SC Scholarship

ADMISSION NOTIFICATION FOR FREE TRAINING TO SC ST UNEMPLOYED YOUTHS 1

सुनहरा मौका: SC/ST युवा विभिन्‍न कोर्सों की फ्री में पाएं ट्रेनिंग व 1000 मासिक वजीफा, जानें आवेदन की लास्‍ट डेट और सब कुछ

नौकरी चाहने वाले शिक्षित बेरोजगार अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति के युवाओं (Educated Unemployed Scheduled Caste/Scheduled Tribe Job Seekers) को मुफ्त प्रशिक्षण देने के लिए राष्ट्रीय कैरियर सेवा केंद्र, रोजगार महानिदेशालय, श्रम और रोजगार मंत्रालय, भारत सरकार के अधीनस्थ कार्यालय अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति, दिल्ली द्वारा आवेदन आमंत्रित किए गए हैं. दिल्‍ली में रहने वाले सभी अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति के शिक्षित बेरोजगार; युवा (SC/ST Educated Unemployed Youths) विभिन्‍न कोर्सों के लिए इसमें आवेदन करने के पात्र हैं. प्रशिक्षण कार्यक्रम का विवरण द्विभाषी में पीडीएफ फाइल के रूप में संलग्न है. हर महीने 1000 रुपये का वजीफा भी दिया जाएगा.

आवेदन कैसे करें: इच्छुक शिक्षित बेरोजगार अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति के युवा (SC/ST Educated Unemployed Youths) जो पात्र और इच्छुक हैं, वे व्यक्तिगत रूप से केंद्र पर जा सकते हैं और आवेदन पत्र जमा कर सकते हैं और निर्धारित दस्तावेजों के साथ जमा कर सकते हैं.

आवश्यक दस्तावेज (स्वप्रमाणित): 10 वीं की मार्कशीट, 12 वीं की मार्कशीट, आईटीआई की मार्कशीट, ग्रेजुएशन की मार्कशीट, पोस्‍ट ग्रेजुएट मार्कशीट, एससी/एसटी जाति प्रमाण पत्र, पारिवारिक आय प्रमाण पत्र, आधार कार्ड की कॉपी, रोजगार एक्‍सजेंज पंजीकरण कार्ड, फ्रंट पेज बैंक पासबुक कॉपी, दो हालिया रंगीन साइज आकार के फोटो आवेदन पत्र के साथ संलग्‍न किए जाने हैं.

पाठ्यक्रम :
आईटी –“ओ’” लेवल कंप्यूटर ट्र‍े‍निंग (सॉफ्टवेयर) (नाइटलिट के माध्यम से)
इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी टूल्‍स एंड नेटवर्क बेसिक्‍स, वेब डिजाइनिंग एंड पब्लिशिंग, प्रोग्राल्मग एंड प्रॉब्‍लम सॉल्विंग थ्रू पाइथन, इंटरनेट ऑफ़ थिंग्‍स एंड इट्स एप्लिेकेशन, प्रैक्टिकल, प्रोजेक्ट

“ओ’” लेवल कंप्यूटर हार्डवेयर मेंटेनेंस (सी.एच.एम ) ट्रेनिंग (नाइटलिट के माध्यम से)
इलेक्ट्रॉनिक्‍स कंपोनेंट्स एंड पीसी हार्डवेयर, पीसी आर्किटेक्‍चर, कंप्यूटर पेरिफेरल्‍स एंड नेटवर्किंग सिस्‍टम, सॉफ्टवेयर डायग्‍नोस्टिक्‍स एंड डिबगिंग टूल्‍स, पर्सनालिटी डेवलपमेंट एंड कम्युनिकेशन स्किल्‍स, डिबगिंग- रिपेयर एंड मेंटेनेंस

आवेदन पत्र जमा करने की अंतिम तिथि 31-12-2021 (शुक्रवार) शाम 5:00 बजे तक है.

ध्यान दें :

1. अध्ययन केंद्र का स्थान दिल्ली में होगा कोई बोर्डिंग और रहने की सुविधा प्रदान नहीं की जाएगी.

2. आवेदक नियमित कर्मचारी व नियमित कॉलेज का छात्र नहीं होना चाहिए.

