Cyber ​​attack on Professor Ratanlal's famous Bahujan YouTube channel Ambedkarnama

AMBEDKARNAMA : प्रोफेसर रतनलाल के प्रस‍िद्ध बहुजन यूट्यूब चैनल आंबेडकरनामा पर साइबर हमला

नई दिल्‍ली : समाज के अन्य सभी वर्गों के साथ बहुजन समुदाय (Bahujan Community) को विचारों से परिचित कराने के लिए प्रतिबद्ध यूट्यूब चैनल आंबेडकरनामा (AMBEDKARNAMA) पर साइबर हमला हुआ है. बहुजन समाज एवं बुद्धिजीवी वर्ग के बीच काफी लोकप्रिय आंबेडकरनामा चैनल की प्रसिद्धी से परेशान साइबर हैकरों ने चैनल को हैक कर लिया. फ‍िलहाल साइबर विशेषज्ञ चैनल को सुरक्षित रखने की तकनीकी कवायद में जुटे हुए हैं.

दरअसल, हिंदू कॉलेज में इतिहास के एसोसिएट प्रोफेसर डॉ. रतन लाल (Professor Dr. Ratan Lal) यूट्यूब चैनल आंबेडकरनामा (AMBEDKARNAMA) के संस्‍थापक और प्रधान संपादक हैं. लेखक एवं आंबेडकरवादी क्रांतिकारी डॉ. रतनलाल ‘आंबेडकरनामा’ को एक मिशन में रूप में चलाते हैं. चैनल पर हुए साइबर हमले के बारे में दलित आवाज को जानकारी देते हुए प्रोफेसर रतनलाल ने बताया कि कल सुबह करीब 4 बजे चैनल पर यह साइबर अटैक हुआ. साइबर अटैकर्स ने चैनल के एडमिन-पासवर्ड में छेड़छाड़ की है. इसके बाद वह चैनल पर कुछ पोस्‍ट नहीं पा रहे थे.

Jaipur : पुलिस सुरक्षा में निकली दलित आईपीएस अधिकारी की बारात

प्रोफेसर डॉ. रतन लाल (Professor Dr. Ratan Lal) ने बताया कि इस बाबत साइबर सेल को शिकायत दे दी गई है और एजेंसी जांच में जुटी है. गूगल और यूट्यूब से भी इस बारे में शिकायत दर्ज कराई गई है. उनका कहना है कि अभी चैनल को सुरक्षित करने के लिए साइबर एक्सपर्ट्स की सहायता ली जा रही है. फ‍िलहाल सुरक्षा के मद्देनजर अभी वह चैनल पर कुछ पोस्‍ट नहीं कर रहे हैं.

बता दें कि आंबेडकरनामा चैनल के 1 लाख 27 हजार से ज्‍यादा सबस्‍क्राइबर्स हैं. जुलाई 2012 से शुरू हुए इस चैनल पर अपलोड Videos को 10,772,267 बार देखा जा चुका है.

घर में शौचालय न होने की वजह से शौच के लिए बाहर गई दलित युवती की गैंगरेप के बाद निर्ममता से हत्‍या

दरअसल, YouTube Channel AMBEDKARNAMA एक ऐसा मंच है जो समाज के अन्य सभी वर्गों के साथ-साथ बहुजन समुदाय (Bahujan Community) को महान नेताओं के विचारों से परिचित कराने के लिए प्रतिबद्ध है. प्रोफेसर रतनलाल कहते हैं कि इतिहास इस बात का प्रमाण है कि अद्भुत नेताओं के विभिन्न महान विचारों को या तो स्थान नहीं दिया गया या जानबूझकर हटा दिया गया. आंबेडकरनामा के माध्यम से वह लेख, साक्षात्कार, ब्लॉग और अन्य विभिन्न माध्यमों से सभी प्रामाणिक इतिहास, तथ्य और प्रमाण सबके सामने लाते हैं. अपने उद्देश्‍य में वह कहते हैं कि सामाजिक न्याय के अपने उद्देश्य को साकार करने के लिए अधिक से अधिक लोगों तक पहुंचने के लिए भी प्रतिबद्ध हैं. उनकी दृष्टि ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों माध्यमों से डॉ. बी आर आंबेडकर (Dr. BR Ambedkar) के विचारों को बड़े स्‍तर पर दर्शकों तक पहुंचना है.