Dalit girl

Jharkhand East Singhbhum Committee probing Jharkhand Dalit Girl Suicide self immolation submitted report

झारखंड : दलित लड़की के आत्मदाह की जांच कर रही समिति ने सौंपी रिपोर्ट

जमशेदपुर : झारखंड के पूर्वी सिंहभूम जिले (East Singhbhum district of Jharkhand) में आत्मदाह करने वाली दलित लड़की (Dalit Girl Suicide) के मामले की जांच कर रही दो सदस्यीय समिति ने अपनी रिपोर्ट सौंप दी है. परीक्षा में नकल करने का संदेह होने पर एक शिक्षिका द्वारा कथित रूप से कपड़े उतारने के लिए मजबूर किए जाने के बाद छात्रा ने आत्मदाह का प्रयास किया था. एक वरिष्ठ अधिकारी ने यह जानकारी दी. जिले की उपायुक्त विजया जादव ने कहा कि जांच समिति ने रविवार को अपनी रिपोर्ट सौंप दी.

जिले के अधिकारियों ने लड़की के परिजनों को अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति (अत्याचार निवारण) अधिनियम (Scheduled Castes and Scheduled Tribes (Prevention of Atrocities) Act) के प्रावधानों के तहत मुआवजे के रूप में 25,000 रुपये भी सौंपे. जादव ने रविवार को टाटा मेन अस्पताल (Tata main hospital) की बर्न यूनिट का दौरा किया था, जहां 15 वर्षीय लड़की को भर्ती कराया गया है.

अधिकारियों ने कहा कि अधिकारी यह भी सुनिश्चित करेंगे कि उनके परिवार को विभिन्न सरकारी योजनाओं का लाभ मिले.

नौवीं कक्षा की छात्रा ने पुलिस को दिए एक बयान में कहा था कि परीक्षा में नकल के संदेह पर 14 अक्टूबर को महिला निरीक्षक ने परीक्षा के दौरान कक्षा से सटे एक कमरे में उसके कपड़े उतरवाए थे ताकि यह पता चल सके कि उसने नकल की पर्ची अपने कपड़े में छिपाई है या नहीं. छात्रा ने बार-बार नकल की बात से इनकार किया था.

उसकी मां ने दावा किया कि उनकी बेटी इस अपमान को सहन नहीं कर सकी और स्कूल से लौटने के कुछ देर बाद ही उसने खुद को आग लगा ली.

पुलिस ने कहा कि आरोपी शिक्षिका को भारतीय दंड संहिता (आईपीसी), यौन अपराध से बच्चों का संरक्षण (पॉक्सो) कानून और किशोर न्याय अधिनियम की विभिन्न धाराओं के तहत गिरफ्तार किया गया है.

दलित गैंगरेप पीड़िता को अस्पताल में जमीन पर बैठाया गया, मेडिकल के लिए घंटों करना पड़ा इंतजार

लखनऊ. उत्तर प्रदेश में दलित महिलाओं के प्रति होने वाले अपराधों में कमी नहीं आ रही है. आए दिन दलित महिलाओं के साथ रेप, गैंगरेप, छेड़खानी जैसी घटनाएं घटित हो रही हैं. ताजा घटना क्रम में लखीमपुर खीरी जिले के फूलबेहड़ थाना क्षेत्र में दलित युवतियों से गैंगरेप (Gangrape with Dalit Girls) के मामले में एक और लापरवाही सामने आई है.

गैंगरेप की घटना के बाद पुलिस जब युवतियों को मेडिकल (Medical of Dalit gangrape victim) कराने के लिए अस्पताल ले गई तो वहां भी उनके साथ भेदभाव किया गया है. दलित युवतियों को अस्पताल में बैठने के लिए स्टूल तक नहीं दिया गया. रेप पीड़िताएं जमीन पर बैठी रहीं.

रात को पहुंची अस्पताल दोपहर तक नहीं हुआ मेडिकल
रिपोर्ट्स के मुताबिक शनिवार को फूलबेहड़ थाना क्षेत्र में तीन दलित युवतियों से गैंगरेप हुआ. पुलिस इनको रात को मेडिकल के लिए लेकर आई. हालांकि मेडिकल रविवार दोपहर तक होता रहा. मेडिकल के इंतजार में दलित युवतियों को घंटों तक अस्पताल की जमीन पर ही बैठी रहीं.