3. उम्मीदवार प्रवेश संबंधी पूछताछ के लिए 011-22372705 पर कॉल कर सकते हैं या आगे की सहायता के लिए ncscnewdelhi@gmail.com पर लिख सकते हैं.

केंद्र का पता: अनुसूचित जाति/ अनुसूचित जनजाति के लिए राष्ट्रीय कैरियर सेवा केंद्र, 9-11, वीआरसी परिसर, विकास मार्ग विस्तार, शांति मुकुंद अस्पताल के पास, कड़कड़डूमा, पूर्वी दिल्ली- 110092

ADDRESS OF THE CENTRE : NATIONAL CAREER SERVICE CENTRE FOR SC/STs, 9-11 ,VRC CAMPUS ,VIKAS MARG EXTENSION , NEAR SHANTI MUKUND HOSPITAL ,KARKARDOOMA,EAST DELHI- 110092

केंद्र तक पहुंचने के लिए Google मानचित्र लिंक (Google Map Link to reach centre) : https://g.co/kgs/rp3r7u

 

 

 

Delhi Jai Bhim Mukhyamantri Pratibha Vikas Yojana SC ST OBC EWS students again get free coaching monthly stipend

SC,ST, OBC, EWS छात्रों के लिए खुशखबरी, फ‍िर मिलेगी फ्री कोचिंग और मासिक वजीफा, मंत्री राजेंद्र पाल गौतम ने किया ऐलान

नई दिल्‍ली : प्रतियोगी परीक्षाओं (Competitive Exams) की तैयारी कर रहे अनुसूचित जाति (Scheduled Caste), अनुसूचित जनजाति (Scheduled Tribe), अन्य पिछड़ा वर्ग (Other Backward Classes) और ईडब्ल्यूएस श्रेणियों (EWS Category) से संबंधित छात्रों के लिए अच्‍छी खबर है. दिल्ली सरकार (Delhi Govt) की जय भीम मुख्यमंत्री प्रतिभा विकास योजना (Jai Bhim Mukhyamantri Pratibha Vikas Yojana) फिर शुरू हो रही है. इस योजना के तहत छात्र जेईई, एनईईटी, सीएलएटी, सिविल सेवा, बैंकिंग, रेलवे, एसएससी आदि प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए निजी संस्थानों से मुफ्त कोचिंग प्राप्त कर सकते हैं. कोरोना महामारी से लगे लॉकडाउन के कारण बंद हुई इस कल्‍याणकारी योजना के दोबारा शुरु होने की घोषणा दिल्‍ली के समाज कल्याण मंत्री राजेन्द्र पाल गौतम ने की.

दलित छात्राओं को सरकारी खर्चे पर फ्री में मिलेगी NEET की कोचिंग, जानें कैसे…

46 पैनलबद्ध निजी कोचिंग संस्थानों से मुफ्त कोचिंग
दिल्‍ली के समाज कल्याण मंत्री राजेन्द्र पाल गौतम (Rajendra Pal Gautam) ने इसकी घोषणा करते हुए कहा कि सिविल सेवा, डॉक्टर, इंजीनियर, वकील, बैंकर आदि बनने का सपना देखने वाले कई छात्र अपने माता-पिता के सामाजिक एवं आर्थिक रूप से कमजोर होने के कारण निजी कोचिंग से वंचित रह जाते हैं. इसे ध्यान में रखते हुए दिल्ली सरकार की जय भीम मुख्यमंत्री प्रतिभा विकास योजना (Jai Bhim Mukhyamantri Pratibha Vikas Yojana) को शरु किया गया, जिसके तहत छात्रों को 46 पैनलबद्ध निजी कोचिंग संस्थानों से मुफ्त कोचिंग दी जाती है. अभी तक 15 हजार छात्र इस योजना के लिए पंजीकरण करा चुके हैं. फ‍िलहाल शुरुआत में शुरुआत में 5000 छात्रों को यह सुविधा मिलेगी. इसके बाद में 15 हजार तक बढ़ा दिया जाएगा.

SC छात्रों को 10वीं के बाद सरकार देती है लाखों की स्‍कॉलरशिप, ऐसे करें अप्‍लाई, पूरी डिटेल

मंत्री राजेंद्र पाल गौतम बताते हैं कि पिछले साल कोरोना महामारी और लॉकडाउन के कारण इस योजना को रोक दिया गया था, लेकिन अब दिल्ली में स्कूल और अन्य गतिविधियां खोलने की जो अनुमति दी गई है, उसे देखते हुए समाज कल्‍याण विभाग ने उक्‍त योजना को फिर से शुरू करने का फैसला किया है. छात्रों के आवेदन आमंत्रित किए जा रहे हैं.

