड़े धोना, इस्त्री करना है, जिनके पास मोबाइल तक नहीं है, आरजेडी की ओर से उन्‍हें यह सम्‍मान दिए जाने की हर ओर सराहना हो रही है. इस सम्मान को पाकर मुन्नी देवी काफी खुश हैं. यहां तक की नामों की घोषणा के बाद लालू के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव (Tej Pratap Yadav) ने उन्हें खुद अपनी गाड़ी से उन्हें घर तक छोड़ने गए.

Scheduled Caste: अनुसूचित जाति के भूमि आवंटियों के वारिसों को 50 साल बाद मिलेगा जमीन का कब्जा

दरअसल, नालंदा के बख्तियारपुर (Bakhtiyarpur of Nalanda) की रहने वाली मुन्‍नी देवी दलित (Dalit Munni Devi) हैं और रजक समुदाय (Rajak Community) से आती हैं. मुन्नी रजक पेशे से कपड़े धोने का काम करती हैं. वह राजद महिला प्रकोष्ठ (RJD Women’s Cell) की महासचिव हैं. आरजेडी ने आर्थिक रूप से कमजोर और पिछड़ी जाति की महिला को टिकट देकर बिहार में एक बार फिर से बड़ा संदेश दिया है. इस सम्मान को पाकर मुन्नी देवी काफी खुश नजर आईं और उन्होंने लालू प्रसाद यादव, राबड़ी देवी, तेजस्वी यादव, तेजप्रताप यादव और मीसा भारती (Lalu Prasad Yadav, Rabri Devi, Tejashwi Yadav, Tej Pratap Yadav and Misa Bharti) का अभार प्रकट किया. इस सम्‍मान के लिए बोलते-बोलते मुन्नी रजक भावुक भी हो गईं.

Dr. BR Ambedkar.. महिलाओं के हितों व अधिकारों के संवेदनशील योद्धा एवं पुरोधा

आरजेडी ने बिहार विधान परिषद चुनाव 2022 (Bihar MLC Chunav 2022) के लिए जिन 3 नामों की घोषणा की, उनमें एक अल्पसंख्यक युवा कारी शोएब हैं, दूसरी दलित महिला मुन्नी देवी और एक ब्राह्मण अशोक पांडेय हैं. इस फैसले के बाद तेज प्रताप यादव मुन्नी देवी ने मुन्नी देवी को राजनीति के गुर सीखने को कहा.

देखें क्‍या कहा मुन्‍नी रजक ने…

नारी राष्ट्र निर्मात्री है, हर नागरिक उसकी गोद में पलता है… महिला उत्‍थान पर Dr. Ambedkar के प्रयास

बता दें कि मुन्‍नी देवी आरजेडी की बेहद सक्रिय महिला कार्यकर्ता मानी जाती हैं. पिछले दिनों जब लालू यादव के घर सीबीआई की छापेमारी हुई तो इस दौरान पूरे दिन मुन्नी रजक सीबीआई के खिलाफ नारेबाजी करती रही थीं. उनका यह वीडियो भी अब सोशल मीडिया पर वायरल है.

Dr. Ambedkar ने लिखा लेख, लड़कियों को भी अनिवार्य शिक्षा मिले

बिहार विधान परिषद का टिकट मिलने के बाद मुन्नी देवी ने मीडिया से बात की. उन्‍होंने कहा कि लालू यादव जी के यहां से मुझे फोन कर बुलाया गया. मुझे लगा वट सावित्री पूजा होने के चलते उन्‍हें कोई उपहार जरूर मिलेगा. उन्होंने कहा कि मैं आज भी परिवार का गुजारा कपड़े धोकर करती हूं. न मेरे पास अपना घर है न जमीन है. भाड़े के घर में रहती हूं. ऐसी गरीब महिला को टिकट देकर आरजेडी ने साबित कर दिया कि हर किसी का ख्याल लालू प्रसाद यादव रखते हैं. मुन्नी देवी ने कहा कि आज लोग लालू प्रसाद यादव को फंसाने का काम कर रहे हैं, जबकि वो गरीबों का ख्याल रखते हैं.

(Bihar MLC Chunav 2022)

सुभाष चंद्र बोस और डॉ. बीआर आंबेडकर की मुलाकात शूरवीर तिलका मांझी, जो ‘जबरा पहाड़िया’ पुकारे गए डॉ. आंबेडकर के पास थीं 35000 किताबें… जब पहली बार कांशीराम ने संसद में प्रवेश किया, हर कोई सीट से खड़ा हो गया जब कानपुर रेलवे स्‍टेशन पर वाल्‍मीकि नेताओं ने किया Dr. BR Ambedkar का विरोध खुशखबरी: हर जिले में किसान जीत सकते हैं ट्रैक्‍टर कांशीराम के अनमोल विचार व कथन जो आपको पढ़ने चाहिए Dr. Ambedkar Degrees : डॉ. आंबेडकर के पास कौन-कौन सी डिग्रियां थीं ‘धनंजय कीर’, जिन्होंने लिखी Dr. BR Ambedkar की सबसे मशहूर जीवनी