Breaking

Madhya Pradesh

High speed truck killed 3 childs of Dalit family Azad Samaj Party warned Damoh administration

तेज रफ्तार ट्रक ने बुझा दिए दलित परिवार के तीन चिराग, आजाद समाज पार्टी ने दमोह प्रशासन को दी चेतावनी

नई दिल्‍ली/दमोह: बीते 4 दिन पूर्व मध्‍य प्रदेश (Madhya Pradesh) के बटियागढ़ थाना अंतर्गत ग्राम आंजनी की टपरियो में एक तेज रफ्तार ट्रक ने हंसते-खेलते दलित परिवार (Dalit Family) का जीवन तहस नहस कर दिया. इस तेज रफतार ट्रक की चपेट में आकर हरिराम अहिरवार के 2 पुत्र और एक पुत्री की मृत्‍यु हो गई. साथ ही हरिराम और उनकी पत्नी गंभीर हालत में आज भी दमोह चिकित्सालय में भर्ती हैं. हरिराम अहिरवार के परिवार से मिलने एवं उनकी समस्याओं को सुनने आजाद समाज पार्टी (कांशीराम) (Azad Samaj Party) के प्रदेश अध्यक्ष कोमल अहिरवार (Komal Ahirwar) अपनी टीम को लेकर मौके पर पहुंचे, जहां मृतकों के परिजनों ने उन्‍हें बताया क‍ि उनके बच्चों की जान बच जाती अगर समय पर एम्बुलेंस आ जाती. दो घंटे बाद एम्बुलेंस आई, जिसमे ऑक्सीजन नहीं थी.

कोमल अहिरवार ने बताया कि मृतक बच्‍चों के परिजनों ने उन्‍हें बताया क‍ि शासकीय चिकित्सालय बटियागढ़ में भी ऑक्सीजन उपलब्ध नहीं थी, इस लापरवाही ने उनके बच्चों की जान ली है. अगर बटियागढ़ पुलिस और RTO विभाग ने इन ओवरलोड डंफरों पर निगरानी रखी होती एवं रोड ठेकेदार ने ग्राम में स्पीड ब्रेकर बनवाए होते तो मेरे तीनों बच्चों की जान बच जाती है. उन्‍होंने कहा कि इन से भी बड़े हत्यारे ग्राम के सरपंच सचिव हैं, जिन्होंने PM आवास योजना का लाभ सिर्फ इसलिए नही दिया क्योंकि हम गरीबी के कारण 20 हजार रुपए नहीं दे पाए थे. अगर मेरी टपरिया की जगह पक्का मकान होता तो मेरा परिवार की सुरक्षा यह घर कर देता पर ऐसा नहीं हो सका और मेरे परिवार के तीनों चिराग बुझ गए.

प्रदेश अध्यक्ष कोमल अहिरवार (Komal Ahirwar) उनकी व्यथा सुनकर भावुक हो गए एवं मृतकों के परिजनों से वादा किया कि मैं दमोह से लेकर दिल्ली तक भी जाना पड़ा तो भी जाऊंगा पर दोषियों को दंड दिलाकर ही रहूंगा. साथ दमोह प्रशासन को चेतावनी दी कि तीन दिन के अंदर सबसे पहले बटियागढ़ अस्पताल में घटना के समय डयूटी पर उपस्थित समस्त अधिकारी कर्मचारियों को निलंबित किया जाए एवं एम्बुलेंस के कर्मचारियों को निलंबित मुकदमा किया जाए.

उन्‍होंने कहा कि RTO विभाग तत्काल ओवरलोडिड ट्रकों को राज सास किया जाए एवं आंजनी ग्राम में ही नहीं प्रत्येक ग्राम में कम से कम 10 स्पीड ब्रेकर बनवाए जाएं. साथ PM आवास के अंतर्गत मकान बनवाने का कार्य शुरू किया जाए एवं 10-10 लाख रुपये राशि की मदद की जाए अन्यथा तीन दिवस बाद भीम आर्मी, आज़ाद समाज पार्टी ग्राम वासियों के साथ मिलकर पूरे 18 Km की सड़क पर अपने हाथों से सड़क खोदकर स्पीड ब्रेकर बनाएंगे, जिसकी जिम्मेदारी दमोह प्रशासन की होगी.