SC छात्रों को city govt स्कीम के तहत दी जाएगी कोचिंग क्लास, जानिए सभी बातें

2,500 रुपये का मासिक वजीफा भी दिया जाएगा
उनके अनुसार, योजना के तहत निजी कोचिंग संस्थान में नि:शुल्क कोचिंग (Free Coaching to SC, ST, OBC, EWS Students) के साथ छात्र को 2,500 रुपये का मासिक वजीफा भी दिया जाएगा, जिसका उपयोग छात्र यात्रा या अध्ययन सामग्री की खरीद के लिए कर सकते हैं. योजना के तहत छात्रों  के पास किसी भी गैर-सूचीबद्ध कोचिंग संस्थानों में शामिल होने और योजना के तहत निर्धारित सीमा के अधीन शुल्क प्रतिपूर्ति प्राप्त करने का विकल्प भी है.

एससी छात्रों को तेलंगाना सरकार दे रही है स्कॉलरशिप, 4 आसान स्टेप में करें Apply

कोचिंग के लिए पात्रता
निशुल्क कोचिंग के लिए छात्र दिल्ली का निवासी और एससी, एसटी, ओबीसी, ईडब्ल्यूएस श्रेणियों से संबंधित होना जरूरी है. साथ ही छात्र की वार्षिक पारिवारिक आय सीमा 8 लाख रुपये तक होनी चाहिए. इसके अलावा छात्र का दिल्ली के स्कूलों से 10वीं और 12वीं कक्षा उत्तीर्ण होना भी जरूरी है.

पहली से 10वीं कक्षा तक के छात्र प्री मैट्रिक स्कॉलरशिप के लिए करें आवेदन, जानें पूरी डिटेल्स

ऐसे करें आवेदन
छात्र संलग्न निर्धारित प्रारूप में प्रवेश के लिए सीधे संस्थान में आवेदन कर सकते हैं. वहीं, संस्थान पात्रता मानदंड को पूरा करने और सीटों की उपलब्धता के आधार पर छात्रों का नामांकन करेगा. नामांकन के बाद संस्थान ऐसे छात्रों की पूरी सूची कोचिंग कार्यक्रम शुरू होने के सात दिनों के भीतर विभाग को देगा. वहीं, जो छात्र गैर-सूचीबद्ध संस्थान में पढ़ना चाहता है तो छात्र सीधे कोचिंग सेंटर को लिखते हुए निर्धारित प्रारूप में आवेदन कर सकते हैं. छात्रों को मुख्यमंत्री प्रतिभा विकास योजना को लिफाफे के सबसे ऊपर लिखना होगा व पत्र को आईटीओ स्थित विकास भवन भेजना होगा.

निशुल्‍क शिक्षा, स्‍कॉलरशिप और सरकार की कल्‍याणकारी शिक्षा योजनाओं के बारे में यहां पढ़ें…

SC Post Matric Scholarship Scheme 2021 Apply Online Eligibility Application Form

SC छात्रों को 10वीं के बाद सरकार देती है लाखों की स्‍कॉलरशिप, ऐसे करें अप्‍लाई, पूरी डिटेल

SC Post Matric Scholarship Scheme 2021 : Apply Online, Eligibility, Application Form : समाज के वंचित तबकों के बच्‍चों में शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए राज्य सरकार और केंद्र सरकार विभिन्न योजनाएं चलाती हैं, लेकिन इनकी जानकारी न होने के चलते ऐसे छात्र इनका लाभ नहीं उठा पाते. इन योजनाओं को आय मानदंड एवं छात्र की श्रेणी के अनुसार लॉन्च किया जाता है. ऐसे में देश के अनुसूचित जाति के छात्रों के बीच शिक्षा को बढ़ावा देने के उद्देश्य को पूरा करने के लिए सरकार की एससी पोस्ट मैट्रिक छात्रवृत्ति स्‍कीम (SC Post Matric Scholarship Scheme 2021) है. इस लेख के माध्यम से हम आपको इस योजना के बारे में पूरी जानकारी देने जा रहे हैं. यानि एससी पोस्ट मैट्रिक छात्रवृत्ति योजना क्या है? इसकी पात्रता, लाभ, विशेषताएं, उद्देश्य, आवश्यक दस्तावेज, आवेदन प्रक्रिया आदि. इसलिए इस योजना के बारे में अनुसूचित जाति के छात्र हर विवरण प्राप्त करने के लिए इस लेख को अंत तक बहुत ध्यान से पढ़ें.

