Samata Sainik Dal

Dr BR Ambedkar message to soldiers of Samata Sainik Dal

समता सैनिक दल के सैनिकों को बाबा साहब डॉ. बीआर आंबेडकर का संदेश

Dr. BR Ambedkar message to soldiers of Samata Sainik Dal : रविवार 8 जनवरी, 1939 को प्रातः परेल मुंबई के कामगार मैदान पर समता सैनिक दल के सैनिकों की परेड का कार्यक्रम संपन्‍न हुआ. इसमें डॉ. बाबासाहेब भीमराव आंबेडकर (Dr. Babasaheb Bhimrao Ambedkar) ने Samata Sainik Dal सैनिकों को सम्बोधित किया.

Samata Sainik Dal: महाड़ आंदोलन के डॉ. आंबेडकर के संघर्ष में समता सैनिक दल की अहम भूमिका

डॉ. बाबासाहेब भीमराव आंबेडकर (Dr. Babasaheb Bhimrao Ambedkar) अपने संबोधन में कहा कि, ‘समता सैनिक दल का सैनिक अर्थात समाज सेवा के लिए सर हथेलीपर रखकर लड़ाई के लिए सज्ज हुआ निर्भय योद्धा ही कहना चाहिए. मानवता के लिए समानता का उज्वल तत्व अंतःकरण में प्रज्वलित कर अपने कार्य की उसने पुर्तता करनी चाहिए. इसके लिए सभी ने प्रतिज्ञा लेकर किसी भी प्रकार का जातिभेद (Caste Discrimination) नहीं मानूंगा – महार, मांग, भंगी जैसे ऊंच-नीचता के भेद नहीं मानूंगा. मैं इंसान हूं, सभी से इंसानियत की तरह बर्ताव करूंगा और विषमता के जहरीले बीज समाज से नष्ट करूंगा. इस प्रकार आज से दृढ़तापूर्वक पालन करना चाहिए. ऐसी प्रतिज्ञा करने वाले व्यक्ति को ही समता सैनिक दल (Samata Sainik Dal) का सच्चा सैनिक समझना चाहिए. कुल ऐसी स्थिति का विचार करते हुए अपना दल आजादी की लड़ाई पिछड़े वर्ग के मोर्चें की एक लड़ाकू टुकड़ी है. यह पूर्णतः ध्यान में रखें. आपने अपने हर एक कृति से देश के आदर्श सैनिक बनना चाहिए. आपकी ओर देखते ही सैनिक दल का एक उत्कृष्ठ नमूना इस दृष्टि से आपका सारे संसार में नाम होना चाहिए. अच्छे गुण, अनुशासन और संगठन इनके द्वारा आपका दल फौलादी बनना चाहिए.’

Dalit History (13th March): डॉ. आंबेडकर ने इन आदर्शों के साथ समता सैनिक दल की स्थापना की

Samata Sainik Dal role in struggle of Dr BR Ambedkar Mahad movement

Samata Sainik Dal: महाड़ आंदोलन के डॉ. आंबेडकर के संघर्ष में समता सैनिक दल की अहम भूमिका

Samata Sainik Dal role in struggle of Dr. BR Ambedkar’s Mahad movement : महाड़ आंदोलन (Mahad Satyagraha) से पांच दिवस पूर्व, 13 मार्च, 1927 रविवार को मुंबई में सुभेदार सवादकर की सहायता से ‘समता सैनिक दल’ (Samata Sainik Dal) की स्थापना की गई. प्रारंभ में इस दल में अधिकतर सेना से निवृत्त सैनिक थे, जिसमें आयुष्मान शंकर वडवलकर, धागांवकर हवालदार, अर्जून जातेकर, लोटेकर, सिताराम हाटें वीरकर, गोपाल आचलोलकर, कृष्णा तांबे तथा सुभेदार सवादकर इत्यादी. इसमें सुभेदार सवादकर अधिक लढाऊ तथा धूरंधर सैनिक थे. वे इन सबमें अग्रक्रम में थे.

