Valmiki Community

AHMEDABAD No house for Dalit teacher in Gujarat due to caste discremination

गुजरात: वाल्‍मीकि शिक्षक को गांव में नहीं देता कोई रहने को घर, 150km रोज सफर कर बच्‍चों को पढ़ाने आते हैं

नई दिल्‍ली/अहमदाबाद: गुजरात (Gujarat) के सुरेंद्रनगर जिले (Surendranagar District) के एक 50 वर्षीय सरकारी स्कूल के दलित शिक्षक (Dalit Teacher) को स्कूल और घर वापस जाने के लिए रोजाना 150 किलोमीटर का सफर तय करना पड़ता है. अनुसूचित जाति (Scheduled Caste) के वाल्‍मीकि समुदाय (Valmiki Community) का होने के चलते उन्‍हें ऐसा करना पड़ता है, क्‍योंकि जिस गांव के स्‍कूल में वह पढ़ाते हैं, वहां की पंचायत ने इस बात पर प्रतिबंध लगाया हुआ है कि वाल्‍मीकि होने के चलते उन्‍हें गांव में रहने घर नहीं दिया जा सकता है.

Gujarat : दलित दूल्‍हे को घोड़ी चढ़कर बारात निकालने से रोका, 9 लोगों को मिली 5 साल की सजा

दलित शिक्षक कन्‍हैयालाल बरैया (Dalit Teacher Kanhaiyalal Baraiya) के साथ घोर भेदभाव के कारण राज्य के सामाजिक न्याय और अधिकारिता विभाग (Department of Social Justice and Empowerment) ने पिछले हफ्ते शिक्षा विभाग को एक पत्र लिखा था, जिसमें स्वीकार किया गया था कि “अनुसूचित जाति (Scheduled Caste) के शिक्षक अत्याचार, भेदभाव, असमानता और जातिवाद का शिकार हुए हैं”. सामाजिक न्याय विभाग ने शिक्षा विभाग से उनका जल्द से जल्द तबादला करने को कहा है. TOI ने रिपोर्ट में इस पत्र की एक प्रति अपने पास उपलब्ध होने की बात कही है.

Gujarat : लंबी मूंछ रखना दलित युवक को पड़ा भारी, 11 लोगों ने लाठी-डंडों से पीटा; दी जातिवादी गालियां

सुरेंद्रनगर जिले की चूड़ा तालुका के छतरीयाला गांव (Chhatriyala village of Chuda Taluka in Surendranagar District) के रहने वाले शिक्षक कन्‍हैयालाल बरैया (50) का तबादला इसी जिले के निमाना गांव में हुआ था. यह उनके गांव से करीब 75 किलोमीटर दूर है.

वह कहते हैं कि जब मैं ड्यूटी पर रिपोर्ट करने गया तो मैंने मकान किराए पर लेने के लिए पूछताछ शुरू की. तो मुझसे पूछा गया कि मैं कौन सी जाति से ताल्‍लुक रखता हूं. तो मैंने बता दिया कि मैं वाल्‍मीकि समुदाय से हूं. मुझे साफ कह दिया कि इस जाति के लिए गांव में रहने के लिए कोई घर किराए पर नहीं है.

Gujarat साबरकांठा: गांव में तैनात किए गए 120 जवान, तब घोड़ी पर दलित युवक ने निकाली बारात

यहां तक की सरपंच ने भी गांव के आधिकारिक लैटरहेड पर इस बारे में लिखकर दे दिया. वह कहते हैं कि मैंने सामाजिक न्याय, शिक्षा और अन्य विभाग से शिकायत की. अंत में सामाजिक न्याय विभाग ने शिक्षा विभाग से पिछले हफ्ते उनका ट्रांसफर करने को कहा.

Gujarat : दलित RTI कार्यकर्ता की हत्या, घर में घुसकर किया हमला; बेटी को भी आई चोट

बरैया यह भी कहते हैं कि उन्‍होंने सीएम भूपेंद्र पटेल को भी इस मामले से अवगत कराया और उन्‍होंने बस आश्‍वासन दिया कि वह इस मामले को देखेंगे.

वहीं, सुरेंद्रनगर के कलेक्‍टर अम्रुतेश ने कहा कि वह फ‍िलहाल अवकाश पर हैं और इस मामले को देखेंगे.