एससी पोस्ट मैट्रिक छात्रवृत्ति 2021 एक केंद्र प्रायोजित योजना है, जिसे केंद्र सरकार (Central Govt) द्वारा शुरू किया गया है और इसे राज्य सरकार प्रशासन और केंद्र शासित प्रदेश प्रशासन के माध्यम से लागू किया गया है. इस योजना के तहत अनुसूचित जाति के छात्रों को मैट्रिक के बाद के स्तर पर वित्तीय सहायता प्रदान की जाती है ताकि वे बिना किसी वित्तीय बाधा का सामना किए अपनी शिक्षा जारी रख सकें. यह ध्यान देने योग्‍य है कि यह योजना केवल भारत में शिक्षा प्राप्त करने के लिए उपलब्ध है. यह योजना उस राज्य की सरकार द्वारा प्रदान की जाती है जहां आवेदक स्थायी रूप से रहता है. इस योजना के तहत स्लॉट की कुल संख्या 4200 है. इस योजना के तहत 12वीं के बाद पढ़ाई कर रहे अनुसूचित जाति के छात्रों को छात्रवृत्ति दी जाएगी.

एससी पोस्ट मैट्रिक स्कॉलरशिप 2021 का लाभ केवल वही छात्र ले सकते हैं, जिनके माता-पिता की सभी स्रोतों से आय 800000 रुपये से अधिक नहीं है.

एससी पोस्ट मैट्रिक छात्रवृत्ति योजना की मुख्य विशेषताएं…
योजना का नाम : अनुसूचित जाति पोस्ट मैट्रिक छात्रवृत्ति योजना
केंद्र सरकार द्वारा इसे शुरू किया गया
लाभार्थी : अनुसूचित जाति के छात्र
उद्देश्य : अनुसूचित जाति के छात्रों को छात्रवृत्ति प्रदान करना
आधिकारिक वेबसाइट यहां क्लिक करें
वर्ष : 2021

एससी पोस्ट मैट्रिक छात्रवृत्ति योजना का उद्देश्य
Scheduled Caste Post Matric Scholarship 2021 का मुख्य उद्देश्य उन सभी छात्रों को छात्रवृत्ति प्रदान करना है जो अनुसूचित जाति के हैं और अपनी वित्तीय स्थिति के कारण अपनी शिक्षा का वित्तपोषण करने में सक्षम नहीं हैं. योजना के सफल क्रियान्वयन से अनुसूचित जाति के सभी विद्यार्थियों को आर्थिक सहायता मिलेगी. प्रत्येक छात्र को शिक्षा का उनका मूल अधिकार मिलेगा. इस योजना के तहत 12वीं कक्षा से आगे शिक्षा प्राप्त करने वाले अनुसूचित जाति के छात्रों पर विचार किया जाएगा. सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय द्वारा अधिसूचित सभी संस्थानों को इस योजना के तहत कवर किया जाएगा.

एससी पोस्ट मैट्रिक छात्रवृत्ति योजना 4 करोड़ छात्रों को मिलेगा लाभ
24 दिसंबर 2020 को, केंद्र सरकार ने योजना के लिए 59,048 करोड़ रुपये की राशि स्वीकृत की है. इसमें से 59,048 करोड़ रुपये, 35,534 करोड़ रुपये केंद्र सरकार द्वारा प्रदान किए जाएंगे, जिसमें कुल राशि का 60% शामिल है. बाकी खर्च राज्य सरकार करेगी.

अब केंद्र सरकार अगले पांच वर्षों में योजना के तहत कुल सहायता राशि का 60% खर्च करेगी. इस योजना से करीब 4 करोड़ छात्रों को फायदा होने वाला है. इस योजना के तहत, लाभ राशि सीधे लाभार्थियों के बैंक खाते में आधार सक्षम भुगतान प्रणाली के माध्यम से प्रत्यक्ष लाभ हस्तांतरण के माध्यम से हस्तांतरित की जाएगी. योजना के तहत निगरानी तंत्र को मजबूत करने के लिए सोशल ऑडिट भी होगा.