मध्यप्रदेश आजाद समाज पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष के साथ मुख्य रूप से आजाद समाज पार्टी कांशीराम के संभाग उपाध्यक्ष विजय चौधरी, संभाग महासचिव वीरेश सेन, संभाग महासचिव अनुराग चौधरी, संभाग सचिव संदीप, जिला प्रभारी इमरान खान, पूर्व नगर अध्यक्ष यशवंत एवं पथरिया विधान सभा प्रभारी जान मोहम्मद खान एवं विधानसभा सचिव हाकम सिंह के साथ ग्रामवासी उपस्थित थे.

Madhya Pradesh Guna Dalit woman cremated by burning tyre pouring diesel

मध्‍यप्रदेश के गुना में दलित महिला का टायर जलाकर, डीजल डालकर किया अंतिम संस्कार

नई दिल्‍ली/गुना: मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के गुना (Guna) से ऐसा शर्मनाक मामला सामने आया है, जोकि दलितों (Dalits) की दयनीय स्थिति को उजागर करता है. यहां दलितों को आजादी के 70 साल बाद भी एक अदद श्मशान घाट मुहैया नहीं हो पाया है. यहां मृतक के घरवालों को अंतिम संस्‍कार के लिए सारा इंतजाम खुद ही करना पड़ता ;है.

मामला Madhya Pradesh के गुना (Guna District) जिले के बांसाहैड़ा गांव का है, जहां 45 वर्षीय दलित महिला (Dalit Woman) की मौत के बाद गांववालों को न सिर्फ चिता के लिए जरूरी चीजों, बल्कि टीन की चादरों से लेकर शेड तक का इंतजाम खुद करना पड़ा. यहां तक की महिला के शव को टायर और डीजल से जलाना पड़ा.

एक रिपोर्ट के मुताबिक, बांसाहैड़ा गांव की रहने वाली रामकन्या बाई हरिजन का बीते शुक्रवार सुबह 10 बजे निधन हो गया था. इस दौरान बेहद तेज बारिश हो रही थी. इस कारण परिजनों को मृतका का पार्थिव शरीर कई घंटे तक घर में ही रखना पड़ा. जब बहुत देर तक बारिश बंद नहीं हुई तो उसके परिजन और गांववाले पार्थिव शरीर को लेकर उस जगह पहुंचे, जिस जगह अं‍तिम संस्‍कार किया जाता है.

यहां तक जाने के लिए भी कोई पक्की सड़क नहीं है. लोगों को कीचड़ भरे रास्ते से आना जाना पड़ता है. इसकी वजह से कई बार शव के अर्थी से गिरने तक का डर भी बना रहता है.

जब गांव वाले जब रामकन्या का शव लेकर यहां पहुंचे, तो यहां कोई टीन शेड या कोई चबूतरा मौजूद न होने के चलते लोगों ने गांव से 2 टीन की चादरें मंगवाईं. इसके बाद जैसे-तैसे चिता तैयार की गई. बारिश की वजह से लकड़ियां गीली हो चुकी थीं तो कुछ लकड़ियों के नीचे टायर रखकर जलाए गए. इसके बाद ही जाकर चिता ने आग पकड़ी.

इसके बाद शेड के रूप में 10-12 गांववाले खुद ही खड़े हो गए. उसके बाद महिला का डीजल डालकर अंतिम संस्कार किया जा सका. ग्रामीणों का कहना है कि आज तक उनके गांव में श्मशान घाट नहीं बना है. हर बार बारिश में उन्‍हें इसी तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ता है. कई बार प्रशासनिक अधिकारियों को इसकी शिकायत की गई है, लेकिन कोई व्यवस्था नहीं हुई.