ये भी पढ़ेंः- झूठे आरोप लगाकर की दलित युवक की पिटाई, इलाज के लिए ले जाते वक्त मौत; ग्रामीणों का फूटा गुस्सा

डीएम ने मांगी जांच रिपोर्ट
घटना की जानकारी मिलते ही मामले पर डीएम अरविंद चौरसिया ने संज्ञान लिया है. एसडीएम सदर से जांच रिपोर्ट मांगी गई है.

दलित आवाज़ के यूट्यूब चैनल से जुड़ने के लिए क्लिक करें…

 

दलित युवती ने लगाया दरोगा पर अभद्रता का आरोप, सोशल मीडिया पर VIDEO VIRAL

नई दिल्ली. उत्तर प्रदेश में एक बार फिर ऐसा मामला सामने आया है, जिसने राज्य की पुलिस कार्रवाई (Uttar Pradesh Police) पर प्रश्न चिन्ह लगाया है.  राज्य के छपरौली थाने के एक दरोगा (Dalit Girl) पर दलित युवती ने अभद्रता करने का आरोप लगाया है.

पीड़िता ने इस घटना का एक वीडियो सोशल मीडिया (Social Media Video) हैंडल पर शेयर किया है. इस वीडियो में दलित पीड़िता ने प्रशासनिक अधिकारियों इंसाफ की गुहार लगाई है.

दलित युवती के घर पर पहुंचे थे दरोगा और सिपाही
लाइव हिंदुस्तान पर प्रकाशित खबर के अनुसार, छपरौली थाने में तैनात एक दरोगा और दो सिपाही दलित युवती के घर पर पहुंचे थे. सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे वीडियो के अनुसार दरोगा और सिपाही ने दलित युवती के घर पहुंचते ही उसके भाई के साथ मारपीट की.

जब युवती अपने भाई को बचाने के लिए आई तो दरोगा ने उसके साथ भी मारपीट की. युवती का आरोप है कि दरोगा ने उसे जातिसूचक शब्द कहे. आरोप है कि पुलिस उसके भाई को पकड़ कर अपने साथ थाने ले गई और उसका चालान कर दिया. हालांकि इस पूरे मामले में दलित युवक पर कार्रवाई क्यों की गई है इसकी वजह सामने नहीं आई है.

Dalit girls will get 51 thousand 'blessings' on marriage

खास तोहफा! विवाह पर दलित लड़कियों को मिलेगा 51 हजार का ‘आशीर्वाद’

चंडीगढ़. पंजाब सरकार ने शादी के वक्त दलित लड़कियों (Dalit Girls) को शादी के वक्त दी जाने वाली ‘आशीर्वाद’ योजना (Punjab Government Ashirwad Scheme) की राशि को सरकार ने बढ़ा दिया है.

पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने मंत्रिमंडल की बैठक के बाद कहा कि इस योजना की राशि को अब 21 हजार से बढ़ाकर 51 हजार रुपये कर दी गई है.

इन लोगों को भी मिल सकता है दोबारा लाभ
दैनिक जागरण पर प्रकाशित खबर के अनुसार पंजाब सरकार की नई योजना 1 जुलाई, 2021 से लागू होगी. अनुसूचित जाति से संबंधित विधवाएं व तलाकशुदा महिलाएं दोबारा विवाह के समय भी इस योजना का लाभ ले सकती हैं.

पंजाब सरकार की आशीर्वाद योजना के तहत इसमें सीधे लाभार्थियों के खाते में राशि डाली जाती है.

दूसरी बार किया गया स्कीम की राशि में विस्तार
मौजूदा सरकार की ओर से स्कीम की राशि में किया गया यह दूसरा विस्तार है, जिसने पहले 2017 में सत्ता संभालने से तुरंत बाद सहायता राशि 15000 रुपये से बढ़ाकर 21000 रुपये की थी और शगुन स्कीम का नाम बदलकर आशीर्वाद योजना रखा गया था.

60 हजार लोगों को होगा फायदा
मंत्रिमंडल की बैठक के बाद राज्य सरकार के प्रवक्ता ने कहा कि इस राशि में वृद्धि से 60 हजार लोगों को फायदा होगा, वहीं सरकारी खजाने पर 180 करोड़ रुपये का बोझ पड़ेगा.

 

सुभाष चंद्र बोस और डॉ. बीआर आंबेडकर की मुलाकात डॉ. आंबेडकर के पास थीं 35000 किताबें… जब पहली बार कांशीराम ने संसद में प्रवेश किया, हर कोई सीट से खड़ा हो गया जब कानपुर रेलवे स्‍टेशन पर वाल्‍मीकि नेताओं ने किया Dr. BR Ambedkar का विरोध खुशखबरी: हर जिले में किसान जीत सकते हैं ट्रैक्‍टर