Bihar

Bihar News, Bihar Hindi News, बिहार, बिहार हिंदी न्‍यूज़, बिहार दलित न्‍यूज़, Bihar Dalit News

Bihar MLC Chunav 2022 RJD Lalu Yadav gave ticket to Dalit Munni Devi Rajak

रेलवे प्‍लेटफॉर्म पर लोगों के कपड़े धोने वाली दलित मुन्‍नी रजक को लालू यादव ने दिया MLC टिकट

नई दिल्‍ली/पटना: (Bihar MLC Chunav 2022) बिहार विधान परिषद चुनाव 2022 (Bihar Legislative Council Election 2022) के लिए लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) के नेतृत्‍व वाली राष्‍ट्रीय जनता दल (RJD) द्वारा 3 नामों की घोषणा की गई है, उसमें मुन्नी देवी उर्फ मुन्नी रजक (RJD MLC Candidate Munni Rajak) की चर्चा पूरे देश में हो रही है. दलित मुन्‍नी रजक (Dalit Munni Rajak), जिनका जीवनयापन का जरिया कपड़े धोना, इस्त्री करना है, जिनके पास मोबाइल तक नहीं है, आरजेडी की ओर से उन्‍हें यह सम्‍मान दिए जाने की हर ओर सराहना हो रही है. इस सम्मान को पाकर मुन्नी देवी काफी खुश हैं. यहां तक की नामों की घोषणा के बाद लालू के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव (Tej Pratap Yadav) ने उन्हें खुद अपनी गाड़ी से उन्हें घर तक छोड़ने गए.

Scheduled Caste: अनुसूचित जाति के भूमि आवंटियों के वारिसों को 50 साल बाद मिलेगा जमीन का कब्जा

दरअसल, नालंदा के बख्तियारपुर (Bakhtiyarpur of Nalanda) की रहने वाली मुन्‍नी देवी दलित (Dalit Munni Devi) हैं और रजक समुदाय (Rajak Community) से आती हैं. मुन्नी रजक पेशे से कपड़े धोने का काम करती हैं. वह राजद महिला प्रकोष्ठ (RJD Women’s Cell) की महासचिव हैं. आरजेडी ने आर्थिक रूप से कमजोर और पिछड़ी जाति की महिला को टिकट देकर बिहार में एक बार फिर से बड़ा संदेश दिया है. इस सम्मान को पाकर मुन्नी देवी काफी खुश नजर आईं और उन्होंने लालू प्रसाद यादव, राबड़ी देवी, तेजस्वी यादव, तेजप्रताप यादव और मीसा भारती (Lalu Prasad Yadav, Rabri Devi, Tejashwi Yadav, Tej Pratap Yadav and Misa Bharti) का अभार प्रकट किया. इस सम्‍मान के लिए बोलते-बोलते मुन्नी रजक भावुक भी हो गईं.

Dr. BR Ambedkar.. महिलाओं के हितों व अधिकारों के संवेदनशील योद्धा एवं पुरोधा

आरजेडी ने बिहार विधान परिषद चुनाव 2022 (Bihar MLC Chunav 2022) के लिए जिन 3 नामों की घोषणा की, उनमें एक अल्पसंख्यक युवा कारी शोएब हैं, दूसरी दलित महिला मुन्नी देवी और एक ब्राह्मण अशोक पांडेय हैं. इस फैसले के बाद तेज प्रताप यादव मुन्नी देवी ने मुन्नी देवी को राजनीति के गुर सीखने को कहा.

देखें क्‍या कहा मुन्‍नी रजक ने…

नारी राष्ट्र निर्मात्री है, हर नागरिक उसकी गोद में पलता है… महिला उत्‍थान पर Dr. Ambedkar के प्रयास

बता दें कि मुन्‍नी देवी आरजेडी की बेहद सक्रिय महिला कार्यकर्ता मानी जाती हैं. पिछले दिनों जब लालू यादव के घर सीबीआई की छापेमारी हुई तो इस दौरान पूरे दिन मुन्नी रजक सीबीआई के खिलाफ नारेबाजी करती रही थीं. उनका यह वीडियो भी अब सोशल मीडिया पर वायरल है.

Dr. Ambedkar ने लिखा लेख, लड़कियों को भी अनिवार्य शिक्षा मिले

बिहार विधान परिषद का टिकट मिलने के बाद मुन्नी देवी ने मीडिया से बात की. उन्‍होंने कहा कि लालू यादव जी के यहां से मुझे फोन कर बुलाया गया. मुझे लगा वट सावित्री पूजा होने के चलते उन्‍हें कोई उपहार जरूर मिलेगा. उन्होंने कहा कि मैं आज भी परिवार का गुजारा कपड़े धोकर करती हूं. न मेरे पास अपना घर है न जमीन है. भाड़े के घर में रहती हूं. ऐसी गरीब महिला को टिकट देकर आरजेडी ने साबित कर दिया कि हर किसी का ख्याल लालू प्रसाद यादव रखते हैं. मुन्नी देवी ने कहा कि आज लोग लालू प्रसाद यादव को फंसाने का काम कर रहे हैं, जबकि वो गरीबों का ख्याल रखते हैं.

