Amethi

Amethi Minor Dalit girl beaten up badly with sticks Mission Ambedkar appeals to UN

अमेठी: दलित लड़की को डंडों से बुरी तरह पीटा, मिशन आंबेडकर ने यूएन से लगाई गुहार

नई दिल्‍ली : उत्‍तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के अमेठी (Amethi) में एक 16 वर्षीय नाबालिग दलित लड़की (Minor Dalit Girl) को बांधकर उसकी निर्ममतापूर्वक पिटाई करने का वीडियो सामने आया है. इस वीडिया के सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद पुलिस-प्रशासन की आंखें खुलीं और हड़कंप मच गया. इस वीडियो में साफ दिख रहा है कि दो लड़के दलित लड़की (Dalit Girl) को बांधकर जमीन पर लिटाकर उसके पैरों पर डंडे से लगातार पिटाई कर रहे हैं और वह दर्द से चिल्‍ला रही है. अमेठी पुलिस (Amethi Police) ने इस संबंध में आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज किया है. एक आरोपी को अरेस्‍ट कर लिया गया है, जबकि अन्‍य को पकड़ने के लिए लगातार दबिश दी जा रही है.

अपडेट : उत्‍तराखंड की दलित भोजन माता को दिल्‍ली सरकार का सरकारी नौकरी का ऑफर | सवर्ण गांववाले भी माने- दिलीप मंडल

एक रिपोर्ट के अनुसार, यह मामला अमेठी कोतवाली क्षेत्र के फुलवारी गांव (Amethi Kotwali area Phulwari village) का बताया जा रहा है, जहां रहने वाले सूरज सोनी के घर से कुछ दिनों पहले दो मोबाइल फोन चोरी हो गए थे. कहा जा रहा है कि इसी शक में दलित लड़की (Dalit Girl) के साथ बुरी तरह मारपीट की गई. उसे डंडे के सहारे रस्‍सी से बांध दिया गया और फिर उसके पैरों पर लगातार डंडे से वार कर उसे थर्ड डिग्री टॉर्चर दिया गया. इस दौरान वह लड़की बुरी तरह दर्द से चिल्‍लाती रही, लेकिन यह लड़के उसे पीटते रहे. इस घटना का वीडियो भी बनाया गया.

Haryana: SC/ST Act केस वापस न लेने पर दलितों का सामाजिक बहिष्‍कार, रास्‍तों से जा नहीं सकते, दुकानदार सामान नहीं दे रहे

इस घटना का वीडियो बाद में सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया गया. इस वीडियो की जानकारी मिलते ही जिला प्रशासन और पुलिस अधिकारियों में हड़कंप मच गया और पीड़िता के पिता से संपर्क कर इस बाबत तहरीर ली गई.

मोटर चुराने के आरोप में दलित मजदूर को पीट-पीटकर मार डाला, परिवार का विरोध जारी, अंतिम संस्‍कार से किया इनकार

अमेठी के डीएसपी अर्पित कपूर ने बताया कि आरोपियों सूरज सोनी, शिवम और साकाल एवं अन्‍य के खिलाफ पुलिस ने पाक्‍सो एक्‍ट (POCSO ACT), एससी-एसटी एक्‍ट (SC/ST Act)  के तहत मुकदमा दर्ज किया है. उन्‍हें पकड़ने के लिए लगातार दबिश दी जा रही है. एक आरोपी नमन सोनी की गिरफ्तारी कर ली गई है.

डीएसपी कपूर ने कहा कि पीड़िता संग्रामपुर पुलिस थाने के एक गांव की रहने वाली है. जबकि यह वारदात रायपुर फुलवारी कस्‍बे में हुई. उन्‍होंने दावा किया कि जल्‍द ही आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा.

दलित महिला को मंदिर के नल से पानी लेने से रोका, रोज करते हैं परेशान, 2 महीने से पुलिस नहीं कर रही कार्रवाई

 

इस घटना को लेकर सामाजिक संगठन मिशन आंबेडकर (Mission Ambedkar) के संस्‍थापक सूरज कुमार बौद्ध (Suraj Kumar Bauddh) ने नाराजगी जाहिर की है. उन्‍होंने संयुक्‍त राष्‍ट्र एवं उसके मानवाधिक संगठन को ट्विटर पर टैग करते हुए लिखा, यूपी के अमेठी में चोरी का आरोप लगाते हुए जातिवादी गुंडों ने एससी नाबालिग लड़की को लाठियों से पीटा और उसके पैर कुचल दिए. शिवम, सकल और सूरज सोनी अपराधी हैं. क्या हम इंसान नहीं हैं? चौंका देने वाला!