गौरतलब है कि इस दलित बहुल इलाके में दलित समुदाय (Dalit Community) के 1000 से अधिक परिवार रहते हैं. लोगों का कहना है कि बारिश में पंचायत की तरफ से भी कोई मदद मुहैया नहीं कराई गई. इसके चलते डीजल और टायरों से चिता को जलाया जाता है.

इस पर आजाद समाज पार्टी के मध्‍यप्रदेश अध्‍यक्ष कोमल अहिरवार ने दलित आवाज़ से बातचीत में कहा कि पूरे देश के 99%गांव में दलितों के शमशान के यही हालत है. देश के 95% गांव आज भी ऐसे हैं, जहां सवर्णों के शमशान घाट अलग हैं, जहां पार्थिव शरीर को जलाने की सम्पूर्ण व्यवस्था है, पर अछूतों के श्‍मशान आज भी अधूरे पड़े हैं. जहां कीचड़ भरे रास्तों से शवों को ले जाना पड़ता है. गीली जगह में सीमेन्ट की बोरी बिछाकर घी की जगह केरोसिन तेल के लिए उचित मूल्य की दुकानों में भीख मांगते हैं. चंदन की लकड़ी तो बहुत बड़ी बात टायर टयूब से शवों को जलते देखा है. मध्यप्रदेश शिवराज सरकार पूरे प्रदेश में और मोदी सरकार भारत के 100% गांवों में श्‍मशान घाट की व्यवस्था करे एवं दलित गरीबों को शवों के अंतिम संस्कार के लिए निशुल्क लकड़ियों का इंतजाम का कानून बनाना चाहिए. जिस दिन आज़ाद समाज पार्टी (कांशीराम) सत्ता में आएगी, उस दिन सबसे पहले ये दोनों काम करेगी.

Dalit girl suicide after obscene remarks Madhya Pradesh Tikamgarh District

रोज अश्‍लील टिप्‍पणियों से परेशान थी दलित किशोरी, की आत्‍महत्‍या

टीकमगढ़ : मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के टीकमगढ़ जिले (Tikamgarh District) के एक गांव में 16 वर्षीय एक दलित किशोरी (Dalit Girl Suicide) ने कथित रूप से गांव के कुछ लड़कों की छेड़छाड़ से तंग आकर आत्महत्या कर ली. यह घटना सोमवार शाम को टीकमगढ़ से करीब 45 किलोमीटर दूर टानगा गांव में हुई.

जतारा पुलिस थाना प्रभारी त्रिवेंद्र त्रिवेदी ने बताया कि 16 वर्षीय किशोरी ने सोमवार शाम को कथित तौर पर सल्फास खा लिया, जिससे हालत बिगड़ने पर उसे यहां जिला चिकित्सालय लाया गया, जहां से उसकी गंभीर हालत को देखते हुए झांसी मेडिकल कॉलेज अस्पताल रेफर कर दिया गया. उन्होंने कहा कि इस बालिका ने वहां उपचार शुरू होने के पहले ही दम तोड़ दिया.

त्रिवेदी ने बताया कि मृतक दलित (Dalit Girl) बालिका के भाई के अनुसार उसकी बहन पर गांव के दो-तीन लड़के हमेशा अश्लील टिप्पणी करते थे और अन्य तरह से तंग करते थे जिसके वजह से उसका घर से निकलना मुश्किल हो गया था.

उन्होंने कहा कि पिछले छह-सात दिनों की छेड़छाड़ से वह बेहद परेशान थी और अपनी परेशानी के बारे में उसने अपने परिजनों को अवगत करा दिया था. इसके बावजूद उसके परिजन द्वारा मामले की सूचना पुलिस को नहीं दी गई.

त्रिवेदी ने कहा कि इस मामले में फिलहाल मामला दर्ज कर लिया गया है और उन कथित मनचलों की पहचान की जा रही है जिनसे तंग आकर किशोरी को अपनी जान गवांनी पड़ी.

