dalitawaaz

Dr BR Ambedkar ko lekar Kanshi ram ke anmol vichar Kanshi ram thoughts for ambedkar

Kanshi Ram ke Vichar: डॉ. बीआर आंबेडकर को लेकर कांशीराम के अनमोल विचार व कथन- पार्ट- 5

भारत रत्‍न बाबा साहेब डॉ. बीआर आंबेडकर (Bharat Ratna Baba Sahab Dr. BR Ambedkar) को लेकर मान्‍यवर कांशीराम (Manyavar Kanshi Ram ke Vichar) के अनमोल विचार व कथन नीचे पढ़ें…

हम यह पहले भी देख चुके हैं कि हमारे समाज में चमचों की बहुतायत ने किस प्रकार आंबेडकरी आंदोलन (Ambedkar Movement) को नष्‍ट कर दिया था. चमचा युग (Chamcha Yug) का एक अनिष्‍टकर प्रभाव यह हुआ कि अनुसूचित जनजातियां अपने ही भले के लिए राजनीतिक शक्ति का इस्‍तेमाल करने की राजनीतिक क्षमता विकसित नहीं कर पाईं.

डॉ. आंबेडकर (Dr. BR Ambedkar) बेहद बुद्धिमान थे कि उन्‍होंने पहले अन्‍य पिछड़ी जातियों की मान्‍यता पर जोर दिया, जबकि गांधी 1930-32 के गोलमेज सम्‍मेलनों (Round Table Conferences of 1930-32) के दौरान बिना मान्‍यता के अधिकारों के लिए बना रहे थे.

अन्‍य पिछड़ी जातियां दावा करती हैं कि वे शून्‍य हैं. कैसी दुखद स्थिति है? कैसे व्‍यापक प्रभाव हैं चमचा युग के?

बहुसंख्‍यकों को अज्ञान और असहायता की स्थिति में रखने की चिंता में, शासक जातियों ने देश को गरीब और पिछड़ा बनाए रखा.

बाबा साहेब डॉ. बीआर आंबेडकर (Baba Sahab Dr. Bhim Rao Ambedkar) दलितों के हक में गरजने वाले पहले दलित वीर थे, जो इंग्‍लैंड की राजधानी लंदन में जाकर भी अपने अधिकारों के लिए तत्‍कालीन हुकूमरानों तथा हिंदुओं के दबंग नेताओं से जा भिड़े.

आज भी जब कमजोर तबके अपनी आवाज, अपना सिर उठाते हैं तो उनका उत्‍पीड़न किया जाता है.

चमचा युग की चुनौती से निपटने के लिए डॉ. आंबेडकर अनेक तरीके और साधन तैयार करने में समर्थ रहे.

इनमें सबसे अच्‍छा तरीका और साधन था उनकी सुनियोजित अवधारण शिक्षित बनो, संगठित रहो तथा संघर्ष करो (Shikshit Bano, Sangathit Raho, Sangharsh Karo).

(Manyavar Kanshi Ram ke Vichar)

Agriculture News Rajiv Gandhi Kisan Beej Uphar Yojana Buying seeds from Rajasthan State Seed Corporation farmers can win tractors

Rajasthan Rajiv Gandhi Kisan Beej Uphar Yojana : राजस्थान राज्य बीज निगम से खरीदें हैं बीज, तो हर जिले में किसान जीत सकते हैं ट्रैक्‍टर

Rajasthan Rajiv Gandhi Kisan Beej Uphar Yojana : राजस्थान राज्य बीज निगम (Rajasthan State Seed Corporation) ने राज्य में राजीव गांधी किसान बीज उपहार योजना (Rajiv Gandhi Kisan Seed Gift Scheme) की शुरूआत की है. निगम से बीज खरीदने वाले किसानों (Farmers) को इसके तहत प्रत्येक जिले में लॉटरी के जरिये एक-एक ट्रैक्टर दिया जाएगा.