Gujarat : रिक्‍शा चलाने से मना किया तो दलित को चाकुओं से गोदकर मारा

Badaun Valmiki community hair not cut not allowed to drink water from tap Bhim Army Valmiki Mahapanchayat Badaun Police ruckus

बदायूं: वाल्‍मीकि समाज के लोगों के बाल नहीं काटे जाते, नल से पानी नहीं पीने देते, आंदोलन करने पर भीम आर्मी-पुलिस में गहमागहमी

नई दिल्‍ली/बदायूं: 21वीं सदी में आज भी भारत में अनुसूचित जाति समाज (Scheduled Caste Society) के लोग न केवल अपने अधिकारों के लिए संघर्ष कर रहे हैं, बल्कि उन्‍हें अपने हकों के लिए आंदोलन कर आवाज़ उठाने से भी रोका जाता है. कुछ ऐसा ही देखने ही देखने को मिल रहा है उत्‍तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के बदायूं जिले (Badaun District) के दातागंज (Dataganj) में. यहां करीब 37 गांवों में वाल्‍मीकि समाज (Valmiki Community) के लोगों के बाल तक काटने से इनकार कर दिया जाता है. उन्‍हें सरकारी नलों से पानी नहीं पीने दिया जाता और उनके घरों के आगे कूड़े के ढेर लगा दिए जाते हैं. इसके खिलाफ आवाज़ उठाने के लिए भीम आर्मी ने शुक्रवार को वाल्‍मीकि महापंचायत (Valmiki Mahapanchayat) बुलाई है. भीम आर्मी (Bhim Army) का आरोप है कि उन्‍हें महापंचायत करने से भी रोका जा रहा है, यहां तक की पुलिस-प्रशासन चुन-चुनकर उनके चालान काट रहा है. खबर लिखे जाने तक महापंचायत स्‍थल पर काफी गहमागहमी का माहौल था.

Badaun Valmiki community Bhim Army Valmiki Mahapanchayat
भीम आर्मी की तरफ से अपनी मांगों को लेकर दातागंज के दसवा संस्‍कार गृह पर वाल्‍मीकि महापंचायत का आयोजन किया गया…

भीम आर्मी के बरेली मंडल के प्रमुख महासचिव विकास बाबू ने दलित आवाज़ को बताया कि दातागंज में वाल्‍मीकि समाज के लोगों के गांव में बाल काटने से इनकार कर दिया जाता है, यहां तक की बाजार में भी उनके बाल नहीं काटने दिए जाते हैं. यहां तक की उन्‍हें सार्वजनिक नलों से पानी भी नहीं पीने दिया जाता है. उनके घरों के आगे कूड़ा फेंक दिया जाता है. इन सबके खिलाफ भीम आर्मी की तरफ से आंदोलन किया जा रहा है.

 

उन्‍होंने आरोप लगाया कि पुलिस द्वारा उनके आंदोलन को दबाने का प्रयास किया जा रहा है. पुलिस की तरफ से चौराहों पर कड़ी नाकेबंदी की गई है और नीला गमछा देखकर उनको रोका जा रहा है. पूछताछ की जा रही है. गांव गांव जाकर लोगों को धमकाया जा रहा है. हमारी मांगे स्‍पष्‍ट हैं कि हमें हर नल पर पानी पीने का अधिकार मिले, हर दुकान पर बाल कटवाने का अधिकार मिले, घरों के आगे पढ़े कूड़े के ढेरों को हटाया जाए.

इन मांगों को लेकर दातागंज के दसवा संस्‍कार गृह पर वाल्‍मीकि महापंचायत (Valmiki Mahapanchayat) का आयोजन किया गया. इस महापंचायत के आयोजन को लेकर बदायूं पुलिस की ओर से कई लोगों के शांतिभंग के चालान तक काटे गए हैं. खबर लिखे जाने तक भीम आर्मी के कार्यकर्ताओं और पुलिस के बीच काफी गहमागहमी की स्थिति थी. भीम आर्मी का कहना है कि उन्‍हें पुलिस प्रशासन की ओर से महापंचायत करने से रोका जा रहा है और वह अपनी मांगों का ज्ञापन डीएम को सौंपना चाहते हैं, लेकिन ऐसा नहीं हो रहा.

magistrate probe will conduct into Nangal Dalit girl suspected death rape case Rajendra Pal Gautam

दलित बच्‍ची की संदिग्‍ध मौत, रेप, लाश जलाने के मामले की मजिस्‍ट्रेट जांच कराएंगे: राजेंद्र पाल गौतम

नई दिल्‍ली : दिल्ली के नांगल गांव (Delhi Nangal Village) में 9 साल की दलित (Dalit) बच्‍ची के साथ हुए कथित रेप, संदिग्‍ध मौत एवं परिजनों की बिना सहमति लाश को जला दिए जाने के मामले को दिल्‍ली के सामाजिक कल्‍याण मंत्री राजेंद्र पाल गौतम ने गंभीरता से लिया है. उन्‍होंने पीड़ित परिवार और उनके नातेदारों को पूर्ण आश्‍वासन दिया है कि दिल्‍ली सरकार (Delhi Govt) हर तरह से पीड़ित परिवार को मदद मुहैया कराएगी और अगर दिल्‍ली पुलिस (Delhi Police) ठीक ढंग से मामले की जांच नहीं करती तो दिल्‍ली सरकार केस की मजिस्‍ट्रेट जांच कराएगी.