(Bihar MLC Chunav 2022)

Bihar Bhojpur Dalit murder Vitan Ratan Singh said Fear of law ends in Nitish Raj

Bihar: दलित की ईंट-पत्‍थर मारकर हत्‍या, विनय रतन सिंह बोले- नीतीश राज में कानून का डर खत्‍म

आरा: बिहार (Bihar) में दलितों के प्रति उत्‍पीड़न (Oppression against Dalits) के मामले रोज सामने आ रहे हैं, लेकिन राज्‍य सरकार सख्‍ती से इन्‍हें रोक पाने की ओर कदम नहीं उठा पा रही. भोजपुर जिले के चांदी थाना क्षेत्र के बहियारा गांव से भी ऐसा ही दिल दहला देने वाला मामला सामने आया है. यहां मंगलवार रात एक अधेड़ दलित की ईंट-पत्थर से मार-मारकर हत्या (Dalit Murdered) कर दी गई. केवल यही नहीं, इसके बाद उसके शरीर पर गर्म पानी उड़ेल दिया गया, जिसके कारण उसका शरीर पूरी तरह झुलस गया.

मृतक का शव बुधवार सुबह सब्जी के खेत से बरामद हुआ. इससे आसपास के इलाके में सनसनी फैल गई. मृतक की पहचान 58 वर्षीय हरिद्वार पासवान के रूप में हुई है. वह गांव पर ही रहकर सब्जी की खेती करते थे. पुलिस की ओर से बुधवार को शव का पोस्टमार्टम सदर अस्पताल में कराया गया.

भीम आर्मी भारत एकता मिशन के संस्थापक और राष्ट्रीय अध्यक्ष विनय रतन सिंह ने इस घटना की कड़ी निंदा करते हुए बिहार (Bihar) पुलिस से मांग की है कि दोषियों को जल्‍द गिरफ्तार कर उन्‍हें सजा दिलाई जाए. उन्‍होंने ट्वीट में लिखा, बिहार भोजपुर जिले के चांदी थाना क्षेत्र के बहियारा गांव में बुजुर्ग हरिद्वार पासवान की दबंगों ने ईंट व पत्थर मारकर हत्या कर दी गई. @bihar_police दोषियों को गिरफ्तार कर सजा दिलवाई जाए. @NitishKumar सरकार में बिहार अत्याचारों का केंद्र बिंदु बन चुका है कानून का डर खत्म हो चुका है.

 

इस घटना के बारे में बताया जा रहा कि बहियारा निवासी हरिद्वार पासवान मंगलवार सुबह करीब 9 बजे खेत में दवाई छिड़कने के लिए गए थे और उनके साथ उनका भतीजा सुनील कुमार भी था. इस बीच दवाई छिड़काव करने के बाद उनका भतीजा करीब घर वापस चला आया. हरिद्वार पासवान खेत में ही आम के पेड़ के नीचे आराम करने चले गए. शाम को वापस लौटने पर उसने अपने चाचा को वहां नहीं पाया. देर शाम तक जब वह घर वापस नहीं आए तो उनकी खोजबीन की गई. लेकिन, कुछ पता नहीं चल पाया. बुधवार सुबह खेत पर जाते वक्‍त उसने शव को खेत में पड़ा देखा. परिजनों ने इसकी सूचना चांदी थाना को दी. एक रिपोर्ट के अनुसार, शव को देखने से प्रतीत हो रहा कि ईंट-पत्थर से मारपीट करने के बाद शरीर पर गर्म पानी फेंका गया है. पुलिस इस मामले की छानबीन कर रही है.

हरिद्वार पासवान के परिवार में पत्नी विमल देवी, छह पुत्री फुलवंती देवी, रेशमी देवी, कुसुम देवी, सुषमा देवी, लक्ष्मी देवी व लीला देवी एवं एक पुत्र उपेंद्र पासवान है. शव मिलने के बाद मृतक के घर में हाहाकार मच गया. इस घटना के बाद मृतक की पत्नी विमल देवी एवं परिवार के सभी सदस्यों का रो-रोकर बुरा हाल था.

झूठे आरोप लगाकर की दलित युवक की पिटाई, इलाज के लिए ले जाते वक्त मौत; ग्रामीणों का फूटा गुस्सा

सिवान. बिहार के सिवान जिले के प्रखंड क्षेत्र के पनीयाडीह-पड़ौली बाजार के पास स्थित एक गांव में दलित युवक की पिटाई और फिर इलाज के लिए ले जाते वक्त उसकी मौत का मामला सामने आया है. दलित युवक की मौत के बाद ग्रामीणों में आक्रोश देखने को मिला. लोगों ने सड़क पर दलित युवक का शव रखकर प्रदर्शन किया.