एससी पोस्ट मैट्रिक छात्रवृत्ति योजना का क्रियान्वयन
एससी पोस्ट मैट्रिक छात्रवृत्ति 2021 के प्रभावी कार्यान्वयन के लिए राज्य सरकार को लाभार्थियों और संस्थानों की पात्रता का आकलन करने के लिए दिशानिर्देश तैयार करने की आवश्यकता है. योजना के कुल व्यय के लिए राज्य सरकार को केंद्र सरकार से सहायता प्राप्त होगी. हर साल मई-जून में इस योजना की घोषणा की जाएगी. वे सभी छात्र जो किसी अन्य राज्य के हैं और किसी अन्य राज्य में पढ़ रहे हैं, उन्हें उस राज्य द्वारा छात्रवृत्ति दी जाएगी, जिससे वे संबंधित हैं.

SCHEME OF POST MATRIC SCHOLARSHIPS TO THE STUDENTS BELONGING TO SCHEDULED CASTES FOR STUDIES IN INDIA (PMS-SC) (With effect from 2020-2021)

एससी पोस्ट मैट्रिक छात्रवृत्ति योजना के तहत छात्रवृत्ति राशि
पूर्ण शिक्षण शुल्क (गैर-वापसी योग्य शुल्क सहित): निजी क्षेत्र के संस्थानों में पढ़ने वाले छात्रों के लिए प्रति वर्ष 2 लाख रुपये और निजी क्षेत्र के फ्लाइंग क्लब के लिए 3.72 लाख रुपये प्रति वर्ष
रहने का खर्च: 3000/ – प्रति छात्र प्रति माह
किताबें और स्टेशनरी: रु. 5000/- प्रति छात्र प्रति वर्ष
कंप्यूटर/लैपटॉप के लिए: रु. 45000/- एकमुश्त सहायता

नोट: सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय इस एससी स्कॉलरशिप के लिए फंड देगा. केंद्र सरकार द्वारा डीबीटी मोड के माध्यम से शिक्षण शुल्क और गैर-वापसी योग्य शुल्क सीधे संस्थान को भुगतान किया जाएगा और अन्य खर्चों का भुगतान सीधे छात्र के बैंक खाते में डीबीटी पद्धति से किया जाएगा

Scheme Guidelines for PMS SC revised in March 2021 pdf (size :2.68MB)

एससी पोस्ट मैट्रिक छात्रवृत्ति योजना (SC Post Matric Scholarship Scheme 2021) की पात्रता मानदंड
-आवेदक भारत का स्थायी निवासी होना चाहिए
-आवेदक पोस्ट-मैट्रिक स्तर पर अध्ययनरत होना चाहिए
-आवेदक अनुसूचित जाति वर्ग से संबंधित होना चाहिए
-यदि प्राप्त आवेदन उपलब्ध स्लॉट से अधिक हैं तो सरकार शीर्ष छात्रों को योग्यता के अनुसार छात्रवृत्ति देगी
-यदि समान अंक वाले एक से अधिक छात्र हैं तो परिवार की कम आय वाले छात्र को छात्रवृत्ति दी जाएगी।
-उपलब्ध स्लॉट का 30% अनुसूचित जाति की छात्राओं के लिए आरक्षित होगा
-एक परिवार के केवल 2 छात्र ही योजना का लाभ ले सकते हैं
-आवेदक के माता-पिता की आय 800000 रुपये से अधिक नहीं होनी चाहिए
-यदि छात्र अगले सेमेस्टर या कक्षा में पदोन्नत होने में विफल रहता है तो छात्रवृत्ति समाप्त कर दी जाएगी

आवेदन करने के लिए आवश्यक दस्तावेज
आधार कार्ड
राशन कार्ड
आय प्रमाण पत्र
जाति प्रमाण पत्र
निवास प्रमाण
आयु प्रमाण
आईडी कार्ड
पासपोर्ट साइज की तस्वीर
मोबाइल नंबर
बैंक विवरण