कुलाबा जिला बहिष्कृत परिषद् (Colaba jila bahishkrit parishad) की बैठक महाड़ (Mahad) में सि.प्राना. मंडल के नाट्यगृह में 19 तथा 20 मार्च, 1927 को आयोजित की गई थी. परिषद् में 3000 से भी अधिक अछूत लोग जमा हुए थे. अधिवेशन समाप्ति के समय मा. अनंत विनायक चित्रे कहा, ‘आज इतनी महत्वपूर्ण परिषद् आयोजित की गई है, इसके द्वारा कुछ महत्वपूर्ण कार्य किए बिना हमारा अधिवेशन समाप्त नहीं होना चहिए, ऐसा मुझे लग रहा है. इस महाड़ शहर (Mahad City) में अछूतों को पीने के पानी (Drinking Water for the Untouchables) के लिए काफी मुसीबत उठानी पड़ती है. यह समस्या हल होनी चाहिए इसलिए नगरपालिका ने यहां के तालाब सभी जातियों के लिए खुले किए है ऐसा बहुत पहले जाहिर किया गया है. परंतु उस तालाब पर पानी भरने की कोशिश अछूत लोगों (Untouchables) ने अभी तक शुरू नहीं की है. यदि आज इस परिषद् द्वारा सरकारी आदेश पर अमल किया गया तो परिषद् ने एक बहुत बड़ा काम किया ऐसा कहा जाएगा. भाइयों हम सभी अध्यक्ष महोदय के साथ महाड़ के चवदार तालाब (Chavdar Tale, pond, Mahad )पर प्रवेश करके अपना अधिकार प्राप्त करेंगे.’

उसके बाद परिषद् के सभी लोगों द्वारा अध्यक्ष महोदय के साथ सभा मंडप से बाहर निकलकर एक जुलूस निकाला गया. यह जुलूस महाड़ शहर (Mahad City) की बस्तियों से होते हुए बहुत ही शांतता से तालाब पर गया.

महाड़ आंदोलन: बाबा साहब संग अछूतों का तालाब से पानी पीकर ब्राह्मणवाद को चुनौती देना

बाबा साहेब डॉ0 भीमराव आंबेडकर (Babasaheb Dr. Bhimrao Ambedkar) स्वयं तालाब के किनारे पर खडे़ रहे. जिस तालाब पर पशु-पक्षी अपनी प्यास बुझाते थे, किन्तु अछूतों को उसका पानी पीकर अपनी प्यास बुझाने के लिए अपनी पूण्यभूमि और मातृभूमि में पाबंदी थी, जिनके लिए सार्वजनिक स्थलों एवं मंदिरों में जाने के द्वार बंद थे, ऐसा वह महापुरूष हिन्दूधर्मान्धों का ढोंग भारत के खूंटी पर टांग रहा था. डॉ0 भीमराव आंबेडकर (Babasaheb Dr. Bhimrao Ambedkar) चवदार तालाब (Chavdar Tale, Pond) की सीढि़यां उतरकर नीचे गए. वह झुके तथा उन्होंने तालाब का पानी हाथ में लेकर प्राशन किया. उपस्थित जनसमुदाय ने अपने नेता का अनुकरण किया! परिषद् स्थल पर जूलुस वापस आया और परिषद् का विर्सजन हुआ.

सवर्णों को यह सब कुछ ठीक नहीं लगा और उन्होंने सत्याग्रहियों को मारा-पीटा, उनके खाने में मिट्टी मिलाई. महाड़ आंदोलन (Mahad Andolan) के समय ‘समता सैनिक दल’ (Samata Sainik Dal) स्थापित करके केवल पांच-छह दिन ही हुए थे. समता सैनिक दल के सैनिकों की संख्या भी इस समय बहुत कम थी. फिर भी इन सैनिकों ने बहादुरी दिखाते हुए इसका बदला लेने के लिए डॉ0 बाबासाहेब आंबेडकर (Dr. BR Ambedkar) से अनुमति‍ मांगी. किन्तु परिस्थिति को भांपते हुए डॉ0 बाबासाहेब आंबेडकर ने अनुमति नहीं दी और सभी को अपने-अपने गांव लौटने के लिए कहा. रोज-रोज के अन्याय अत्याचार से मुक्ति पाने के लिए अब समता सैनिक दल (Samata Sainik Dal) की आवष्यकता महसुस की जाने लगी.