मृतक के भाई का कहना है कि उसका बेटा और भाई बुधवार को पनीयाडीह में शटरिंग का काम कर रहे थे. इसी बीच करीब 11 बजे दलित युवक के पास घर बनाने का काम करने से संबंधित एक कॉल आया. जब उनका बेटा और भाई वहां गए तो आरोपियों में शामिल नीतीश ने अपने घर का काम नहीं करने का आरोप लगाते हुए युवक को जातिसूचक गाली दी.

विरोध करने पर की दलित युवक की पिटाई
नीतीश द्वारा जातिसूचक गालियां दिए जाने का विरोध करने पर दलित युवक को जान से मारने की धमकी देते हुए उन्होंने उसकी पिटाई शुरू कर दी. मृतक के भाई का आरोप है कि नीतीश कुमार सहित अन्य लोगों द्वारा पिटाई किए जाने के बाद उनके भाई के सिर पर गंभीर चोट लग गई.

ये भी पढ़ें- युविका चौधरी के ‘भंगी’ वाले बयान पर बोले पति प्रिंस नरूला- ‘ये तो छोटी सी बात है’

उनके शोर मचाने पर आसपास के लोग पहुंचे तो सभी आरोपी फरार हो गए. प्रारंभिक इलाज के लिए दलित युवक को नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया गया. हालांकि डॉक्टर ने युवक को तुरंत शहरी अस्पताल में भर्ती कराने की सलाह दी. पटना ले जाने के दौरान ही रास्ते में युवक की मौत हो गई.

परिवार को न्याय दिलाने की मांग
वहीं, इस घटना पर भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर आजाद ने ट्वीट किया, ‘देश में जाति आधारित नरसंहार भयावह रूप ले रहा है. बिहार के सिवान जिले में घर का काम न करने पर 8 कायरों ने मिलकर एक SC व्यक्ति की बर्बर हत्या कर दी. पुलिस अभी तक सभी हत्यारों को गिरफ्तार नहीं कर सकी है. भीम आर्मी/ASP की टीम मौके पर डटी हुई है पीड़ित परिवार को न्याय दिलाकर रहेंगे.

दलित आवाज़ के यूट्यूब चैनल से जुड़ने के लिए क्लिक करें…

दलित नाबालिग को अगवा कर जबरन करवाया धर्मांतरण, फिर किया निकाह…

पटना. बिहार के जमुई जिले में एक 15 साल की नाबालिग को किडनैप कर पहले जबरन धर्म परिवर्तन कराने और फिर निकाह करने का मामला सामने आया है. घटना चंद्रदीप थाना इलाके की है, जहां पीड़ित परिवार ने पुलिस में शिकायत देते हुए अपनी नाबालिग बेटी को किडनैप कर जबरदस्ती निकाह करने का आरोप लगाया है.

पुलिस शिकायत में पीड़ित लड़की के पिता ने कहा, 23 मई की रात आठ बजे उनकी बेटी शौच करने के लिए बाहर गई थी. उसके बाद से वह घर नहीं लौटी है. 30 मई को पता चला कि दीननगर निवासी मोहम्मद मुस्ताक के पुत्र पप्पू खान ने जबरन उसका धर्म परिवर्तन कराकर उससे निकाह कर लिया है. जब लड़की के परिजन खान के घर पहुंचे, तो उसने गाली-गलौज करते हुए सबको वहां से भगा दिया. साथ ही धमकी दी कि इसकी शिकायत थाने में या कहीं और की तो पर लड़की के पूरे परिवार को जान से मार देगा.

अगल-बगल की लड़कियों को भी उठा लेंगे
उसने धमकी देते हुए कहा कि तुम शिकायत करोगे तो तुम्हारे अगल-बगल की सभी लड़कियों को भी उठा लेंगे. पीड़ित परिवार ने पुलिस से उन लोगों को सुरक्षा देने की मांग करते हुए कहा कि उनकी तादाद गांव में काफी कम है, ऐसे में उन लोगों के साथ कुछ भी अनहोनी हो सकती है.

ये भी पढ़ेंः- UP Assembly Elections 2022: यूपी विधानसभा चुनावों की तैयारी में मायावती, बसपा में किया बड़ा फेरबदल

राज्य में धर्म परिवर्तन संबंधित कानून नहीं
आवेदन मिलने के बाद चंद्रदीप थाना पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है और छानबीन शुरू कर दी गई है. इस मामले पर SDPO का कहना है कि बिहार में धर्म परिवर्तन से संबंधित कोई कानून लागू नहीं है. लेकिन, अपराध के मुताबिक आरोपियों के विरुद्ध सख्त कार्रवाई की जाएगी.

दलित आवाज़ के यूट्यूब चैनल से जुड़ने के लिए क्लिक करें…