निगम के अध्यक्ष धीरज गुर्जर ने बताया कि निगम द्वारा उपलब्ध कराये जाने वाले बीजों (Seeds) को वैज्ञानिकों ने तैयार किया है. उन्होंने बताया “ उपहार निगम से बीज खरीदने वाले किसानों को दिया जाएगा. बीज के थैले में एक कूपन उपलब्ध रहेगा. कूपन के आधार पर विजेता को उपहार दिया जाएगा. ”

इसके तहत प्रत्येक जिले में एक किसान को ट्रैक्टर दिया जाएगा. साथ ही. 20 किसानों को बैटरी चालित स्प्रेयर मशीन और 30 किसानों को टॉर्च दी जाएगी. उन्होंने बताया कि राजीव गांधी किसान बीज उपहार योजना (Rajiv Gandhi Kisan Beej Uphar Yojana) के अंतर्गत प्रत्येक जिले में 51 उपहार किसानों को लॉटरी के माध्यम से प्रदान किये जाएंगे.

गुर्जर ने बताया कि निगम किसानों के लिए उच्च गुणवत्ता के प्रमाणित बीज उत्पादन कर उचित मूल्य पर ग्राम स्तर तक उपलब्ध करा रहा है.

Rajiv Gandhi Kisan Beej Uphar Yojana

 

agriculture-news-farmers-agricultural-entrepreneurs-SAFAL Simplified Application for Agricultural Loans-launched

Agriculture News SAFAL Simplified Application for Agricultural Loans: किसानों-कृषि उद्यमियों के लिए साझा क्रेडिट पोर्टल शुरू

Latest Agriculture News : ओडिशा के किसानों के लिए अच्‍छी खबर है. मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने किसानों के लिए एक साझा क्रेडिट पोर्टल ‘‘सफल’’ (कृषि ऋण के लिए सरलीकृत ऐप्लीकेशन) SAFAL Simplified Application for Agricultural Loans की शुरुआत की है. मुख्यमंत्री ने पोर्टल की शुरुआत करते हुए कहा कि यह सुविधा किसानों और कृषि-उद्यमियों को 40 से अधिक बैंक के 300 से अधिक सावधि ऋण उत्पादों तक पहुंचने में सक्षम बनाएगी. इसे ‘कृषक ओडिशा’ (krushak odisha) के साथ भी एकीकृत किया गया है और 70 से अधिक मॉडल परियोजना तक इसकी पहुंच संभव होगी. उन्‍होंने कहा कि यह पोर्टल किसानों और कृषि-उद्यमियों के लिए ऋण प्रावधानों में क्रांति ला सकता है.

पोर्टल की शुरुआत होने पर संतोष व्यक्त करते हुए. पटनायक ने कहा कि यह ऐप किसानों (Farmers) और कृषि-उद्यमियों के लिए सार्वजनिक और निजी क्षेत्र के बैंकों. क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों. राज्य सहकारी बैंकों और लघु वित्त बैंकों से औपचारिक रूप से ऋण प्राप्त करने का एकमात्र समाधान है.

मुख्यमंत्री ने कहा कि पोर्टल किसानों और बैंक दोनों को लाभान्वित करने के लिए ऋण आवेदन प्रक्रिया को आसान बनाएगा. पटनायक ने कहा कि यह पोर्टल किसानों को उनके ऋण आवेदन के हर चरण में सूचनाएं भेजकर सूचना विषमता को भी कम करेगा.

पटनायक ने कहा कि ‘‘सफल’’ सरकार को राज्यों में औपचारिक ऋण की मांग और वितरण की पूरी दृश्यता प्रदान करेगा और सुनिश्चित करेगा कि योजनाएं डेटा-समर्थित तरीके से तैयार की गई हों.

उन्होंने आशा व्यक्त की कि ‘‘सफल’’ SAFAL Simplified Application for Agricultural Loans ओडिशा में कृषि (Agriculture) और संबद्ध क्षेत्रों को बढ़ावा देने और लंबे समय में किसानों की आर्थिक शक्ति को बढ़ाने के लिए ऋण की सुविधा प्रदान करेगा.