इस प्रकार समता सैनिक दल की शाखाएं हर शहर तथा गांव-गांव में स्थापित की गई. डॉ0 बाबासाहेब आंबेडकर हमेशा समता सैनिक दल (Samata Sainik Dal) की देखरेख किया करते थे. सैनिकों को प्रोत्साहित करने के लिए पुरस्कार देते थे. समता सैनिक दल की संगठना का उन्हें अमर्याद विश्वास था. उनके कार्य के लिए उन्हें समता सैनिक दल अत्यंत सहाय्यकारी लगता था. उस समय पोयबावळी नाम से जाना जाने वाला मुंबई (Mumbai) का इलाका समता सैनिक दल का गढ़ समझा जाता था. इसका मुख्यालय दामोदर हॉल, परेल, पोयबावड़ी, मुंबई (Damodar Hall, Parel, Poybawdi, Mumbai) में था. समता सैनिक दल मुख्यालय के प्रमुख सुभेदार सवादकर थे.

25, 26 तथा 27 दिसम्बर, 1927 को महाड़ पुनः सत्याग्रह (Mahad Satyagrah) का आयोजन गया. मार्च, 1927 की परिषद् में हिन्दुओं द्वारा अछूतों पर किए गए अत्याचार (Atrocities on Untouchables) को ध्यान में रखते हुएं इस परिषद् की व्यवस्था के लिए मुंबई से समता सैनिक दल के पचास वॉलंटियर्स लाठी-काठीयों के साथ उपस्थित थे.

जब महाड़ सत्‍याग्रह से बाबा साहब डॉ. आंबेडकर ने दलित आंदोलन की शुरुआत की

27 दिसम्बर, 1927 को अछूतों द्वारा महाड़ शहर में जब जुलूस निकाला गया (Procession taken out by untouchables in Mahad city) था, उस समय गांव के सवर्ण नेता गांव छोड़कर भाग चुके थे. सवर्णों ने अपने घर के दरवाजे बंद कर दिए थे, हिन्दुओं के औरत-बच्चों ने ही नहीं तो पुरूषों ने भी रास्तों से धूमना बंद कर दिया था. इस समय तक समता सैनिक दल के सैनिक सवर्णों में अपनी धाक जमा चुके थे. यह परिषद् बिना किसी अड़चन के सफलतापूर्वक संपन्‍न हुई.

कालाराम मंदिर प्रवेश सत्याग्रह नाशिक (Kalaram Temple Entrance Satyagraha Nashik)
3 मार्च, 1930 को नाशिक के कालाराम मंदिर प्रवेश सत्याग्रह (Kalaram Temple Entrance Satyagraha Nashik) में डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर की अध्यक्षता में सैंकड़ों महिला तथा पुरूष स्वयंसेवकों ने कालाराम मंदिर के दरवाजे के सामने धरना दिया था. यह सत्याग्रह कई वर्षों तक चलता रहा. इसे दीर्घावधी तक चलाने का श्रेय समता सैनिक दल को जाता है.

नागपुर में समता सैनिक दल की स्थापना (Establishment of Samta Sainik Dal in Nagpur)
1 जनवरी, 1930 को नागपुर में समता सैनिक दल की स्थापना की गई. प्रारंभ में इसके पदाधिकारी बाबू हरदास एल. एन., रेवाराम कवाडे, विट्ठलराव सालवे, विट्ठल नगराळे, पंडुलिक भोयर, पवितपावनदास, रेवाराम कवाडे, आर. आर. पाटील, वाय. टी गायकवाड, रामटेके तथा एस. जी. मानके थे.