दरअसल, इस घटना की जानकारी मिलने के बाद मंत्री राजेंद्र पाल गौतम (Rajendra Pal Gautam) सोमवार को नांगल गांव पहुंचे और पीड़ित परिवार से मुलाकात की. उन्‍होंने परिवार को दिल्‍ली सरकार और व्‍यक्तिगत तौर पर हर तरह से मदद देने का आश्‍वासन भी दिया.

उन्‍होंने Dalitawaaz.com से कहा, ‘मेरी हमेशा कोशिश रही है कि मैं अपने लोगों के बीच जाऊं और सच की जानकारी लूं. मेरी ज्‍वॉइंट सीपी, डीसीपी और डीएम से बात हुई है. अगर जरूरत पड़ी तो हम इस मामले की मजिस्‍ट्रेट जांच कराएंगे’.

Delhi Cantt Dalit Girl Rape & Murder Case की सभी खबरें यहां क्लिक कर पढ़ें… 

उन्‍होंने आगे कहा कि ‘पहले तो हम उम्‍मीद करते हैं कि दिल्‍ली पुलिस न्‍यायपूर्ण तरीके से जांच करे. इस मामले की जांच तेज और निष्‍पक्ष तरीके से होनी चाहिए. परिजनों के जल्‍द से जल्‍द Crpc 164 के बयान दर्ज कराए जाएं. वक्‍त आने पर हम सरकारी खर्चे पर पीडि़त परिवार को सरकारी वकील भी उपलब्‍ध कराएंगे’.

बताया जा रहा है कि श्मशान घाट के सामने किराए पर पुराना नांगल (Delhi Nangal Village) में वाल्‍मीकि समुदाय से ताल्‍लुक रखने वाली नौ साल की नाबालिग लड़की अपने माता-पिता के साथ रहती थी. वह रविवार शाम लगभग 5:30 बजे अपनी मां को बताकर श्मशान घाट के वाटर कूलर से ठंडा पानी लेने गई थी. 6 बजे श्मशान घाट के पुजारी पंडित राधेश्याम और नाबालिग लड़की की मां को जानने वाले 2-3 अन्य लोगों ने उसे श्मशान में बुलाया और लड़की के शव को यह कहते हुए दिखाया कि वाटर कूलर से पानी पीने के दौरान उसे करंट लग गया था. लड़की की बाईं कलाई और कोहनी के बीच जलने के निशान थे. उसके होंठ भी नीले थे. यह मां ने देखा. पुजारी और 2-3 लोगों ने मां से कहा कि अगर आप पीसीआर कॉल करते हैं तो पुलिस इसका मामला बनाएगी और पोस्टमॉर्टम में डॉक्टर लड़की के सभी अंगों को चुरा लेंगे और इसलिए उसका अंतिम संस्कार करना बेहतर है लड़की का अंतिम संस्कार कर दिया गया, जिसके बाद मृतक लड़की की मां ने पति के साथ शोर मचाया कि उनकी मर्जी के बिना उस लड़की का अंतिम संस्कार कर दिया गया.

दिल्‍ली पुलिस (Delhi Police) ने इस मामले में आईपीसी 304, 342, 201 और एससी/एसटी एक्ट के तहत सभी चार आरोपियों पुजारी राधेश्याम के अलावा सलीम, लक्ष्मीनारायण, कुलदीप को गिरफ्तार कर लिया है.

 

Nangal Village Valmiki girl raped and burnt dead body Chandrashekhar Azad will meet victim family

दलित बच्‍ची से रेप कर लाश जलाने का मामला: चंद्रशेखर आजाद नांगल गांव पहुंच पीड़ित परिवार से मिलेंगे

नई दिल्‍ली : दिल्‍ली के नांगल गांव (Nangal Village) में वाल्‍मीकि समुदाय (Valmiki Community) की बच्‍ची के साथ श्‍मशान घाट में पंडित और उसके साथियों द्वारा बच्‍ची से कथित रेप कर उसकी लाश जला दिए जाने के मामले में न्‍याय की मांग को लेकर भीम आर्मी चीफ (Bhim Army Chief) चंद्रशेखर आजाद (Chandrashekhar Azad) आज दिल्‍ली आ रहे हैं. वह नांगल गांव में पीडि़त बच्‍ची के घर जाकर उनसे मिलेंगे.