एससी पोस्ट मैट्रिक छात्रवृत्ति योजना (SC Post Matric Scholarship 2021) की ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया
-सबसे पहले राष्ट्रीय छात्रवृत्ति पोर्टल की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं (Apply करने के ल‍िए यहां क्लिक करें)
-आपके सामने होम पेज खुलेगा
-होमपेज पर आपको न्यू रजिस्ट्रेशन पर क्लिक करना होगा
-अब आपको सभी नियम-कायदों को पढ़कर डिक्लेरेशन पर टिक करना है
-इसके बाद आपको जारी रखें पर क्लिक करना होगा
-उसके बाद आपके सामने एक नया फॉर्म खुलेगा
-आपको अपना नाम, जन्म तिथि, मोबाइल नंबर, लिंग आदि जैसे सभी आवश्यक विवरण दर्ज करने होंगे
-उसके बाद आपको रजिस्टर पर क्लिक करना है
-अब आपको अपने छात्र पंजीकरण आईडी के माध्यम से लॉगिन करना होगा
-अब आपको एप्लीकेशन फॉर्म आइकॉन पर क्लिक करना है
-अब आपकी स्क्रीन पर एक आवेदन पत्र प्रदर्शित होगा
-आपको छात्रवृत्ति श्रेणी का चयन करना होगा
-उसके बाद, आपको इस फॉर्म में सभी आवश्यक जानकारी दर्ज करनी होगी जैसे आपका नाम, जन्म तिथि, पिता का नाम, आधार कार्ड नंबर, मोबाइल नंबर आदि।
-उसके बाद आपको सेव एंड कंटिन्यू पर क्लिक करना है
-अब आपको सभी आवश्यक दस्तावेज अपलोड करने होंगे
-उसके बाद आपको फाइनल सबमिशन पर क्लिक करना है
-इस प्रक्रिया का पालन करके आप योजना के लिए आवेदन कर सकते हैं

एससी पोस्ट मैट्रिक छात्रवृत्ति की ऑफलाइन आवेदन प्रक्रिया
योजना के संबंधित विभाग में जाएं
अब आपको संबंधित विभाग से योजना के लिए आवेदन पत्र लेना होगा
उसके बाद आपको इस फॉर्म में सभी आवश्यक जानकारी भरनी है
अब आपको सभी आवश्यक दस्तावेज संलग्न करने होंगे
इसके बाद आपको यह फॉर्म उसी विभाग में जमा करना होगा

Scholarship

दलित विद्यार्थियों को पढ़ाई के साथ मिलेगा वजीफा, 19 जून है आवेदन की आखिरी तारीख

लखनऊ. उत्तर प्रदेश के शिक्षा विभाग (Uttar Pradesh Government) द्वारा राज्य के अनुसूचित जाति के छात्रों (Financial Help for Schedule caste students) को पढ़ाई के साथ वजीफा दिया जा रहा है. जो भी छात्र 9 से 11 कक्षा में दाखिला ले चुके हैं वो इसके लिए आवेदन कर सकते हैं.

राज्य सरकार द्वारा जारी किए गए निर्देशों के अनुसार वजीफे का लाभ चयनित विद्यार्थियों को चालू शिक्षा सत्र से ही मिलना शुरू हो जाएगा.

वजीफे आवेदन के लिए पात्रता

– कक्षा 9वीं से 11वीं तक के छात्र जो इस सत्र के लिए स्कूल में दाखिला ले चुके हों.

– छात्र के पास अनुसूचित जाति का प्रमाण पत्र होना अनिवार्य है.

– जिला स्तर पर कक्षा 8 व 10 में पास होने वाले मेधावी छात्र-छात्राओं को प्रवेश दिलाने के लिए लिखित परीक्षा कराई जाएगी जिसके लिए 19 जून तक निर्धारित प्रारूप पर आवेदन पत्र डीआईओएस दफ्तर में जमा कराए जाएंगे.

अनुसूचित जाति के छात्रों को मिलेगी कितनी आर्थिक सहायता?

– राज्य सरकार द्वारा जारी की गई विज्ञप्ति के अनुसार कक्षा 9 के प्रत्येक विद्यार्थी को 75,500 रुपये तक की आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी.

– कक्षा 11 के प्रत्येक विद्यार्थी को 1,25,000 रुपये की धनराशि सालाना वजीफा के रूप में दी जाएगी.