Delhi Rahul Gandhi met parents of Dalit girl Nangal Village said their tears only want justice

दिल्‍ली: दलित बच्‍ची के मां-बाप से मिले राहुल गांधी, बोले- ‘उनके आंसू सिर्फ न्‍याय चाहते हैं’

नई दिल्‍ली : दक्षिण पश्चिम दिल्ली के कैंट इलाके में स्थित नांगल गांव (Nangal Village) में दलित बच्‍ची (Dalit Girl) से कथित रेप, संदिग्‍ध मौत और बिना रजामंदी लाश जलाए जाने के मामला तूल पकड़ने के बाद अब राजनेताओं को पीडि़त परिवार से मिलने का दौर शुरू हो गया है. भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर आजाद (Chandrashekhar Azad) और दिल्‍ली के सामाजिक न्‍याय मंत्री राजेंद्र पाल गौतम (Rajendra Pal Gautam) के पीडि़त परिवार से मिलने के बाद बुधवार सुबह कांग्रेस (Congress) के पूर्व अध्‍यक्ष और सांसद राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने भी आज पीड़‍ित पर‍िवार से म‍िलकर उनको न्‍याय द‍िलवाने का भरोसा द‍िया है.

पढ़ें : दिल्‍ली के बाद यूपी के हरदोई में भी दलित बच्‍ची से रेप, हत्‍या कर शव खेत में फेंका

राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने पीड़‍ित पर‍िवार से म‍िलने को लेकर कहा क‍ि मैं नाबाल‍िग लड़की के पर‍िवार से म‍िला. मैंने परिवार से बात की. वे न्याय चाहते हैं और कुछ नहीं. वे कह रहे हैं कि उन्हें न्याय नहीं दिया जा रहा है और उनकी मदद की जानी चाहिए. हम ऐसा करेंगे. राहुल गांधी ने कहा कि ‘मैं आपके साथ खड़ा हूं. न्याय मिलने तक उनके साथ खड़ा हूं’.

Delhi Cantt Dalit Girl Rape & Murder Case की सभी खबरें यहां क्लिक कर पढ़ें… 

इसके तुरंत बाद उन्होंने ट्वीट किया: “उनके माता-पिता के आंसू एक ही बात कह रहे हैं – उनकी बेटी, इस देश की बेटी, न्याय की पात्र है. मैं न्याय के इस पथ पर उनके साथ हूं.”

 

पढ़ें : चंद्रशेखर आजाद का ऐलान, मैं दिल्‍ली में तब तक रहूंगा, जब तक मांगें पूरी नहीं होतीं

बता दें कि इस बीच दिल्‍ली के मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल (CM Arvind Kejriwal) भी पीड़ित परिवार से मिलने जा रहे हैं. वह करीब साढ़ 12 बजे मौके पर पहुंचेंगे. उनसे पहले द‍िल्‍ली सरकार में महिला एवं बाल व‍िकास मंत्री राजेन्‍द्र पाल गौतम ने भी दो द‍िन पहले पीड़ि‍त पर‍िवार से मुलाकात की थी.

पढ़ें- दिल्‍ली: चंद्रशेखर आजाद नांगल गांव में मृतक दलित बच्‍ची के परिवार से मिले, कहा- दोषियों को फांसी हो 

मंगलवार को भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर आजाद भी प्रदर्शन में शामिल हुए थे. उन्‍होंने कहा था कि मामले की उचित तरीके से जांच होनी चाहिए. यह झूठ था कि लड़की की मौत करंट लगने से हुई थी और परिवार की मौजूदगी के बिना उसका अंतिम संस्कार कर दिया. उन्‍होंने कहा कि लड़की के माता-पिता पर भी करंट लगने से मौत होने का बयान देने का दबाव डाला गया.

पढ़ें : दलित बच्‍ची की संदिग्‍ध मौत, रेप, लाश जलाने के मामले की मजिस्‍ट्रेट जांच कराएंगे: राजेंद्र पाल गौतम