समता सैनिक दल के प्रतिनिधियों का कर्तव्य (Duty of representatives of Samta Sainik Dal)
शनिवार दिनांक 4 मार्च, 1933 को मुंबई के संडहर्स्ट मार्ग, वाडीबंदर के पास जी.आय.पी. रेल्वे की चाल के मैदान में आयोजित समारोह में डॉ0 बाबासाहेब अम्बेडकर ने समता सैनिक दल के सैनिकों से कहा, ‘समता सैनिक दल के वॉलंटियर्स के लिए मेरी कुछ सूचनाएं है. वॉलंटियर अर्थात हमारा ज्ञानवान तथा जाणकार पुरूष है, ऐसा मैं समझता हूं. केवल खाकी रंग के कपड़े शरीर पर परिधान कर लेने से वॉलंटियर बन जाते हैं, ऐसा मैं नहीं मानता. अपने समाज को सज्ञानी बनाना यह वॉलंटियर लोगों का मुख्य कर्तव्य है. अज्ञानी समाज को ‘जनता’ समाचारपत्र पढ़कर बताना एवं उसमें लिखी गई बातों को समझाना उनका कर्तव्य है. यह लोग अपना कर्तव्‍य निभाएंगे, ऐसी मुझे आशा है.

Today Dalit History 13th March Dr BR Ambedkar founded All India Samata Sainik Dal

Dalit History (13th March): डॉ. आंबेडकर ने इन आदर्शों के साथ समता सैनिक दल की स्थापना की

dayanand kamble
लेखक एवं बहुजन विचारक दयानंंद कांबले सूचना एवं जनसंपर्क महानिदेशालय, महाराष्ट्र सरकार में उप निदेशक (समाचार) के पद पर कार्यरत हैं.

Dalit History (13th March) | दलित इतिहास (13 मार्च) : बाबा साहेब डॉ. भीमराव आंबेडकर (Baba Saheb Dr. Bhimrao Ambedkar) ने 13 मार्च 1927 को अखिल भारतीय समता सैनिक दल (All India Samata Sainik Dal) की स्थापना की थी. AlSSD का मूल सिद्धांत बुरी जाति व्यवस्था (Caste System) का सफाया करके भारतीय समाज की जनता के बीच “समानता” (Equality) स्थापित करना है. डॉ. आंबेडकर (Dr. Ambedkar) ने एआईएसएसडी के नियम और कानून निर्धारित किए, जिनमें से कुछ इस प्रकार हैं:

समता सैनिक दल (Samata Sainik Dal) का प्रशिक्षण शारीरिक, बौद्धिक और सैन्य प्रकार का होगा. समता सैनिक दल प्रशिक्षण शिविरों, स्कूलों, क्लबों, कक्षाओं, व्याख्यानों, वाद-विवादों, पुस्तकालयों आदि और ऐसे अन्य प्रकार की गतिविधियों का आयोजन करेगा, जिन्हें वह समय-समय पर उचित समझे.

(Dalit Awaaz.com के फेसबुक पेज को Like करें और Twitter पर फॉलो जरूर करें…)

क़सम
मैं, भारतीय (अनुसूचित जाति) समुदाय (Scheduled Caste Community) का सदस्य, समता सैनिक दल के रैंक में प्रवेश करते हुए, शपथ लेता हूं और सभी उत्पीड़न, शोषण और गुलामी से वर्ग अपनी मुक्ति के गौरवशाली उद्देश्य में एक सम्माननीय, बहादुर, अनुशासित और दृढ़ सेनानी होने की शपथ लेता हूं.

बाबासाहेब डॉ. भीमराव अम्बेडकर द्वारा स्थापित ‘अखिल भारतीय समता सैनिक दल’ की आंबेडरकारी आंदोलन में एक सशक्त भूमिका रही है. लेकिन आज समाज ने इस संगठन को करीब-करीब भूला ही दिया है. 20 जुलाई, 1942 को मोहननगर, नागपुर में आयोजित समता सैनिक दल के प्रथम अधिवेशन में डॉ. आंबेडकर ने कहा था, ‘यदि हम अपनी राजनीतिक गतिविधियाँ बगैर किसी बाधा व छेड़खानी के करते रहे तो इसका श्रेय हमारे स्वयंसेवी संगठन, ‘समता सैनिक दल’ को है, जिसकी शक्ति के कारण कोई हमारे काम में रूकावट पैदा नहीं कर सका. हम इसके बहुत ज्यादा कृतज्ञ हैं.’

दलित आवाज़ के यूट्यूब चैनल से जुड़ने के लिए क्लिक करें…