Breaking

Rajasthan Police

Rajasthan Dalit oppression Jaisalmer Dalit Dinesh Kumar Meghwal beat with rod put cloth in mouth

राजस्‍थान में दलित उत्‍पीड़न चरम पर, बकरी चरा रहे युवक को मुंह में कपड़ा ठूंस रॉड से मारा

जैसलमेर. राजस्थान (Rajasthan) में रोजाना दलित उत्‍पीड़न (Dalit Atrocities) के मामले सामने आते हैं, लेकिन अशोक गहलोत सरकार (Ashok Gehlot Govt) एवं राजस्‍थान पुलिस (Rajasthan Police) प्रशासन के कोई सख्‍त कदम ना उठाने से इन घटनाओं में कोई कमी आ रही है. अब जैसलमेर (Jaisalmer) जिले में एक दलित युवक (Dalit youth) की लोहे की रॉड से बुरी तरह पिटाई करने का मामला सामने आया है.

यह घटना सांगड़ थाना क्षेत्र के मेघा गांव की है. हालांकि राजस्‍थान पुलिस (Rajasthan Police) ने केस तो दर्ज कर लिया है, लेकिन आरोपी अभी तक उसकी गिरफ्त से बाहर हैं. इस घटना का शिकार हुए पीड़ित दलित दिनेश कुमार मेघवाल (Dinesh Kumar Meghwal) ने पुलिस को बताया कि ”बीते बुधवार की सुबह करीब 11 बजे वो अपने गांव मेघा के पास बकरियां चरा रहा था. उसी वक्‍त गांव के ही दो युवक विक्रम सिंह व महेंद्र सिंह अचानक गाड़ी में आए. इन लोगों ने मुझे वहां बकरियां चराने से मना किया. इससे पहले की मैं कुछ बोलता उन्होंने मेरे मुंह में कपड़ा ठूंस दिया और अपनी गाड़ी में डालकर थोड़ी दूर ले गए.”

Rajasthan: सोसाइटी मैनेजर की मटकी से दलित युवक ने पी लिया पानी तो दी भद्दी जातिसूचक गालियां, देखें Video

दलित उत्‍पीड़न (Dalit Atrocities) के शिकार दिनेश का आरोप है कि ”विक्रम और महेन्द्र सिंह ने उसे लोहे के किसी हथियार से बहुत मारा. वह चिल्‍लाता रहा. पास में मौजूद गांव के ही एक युवक सुरेश ने उसकी चीख सुनी. वह उसे बचाने को आया. सुरेश के आने के बाद ही दोनों युवकों ने मुझे छोड़ा. अगर सुरेश मौके पर नहीं आता, तो शायद मैं बच नहीं पाता. वो मुझे जान से मार देते’.

Asha Kandara : सड़कों पर झाडू लगाने वाली दलित बहन आशा कंडारा ने किया नाम रोशन, बनीं RAS अधिकारी

दिनेश कुमार मेघवाल (Dinesh Kumar Meghwal) ने बताया कि इस हमले की वजह से मैं पहले बेहोश हो गया था. फ‍िर सुरेश ने मेरे परिजनों को बुलाया और मुझे अस्पताल में भर्ती करवाया गया. हमने सांगड़ थाने में केस दर्ज करवा दिया है.”

राजस्थान: आंबेडकर जयंती मनाने और पोस्टर लगाने से नाराज थे दबंग, दलित युवक को पीट-पीटकर मार डाला

वहीं, दलित उत्‍पीड़न (Dalit Oppression) की इस घटना को लेकर रालोपा के संयोजक व सांसद हनुमान बेनीवाल (Hanuman Beniwal) ने इस मामले में ट्वीट करते हुए जैसलमेर पुलिस को संज्ञान लेकर तुरंत कार्रवाई करने की मांग की. इनके अलावा भीम आर्मी (Bhim Army) के जैसलमेर जिलाध्यक्ष हरीश इणखियां ने भी दिनेश से जवाहर अस्पताल में जाकर मुलाक़ात की.

राजस्थान: आंबेडकर जयंती मनाने और पोस्टर लगाने से नाराज थे दबंग, दलित युवक को पीट-पीटकर मार डाला

हनुमानढ़. राजस्थान में हनुमानढ़ जिले के एक गांव में दलित युवक को पीट पीटकर मार डालने का मामला सामने आया है. दलित युवक की मौत का आरोप ओबीसी समुदाय के कुछ लोगों पर लगा है. युवक के घायल होने के बाद उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया था, लेकिन उसने कल दम तोड़ दिया. पुलिस ने बताया है कि मृतक किकरालिया गांव का रहने वाला था और भीम आर्मी का सदस्य था.

मृतक युवक का नाम विनोद बामनिया था. पुलिस ने पीड़ित परिवार की शिकायत के बाद चार में से दो लोगों को गिरफ्तार किया है. दोनों आरोपियों के खिलाफ पोस्टर को फाड़ने और युवक से मारपीट करने के मामले में रिपोर्ट दर्ज की गई है. एफआईआर के मुताबिक, आरोपियों ने युवक को पीटते हुए जातीय टिप्पणियां भी की थीं.