Madhya Pradesh Sidhi Two arrested for 65 year old Dalit woman rape

Madhya Pradesh Dalit Woman Rape : 65 साल की दलित महिला से रेप करने वाले दो लोग गिरफ्तार

सीधी: मध्य प्रदेश के सीधी जिले में 65 वर्षीय दलित महिला के साथ शराब पीकर बलात्कार (Dalit Woman Rape) करने के आरोप में दो लोगों को गिरफ्तार किया गया है.

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अंगुलता पटाले ने पीटीआई-भाषा को बताया कि घटना मंगलवार को कोतवाली थाना क्षेत्र की है और यौन उत्पीड़न के बाद महिला को एक दिन के लिए अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा.

आरोपी (35 और 40 साल) को बुधवार को बलात्कार और अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति (अत्याचार निवारण) अधिनियम (SC/ST Act) के प्रावधानों के लिए गिरफ्तार किया गया था. आरोपी और पीड़िता एक-दूसरे को जानते थे. उन्होंने कहा कि एक अदालत ने दोनों आरोपियों को न्यायिक हिरासत में भेज दिया है.

Madhya Pradesh Sidhi Two arrested for 65 year old Dalit woman rape

सुभाष चंद्र बोस और डॉ. बीआर आंबेडकर की मुलाकात डॉ. आंबेडकर के पास थीं 35000 किताबें… जब पहली बार कांशीराम ने संसद में प्रवेश किया, हर कोई सीट से खड़ा हो गया जब कानपुर रेलवे स्‍टेशन पर वाल्‍मीकि नेताओं ने किया Dr. BR Ambedkar का विरोध खुशखबरी: हर जिले में किसान जीत सकते हैं ट्रैक्‍टर कांशीराम के अनमोल विचार व कथन जो आपको पढ़ने चाहिए Dr. Ambedkar Degrees : डॉ. आंबेडकर के पास कौन-कौन सी डिग्रियां थीं ‘धनंजय कीर’, जिन्होंने लिखी Dr. BR Ambedkar की सबसे मशहूर जीवनी
सुभाष चंद्र बोस और डॉ. बीआर आंबेडकर की मुलाकात डॉ. आंबेडकर के पास थीं 35000 किताबें… जब पहली बार कांशीराम ने संसद में प्रवेश किया, हर कोई सीट से खड़ा हो गया जब कानपुर रेलवे स्‍टेशन पर वाल्‍मीकि नेताओं ने किया Dr. BR Ambedkar का विरोध खुशखबरी: हर जिले में किसान जीत सकते हैं ट्रैक्‍टर कांशीराम के अनमोल विचार व कथन जो आपको पढ़ने चाहिए Dr. Ambedkar Degrees : डॉ. आंबेडकर के पास कौन-कौन सी डिग्रियां थीं ‘धनंजय कीर’, जिन्होंने लिखी Dr. BR Ambedkar की सबसे मशहूर जीवनी
सुभाष चंद्र बोस और डॉ. बीआर आंबेडकर की मुलाकात डॉ. आंबेडकर के पास थीं 35000 किताबें… जब पहली बार कांशीराम ने संसद में प्रवेश किया, हर कोई सीट से खड़ा हो गया जब कानपुर रेलवे स्‍टेशन पर वाल्‍मीकि नेताओं ने किया Dr. BR Ambedkar का विरोध खुशखबरी: हर जिले में किसान जीत सकते हैं ट्रैक्‍टर
सुभाष चंद्र बोस और डॉ. बीआर आंबेडकर की मुलाकात डॉ. आंबेडकर के पास थीं 35000 किताबें… जब पहली बार कांशीराम ने संसद में प्रवेश किया, हर कोई सीट से खड़ा हो गया जब कानपुर रेलवे स्‍टेशन पर वाल्‍मीकि नेताओं ने किया Dr. BR Ambedkar का विरोध खुशखबरी: हर जिले में किसान जीत सकते हैं ट्रैक्‍टर