भीम आर्मी (Bhim Army) के दिल्‍ली प्रदेश अध्‍यक्ष हिमांशु वाल्‍मीकि (Himanshu Valmiki) ने दलित आवाज़ (Dalit Awaaz) को बताया कि चंद्रशेखर आजाद आज दोपहर 12 बजे नांगल गांव में पीडि़त परिवार से मिलेंगे. साथ ही वह उस श्‍मशान घाट का भी दौरा कर सकते हैं, जहां यह घटना हुई. उन्‍होंने बताया कि आजाद समाज पार्टी एवं भीम आर्मी ने आह्वान किया है कि सभी साथी ज्‍यादा से ज्‍यादा तादाद में नांगल गांव पुहंचें.

Delhi Cantt Dalit Girl Rape & Murder Case की सभी खबरें यहां क्लिक कर पढ़ें… 

दिल्‍ली पुलिस (Delhi Police) ने इस मामले में आईपीसी 304, 342, 201 और एससी/एसटी एक्ट के तहत सभी चार आरोपियों पुजारी राधेश्याम, सलीम, लक्ष्मीनारायण, कुलदीप को गिरफ्तार कर लिया है.

चंद्रशेखर आजाद ने खुद कल ट्विटर पर इसकी घोषणा करते हुए कहा था कि ‘दिल्ली में 9 साल की बच्ची के साथ अत्याचार और हत्या की भयानक घटना हुई है. हमारी टीम मौक़े पर है. ये मेरा अपना परिवार है. वह मेरी बहन थी. कल (मंगलवार को) मैं खुद पीड़ित परिवार से मिलने जाऊंगा. न्याय होने तक हमारा संघर्ष जारी रहेगा.

 

उल्‍लेखनीय है कि रविवार शाम लड़की घाट में पानी भरने गई थी, जहां पर उसकी मौत हो गई थी. मौत के बाद वहां के पुजारी ने लड़की का अंतिम संस्कार कर दिया, जिसका पता गांववालों को चला तो गांववालों ने शमशान घाट आकर लड़की को चिता से उतारकर पानी डाला और पुलिस को बुलाकर पुजारी और उसके दूसरे साथियों को पुलिस के हवाले कर दिया. फिलहाल पुलिस पूरे मामले की जांच कर रही है.

श्मशान घाट के सामने किराए पर पुराना नांगल में नौ साल की नाबालिग लड़की अपने माता-पिता के साथ रहती थी. वह लगभग 5:30 बजे अपनी मां को बताकर श्मशान घाट के वाटर कूलर से ठंडा पानी लेने गई थी. 6 बजे श्मशान घाट के पुजारी पंडित राधेश्याम और नाबालिग लड़की की मां को जानने वाले 2-3 अन्य लोगों ने उसे श्मशान में बुलाया और लड़की के शव को यह कहते हुए दिखाया कि वाटर कूलर से पानी पीने के दौरान उसे करंट लग गया था. लड़की की बाईं कलाई और कोहनी के बीच जलने के निशान थे. उसके होंठ भी नीले थे. यह मां ने देखा. पुजारी और 2-3 लोगों ने मां से कहा कि अगर आप पीसीआर कॉल करते हैं तो पुलिस इसका मामला बनाएगी और पोस्टमॉर्टम में डॉक्टर लड़की के सभी अंगों को चुरा लेंगे और इसलिए उसका अंतिम संस्कार करना बेहतर है लड़की का अंतिम संस्कार कर दिया गया, जिसके बाद मृतक लड़की की मां ने पति के साथ शोर मचाया कि उनकी मर्जी के बिना उस लड़की का अंतिम संस्कार कर दिया गया.

भीम आर्मी (Bhim Army) के चीफ चंद्रशेखर आजाद (Chandrashekhar Azad) ने भी ट्वीट कर अपनी चिंता जाहिर करते हुए आरोप लगाया था कि नई दिल्ली के नांगल गांव श्मशान घाट में पानी लेने गई नाबालिग दलित बच्ची के साथ दुष्कर्म करके उसकी हत्या कर दी है. बलात्कारियों को बचाने के लिए पुजारी ने लाश को जबरन जला दिया. कभी हाथरस में हमारी बहनें जबरन जलाई जाती हैं तो कभी दिल्ली में. उन्‍होंने दिल्‍ली पुलिस कमिश्‍नर को टैग करते हुए मांग की है क‍ि दरिंदों पर कड़ी कार्यवाही हो.