विनोद से बदला लेना चाहते थे आरोपी युवक

पुलिस ने बताया है कि मृतक युवक ने पहले भी कई बार अलग-अलग मामलों को लेकर शिकायत की थी. इस मामले में मृतक के चचेरे भाई और चश्मदीद गवाह मुकेश ने कहा है कि विनोद को इसलिए पीटा गया, क्योंकि उसने इन लोगों के खिलाफ शिकायत की थी. मुकेश ने कहा कि विनोद ने इससे पहले अन्य युवकों के साथ मिलकर आंबेडकर की जयंती मनाई थी और घर के बाहर पोस्टर चिपकाए थे. जिसके बाद आरोपियों ने उन्हें फाड़ दिया और विवाद शुरू हुआ.

पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ आईपीसी की धारा 307, 323, 341, 143 और SC-ST ऐक्ट समेत तमाम धाराओं में तहत केस दर्ज किया है. हालांकि अब विनोद की मौत के बाद पुलिस ने धारा 307 हटाकर धारा 302 लगा दी है, जो हत्या करने पर लगती है.

Gujarat Dalit Gang Rape

16 साल की मासूम से 3 युवकों ने किया गैंगरेप, कुएं में फेंका… और

जोधपुर. राजस्थान के करौली में एक 16 साल की मासूम के साथ 3 युवकों ने हैवानियत (Minor Girl Gangrape) की घटना को अंजाम दिया. यह घटना 29 मई की बताई जा रही है. बच्ची रोजाना की तरह सुबह 9 बजे जंगल में मवेशियों को चराने के लिए गई थी. देर शाम तक जब वह घर नहीं लौटी तो परिजनों ने तलाश शुरू की. कई घंटे खोजने के बाद अगले दिन सुबह एक कुएं से बच्ची की चिल्लाने की आवाज आई, जिसके बाद परिजनों ने उसे बाहर निकाला.

मासूम ने खुद बताई हैवानियत की पूरी कहानी
कुएं से बाहर आने के बाद बच्ची ने परिजनों को अपने साथ हुई हैवानियत की पूरी कहानी बताते हुए कहा कि उसके साथ 3 लोगों ने दुष्कर्म किया. पीड़ित मासूम ने बताया कि शनिवार को दोपहर गांव के 3 युवकों ने उसके साथ सामूहिक दुष्कर्म की वारदात को अंजाम दिया. इतना नहीं उन्हीं आरोपियों में से एक ने दूसरी बार फिर दुष्कर्म की वारदात को अंजाम दिया और कुएं में फेंककर चले गए.

तीनों आरोपियों को पुलिस ने किया गिरफ्तार
बच्ची के परिजनों की तहरीर पर महिला थाना करौली (Rajasthan Police) ने गैंगरेप का मामला दर्ज कर तीनों आरोपियों को हिरासत में ले लिया है. सोशल मीडिया पर बच्ची को न्याय दिलाने के लिए आवाज उठी है. यूजर्स #करौली_SP_को_बर्खास्त_करो ट्रेंड पर ट्वीट कर बच्ची को न्याय देने की मांग कर रहे हैं.

ये भी पढ़ें : जबलपुर : दलित युवक को बुरी तरह मारा, सिर मुंडवाकर थूक चटवाया, गांव में घुमाया

कुछ यूजर्स ने इस घटना का जिक्र करते हुए पूछा है कि आखिरकार कब तक एक मासूम दरिंदगी का शिकार होती रहेगी और प्रशासन घंटों तक मूक दर्शक बनकर बैठा रहेगा.

दलित आवाज़ के यूट्यूब चैनल से जुड़ने के लिए क्लिक करें…

Rajasthan: सोसाइटी मैनेजर की मटकी से दलित युवक ने पी लिया पानी तो दी भद्दी जातिसूचक गालियां, देखें Video

नई दिल्ली/जयपुर. भारतीय संविधान ((Indian Constitution)) में समानता का अधिकार मिलने के बावजूद दलितों (Dalits) को समाज में धिक्कार झेलना पड़ रहा है. सिर्फ अनपढ़ लोग ही नहीं बल्कि शिक्षित लोग भी दलितों के साथ भेदभाव कर रहे हैं. इसका ताजा उदाहरण है भारत-पाकिस्तान सीमा से सटे राजस्थान (Rajasthan) के बाड़मेर जिले (Barmer District) में एक सोसायटी मैनेजर का दलित युवक के साथ दुर्व्यवहार करना.

इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. वायरल वीडियो में देखा जा सकता है कि सोसायटी का मैनेजर दलित युवक पर गुस्सा कर रहा है.

पी लिया था मैनेजर की मटकी से पानी
दलित युवक ने सोसायटी के मैनेजर के मटके से पानी पी लिया था. इसके बाद मैनेजर गुस्सा हो गया और दलित युवक को भद्दी-भद्दी गालियां दी. साथ ही जातिसूचक शब्द कहकर अपमानित किया.

देखें वीडियो: 

ये भी पढ़ेंः- रणदीप हुड्डा के ‘सेक्‍स‍िस्‍ट जोक’ पर भड़कीं ऋचा चड्ढा, कहा- ये ‘घिनौना’ मजाक है

मामला गांव में किसानों के ऋण वितरण के दौरान का बताया जा रहा है. वायरल वीडियो के मामले में फिलहाल किसी भी तरह की शिकायत या मामला दर्ज नहीं की गई है.

बहरहाल इस घटना के बाद एक सरकारी कर्मचारी द्वारा एक दलित युवक के महज पानी की मटकी के हाथ लगाने और उसके पानी पीने पर जातिसूचक शब्दों से अपमानित करने और अभद्र व्यवहार करने के मामले ने समानता की बात पर सवालिया निशान खड़ा कर दिया है.

(हमारे Youtube चैनल से जुड़े रहिए यहां)