आदिवासियों पर अत्‍याचार के मामले में उत्‍तराखंड का यह जिला टॉप पर, Uttarakhand Scheduled Tribes Commission ने सामने रखे चिंताजनक आंकड़ें

 

(Dalit Awaaz.com के फेसबुक पेज को Like करें और Twitter पर फॉलो जरूर करें…)

Amethi Dalit students fed Mid Day Meal in school by sitting in a separate row

अमेठी : ‘दलित बच्‍चों को अलग पंक्ति में बैठाकर स्‍कूल में खिलाते हैं खाना, शिकायत करो तो प्रिसिंपल मारती है’

अमेठी. केंद्रीय मंत्री एवं बीजेपी नेत्री स्‍मृति ईरानी (Smriti Irani) के संसदीय क्षेत्र अमेठी में दलित छात्रों के साथ जातिगत भेदभाव (Caste Discrimination) का मामला सामने आया है. मामला अमेठी (Amethi) ब्लॉक के प्राथमिक विद्यालय वनपुरुवा का है, जहां तैनात प्रधानाध्यापिका पर आरोप है कि वह दलित छात्रों (Dalit Students) के साथ भेदभाव करती हैं.

संग्रामपुर थाने पहुंच एक दलित परिवार (Dalit Family) ने इसकी शिकायत की है. इस शिकायती पत्र में कहा गया है कि स्कूल में पढ़ने वाले दलित बच्चों को दोपहर में विद्यालय में दिए जाने वाले मिड डे मिल के समय अन्य बच्चों से अलग पंक्ति में बैठाया जाता है. केवल यही नहीं, भेदभाव की शिकायत करने पर प्रधानाध्यापिका दलित बच्चों (Dalit Students) की पिटाई भी करती हैं.

रिपोर्ट के अनुसार, संग्रामपुर थाना क्षेत्र के गड़ेरी गांव से दो परिवार ग्राम प्रधान विनय जायसवाल के साथ मंगलवार को थाने पहुंचे. थाने पहुंचे दलित जगनारायण व सोनू का कहना था कि उनके बच्चों के अलावा गांव के कई अन्य दलित परिवारों के बच्चे बनपुरवा में संचालित परिषदीय प्राथमिक स्कूल में पढ़ते हैं. उनका आरोप है कि प्रधानाध्यापक कुसुम सोनी दलित बच्चों के साथ भेदभाव करती हैं. दोपहर के भोजन के वक्‍त दलित बच्चों को सामाजिक व जातीय भेदभाव के तहत अलग पंक्ति में बैठाकर भोजन परोसा जाता है. बच्चों द्वारा इसका विरोध करने या कहीं शिकायत करने पर उनकी पिटाई भी की जाती है.

ग्राम प्रधान का कहना था कि शिकायत पर वो सोमवार को वो विद्यालय गए तो प्रधानाध्यापिका मौजूद नहीं थीं. विद्यालय बंद था और बच्चे घूम रहे थे.

इस बाबत अमेठी के बेसिक शिक्षा अधिकारी डॉ. अरविंद कुमार पाठक कहते हैं कि मामला संज्ञान में आने के बाद पूरे प्रकरण की जांच की जा रही है और बच्चों व उनके अभिभावकों के अलावा प्रधानाध्यापक का बयान लिया गया है. जल्द ही पूरे मामले में यथोचित कार्रवाई की जाएगी.

वहीं, संग्रामपुर थाना प्रभारी अंगद सिंह ने बताया कि वे बाहर हैं. दलित परिवारों के थाने आने की सूचना उन्हें मिली थी. थाने पहुंचकर तहरीर में की गई शिकायत के आधार पर पूरे मामले की जांच कर कार्रवाई की जाएगी.

 

Dalit girl raped of in Amethi bleeding continued for three days police accused of not taking proper action

अमेठी में दलित बच्‍ची से कथित रेप, 3 दिन तक होती रही ब्‍लीडिंग, पुलिस पर ठीक कार्रवाई न करने का आरोप

नई दिल्‍ली/अमेठी: उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के कौशांबी में दलित महिला से कथित गैंगरेप (Kaushambi Dalit Woman Gang Rape) के बाद अब अमेठी (Amethi) में दलित बच्‍ची से विभत्‍स रेप (Dalit Girl Raped) का मामला सामने आया है. मामला अमेठी के मोहनगंज थाना इलाके (Mohanganj Police Station area) का है. आरोप है कि पुलिस ने इस मामले में पहले ठीक से कार्रवाई नहीं की. बता दें कि अमेठी बीजेपी सांसद स्मृति ईरानी का संसदीय क्षेत्र है.

न्‍यूज एजेंसी भाषा की रिपोर्ट के अनुसार, रेप की शिकार दलित लड़की की उम्र 10 साल है. जबकि आरोपी 17 साल का बताया जा रहा है. परिजनों द्वारा थाने में दी गई तहरीर के मुताबिक, बच्‍ची बीते 30 अगस्त की दोपहर गांव में ही खेल रही थी, तभी गांव का ही 17 साल का युवक उसे उठाकर ले गया और खेत में उसके साथ कथित दुष्कर्म किया.