Bhim Army Vinay Ratan Singh will Join OBC movement in Bhopal

भोपाल में OBC आंदोलन होगा और ताकतवर, भीम आर्मी के विनय रतन सिंह भी होंगे शामिल

भोपाल : मध्‍यप्रदेश (Madhya Pradesh) में ओबीसी महासभा (OBC Mahasabha) द्वारा अपनी मांगों को लेकर आगामी 28 जुलाई को किए जाने वाले मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chauhan) के आवास घेराव कार्यक्रम में भीम आर्मी (Bhim Army) भी सक्रियता से भाग लेगी. भीम आर्मी (Bhim Army) के राष्ट्रीय अध्यक्ष विनय रतन सिंह (Vinay Ratan Singh) भोपाल में होने वाले OBC आंदोलन में शरीक होंगे. आजाद समाज पार्टी के मध्‍य प्रदेश अध्‍यक्ष कोमल अहिरवार ने दलित आवाज़ को यह जानकारी दी.

कोमल अहिरवार (Komal Ahirwar) ने बताया कि आजाद समाज पार्टी और भीम आर्मी द्वारा मध्‍यप्रदेश में ओबीसी वर्ग (OBC) के संवैधानिक अधिकारों के खिलाफ होने वाले इस विरोध कार्यक्रम में पूरी ताकत के साथ उतरा जाएगा. उन्‍होंने बताया कि इसके लिए विशेष रूप से भीम आर्मी के राष्ट्रीय अध्यक्ष विनय रतन सिंह भोपाल (Vinay Ratan Singh) में होने वाले इस OBC आंदोलन में शरीक होने जा रहे हैं. उनके साथ आजाद समाज पार्टी और भीम आर्मी का हर कार्यकर्ता इस विरोध प्रदर्शन में शामिल होगा.

Saharanpur : राजपूतों ने जबरन कटवाई दलित युवक की दाढ़ी-मूंछ, बोले- हमारी बराबरी करेगा, देखें VIDEO

ASP प्रदेश अध्‍यक्ष कोमल अहिरवार(Komal Ahirwar) ने दलित आवाज़ से बातचीत में कहा क‍ि ओबीसी महासभा द्वारा अपनी मांगों को लेकर आगामी 28 जुलाई को मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के आवास का घेराव किया जाएगा, जिनका हमारी पार्टी पूरी तरह समर्थन करती है.

BHIM ARMY से जुड़ी सभी खबरें यहां क्लिक कर पढ़ें

जबलपुर : दलित युवक को बुरी तरह मारा, सिर मुंडवाकर थूक चटवाया, गांव में घुमाया

उन्‍होंने कहा कि ओबीसी महासभा की मांग है क‍ि NEET में ओबीसी आरक्षण को लागू करने, ओबीसी को उसकी आबादी के हिसाब से आरक्षण दिया जाए, मध्‍यप्रदेश हाईकोर्ट द्वारा ओबीसी के 27 प्रतिशत आरक्षण पर स्‍टे लगाया गया.. सरकार उस पर तत्‍काल नया कानून पारित करे, MPPSC एवं अन्‍य सभी परीक्षाओं में ओबीसी आरक्षण को तत्‍काल प्रभाव से लागू किया जाए, ओबीसी वर्ग में लागू क्रीमीलेयर बाध्‍यता को तत्‍काल समाप्‍त किया जाए और ओबीसी वर्ग के छात्रों की छात्रवृति राशि को तत्‍काल पूरी तरह बहाल किया जाए.

प्रदेश अध्‍यक्ष कोमल अहिरवार ने बताया कि मध्‍यप्रदेश आजाद समाज पार्टी (ASP) की समस्‍त प्रदेश, संभाग एवं जिला, कमेटी को निर्देश दिया गया है कि इस आंदोलन में सहभागिता दर्ज कर ओबीसी समाज को न्‍याय दिलाने का काम करें.

Nemawar Murder Case: नेमावर नरसंहार में चंद्रशेखर आजाद का ऐलान- अब बड़ा आंदोलन होगा

ये भी पढ़ें : सवर्णों की जिद-‘चमार हो, घोड़ी पर बारात नहीं निकलने देंगे’, भीम आर्मी ने भी ठानी…

मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) की सभी खबरें यहां क्लिक पढ़ें…