तहरीर के मुताबिक, बच्‍ची को लगातार तीन दिन से रक्तस्राव हो रहा था. उसे परिजन डॉक्‍टर के पास ले गए, जहां लड़की ने अपने साथ हुई घटना के बारे में इस बात की जानकारी दी.

आरोप है कि मामले में पुलिस ने पहले ठीक से कार्रवाई नहीं की. रिपोर्ट के अनुसार, पुलिस की भूमिका से नाराज तिलोई से भाजपा विधायक मयंकेश्वर शरण सिंह एवं प्रखंड प्रमुख मुन्ना सिंह ने मोहनगंज थाने पहुंचकर इस बाबत मुकदमा दर्ज कराया और पुलिस को उसकी कार्य प्रणाली के लिए फटकार लगाई.

इस संबंध में पुलिस उपाधीक्षक तिलोई अजय कुमार सिंह ने बताया कि मामला दर्ज कर विधिक कार्यवाही की जा रही है.

(Dalit Girl Raped)

ये भी पढ़ें :

अब कौशांबी में दलित महिला से गैंगरेप, केस दर्ज न कराने को लेकर पीड़िता को धमकाया

हाथरस केस : यूपी सरकार ने सुप्रीम कोर्ट को बताया- क्‍यों रात को लड़की का अंतिम संस्कार किया

Delhi Cantt Dalit Girl Rape & Murder Case की सभी खबरें यहां क्लिक कर पढ़ें… 

दिल्‍ली कैंट के बाद एक और दलित बच्‍ची से रेप व हत्‍या, घरवालों पर अंतिम संस्‍कार का दबाव डाला

त्रिलोकपुरी में दलित बच्‍ची से रेप मामले की सभी खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें…

Dalit pramukh's husband burnt alive in Smriti Irani's constituency Amethi

स्मृति ईरानी के चुनाव क्षेत्र अमेठी में दलित प्रधान के पति की जिंदा जलाकर हत्या

दलित उत्पीड़न (Dalit Atrocities) की घटनाएं आज कल दिन प्रति दिन बढ़ती ही जा रहीं है, जैसे कोई संज्ञान लेने के लिए बचा ही न हो । हाल ही में हुई कुछ घटनांए, जैसे कि हाथरस (Hathras Case) में दलित लड़की के साथ गैंगरेप, राजस्‍थान में हुई दो घटनाएं, एक जालौर (Jalore) जिले कि और दुसरी जयपुर (Jaipur) के अलवर (Alwar) जिले कि है इन दोनों घटनों में दलित युवकों को जिंदा जलाया गया । ऐसी ही कई और घटनाएं है जिसका कहीं कोई जिक्र नहीं होता है। उत्‍तर प्रदेश के अमेठी (Amethi) से एक दिल दहला देने वाली घटना सामने आई है, यहां दलित प्रधान के पति को जिंदा जलाकर मार दिया गया ।

एनडीटीवी कि एक रिर्पोट के अनुसार घटना केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी (Smriti Irani) के चुनाव क्षेत्र अमेठी (Amethi) के एक गांव बंदुहिया (Banduhia) की है, जहां प्रधान छोटका के पति अर्जुन 90 फीसद जली हालत में गांव के ही एक ऊंची जाति के शख्स के घर में मिला, लेकिन अस्पताल जाते हुए अर्जुन की मौत हो गई । मुंशीगंज (Munshiganj) क्षेत्र के बंदुहिया (Banduhia) गांव में गुंडों ने पहले पिटाई की फिर प्रधान के पति अर्जुन को आग लगा दी, जिससे इलाके में दहशत का माहौल बन गया है । प्रधान छोटका ने गांव के कृष्ण कुमार तिवारी और उनकें चार साथि‍यों पर आरोप लगया है ।

बताया जा रह है कि पीड़ित के परिजनों ने जली हुई हालत में उनका बयान फ़ोन में रिकॉर्ड किया था, जिसमें पीड़ित अर्जुन ने पांच लोगों के नाम लिए है, गांव के ही रहने वाले ये लोग है- कृष्ण कुमार तिवारी, आशुतोष, राजेश, रवि और संतोष ।

अमेठी (Amethi) के एस पी दिनेश सिंह ने बताया कि, घटना लगभग रात ग्‍यारह बजे कि है, हमलावर पीड़ित अर्जुन को जली हुई हालत में कृष्ण कुमार के घर के पास छोड़ कर भाग गए थे, पीड़ित को सी एच सी में डॉक्टर अभिमन्‍यु ने प्राथमिक उपचार करने के बाद सुल्तानपुर ज़िला अस्पताल में रेफर कर दिया । सुबह जब पीड़ित वहां से बेहतर इलाज के लिए लखनऊ के एक अस्‍पताल ले जाया जा रहा था, तभी रास्ते में पीडि़त अर्जुन की मौत हो गयी