Gujarat Police

Gujarat Morbi mid day meal cooked by Dalit OBC students refuse to eat

गुजरात: OBC छात्रों ने दलित महिला द्वारा बनाया मिड-डे मील खाने से इनकार किया, पुलिस ने झाड़ा पल्‍ला

नई दिल्‍ली/अहमदाबाद : अब गुजरात के मोरबी जिले (Gujarat Morbi District) के एक सरकारी स्कूल में दलित के हाथ का बना मिड डे मिल खाने से बच्‍चों ने इनकार (Gujarat OBC students refuse mid day meal cooked by Dalit) कर दिया है. शिक्षा के मंदिर में जातिवाद (Casteism) के इस जहरीले माहौल में जिन बच्‍चों ने दलित रसोइये के हाथ से बना खाना खाने से मना किया है, वह ओबीसी (OBC) समाज से ताल्‍लुक रखते हैं. यह स्थिति पिछले 16 जून से बनी हुई है.

मामला गुजरात के मोरबी जिले के श्री सोखड़ा प्राइमरी स्कूल (Shree Sokhda Primary School in Morbi District) का है, जहां अन्य पिछड़ा वर्ग यानि ओबीसी समुदाय के 153 छात्रों में से 147 बच्‍चों ने सरकार की मिड-डे मील (mid day meal) योजना के तहत परोसे जाने वाले भोजन को खाने से मना कर दिया है, क्‍योंकि वह दलित महिला द्वारा बनाया जा रहा है. ये 147 छात्र खुद कोली, भरवाड़, ठाकोर और गढ़वी जैसे अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) से आते हैं.

मोरबी पुलिस में दर्ज शिकायत के अनुसार, छात्रों के माता-पिता ने अपने बच्चों को एक दलित महिला धारा मकवाना द्वारा तैयार भोजन खाने पर आपत्ति जताई थी. दलित महिला (Dalit Woman) को जून माह में स्कूल अधिकारियों द्वारा भोजन तैयार करने के लिए ठेका दिया गया था. महिला के पति के अनुसार गोपी ने आरोप लगाया, ‘बच्‍चों के अभिभावकों ने उनसे कहा कि वे अपने बच्चों को एक दलित महिला के हाथ से बना खाना नहीं खाने दे सकते.’

इस घटना के बाद गोपी ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई. उन्होंने कहा कि उनकी शिकायत को डीएसपी के पास भेज दिया गया, लेकिन TOI को उन्‍होंने यह भी बताया कि पुलिस अधिकारियों ने उनके सामने यह कहकर पल्‍ला झाड़ दिया कि चूंकि यह स्कूल के अधिकारियों और जिला प्रशासन के बीच का मामला है, इसलिए वे हस्तक्षेप नहीं कर सकते.

टाइम्स ऑफ इंडिया से बातचीत में स्‍कूल प्रिंसिपल ने कहा, हम बच्चों को सिखा सकते हैं कि जातिवादी रवैया न रखें और सभी समान हैं, कोई भी अछूत नहीं है. दुख की बात है कि हम उनके माता-पिता को समझा नहीं सकते.

Gujarat OBC youth attacked with sticks for playing DJ at Dalit girl wedding

गुजरात में OBC युवकों ने दलित युवती की शादी में डीजे बजाने पर लाठी से हमला किया

अहमदाबाद: (Dalit Atrocities) गुजरात (Gujarat) के अहमदाबाद जिले (Ahmedabad District) में डीजे (DJ) बजाने के मुद्दे पर एक दलित की शादी (Dalit Marriage) के जुलूस यानि बारात पर ओबीसी (OBC) युवकोंं द्वारा हमला करने के आरोप में पुलिस ने बृहस्पतिवार को छह लोगों के विरुद्ध मामला दर्ज किया.

मुजफ्फरनगर: ‘कोई भी चमार राजबीर प्रधान की ट्यूबवेल, खेत की मेढ़, समाधि पर दिख गया तो 5000 जुर्माना और 50 जूते लगेंगे’

देतरोज पुलिस थाने (Detroj Police Station) के उप निरीक्षक एच. आर. पटेल ने कहा कि अहमदाबाद के देतरोज तालुका के डांगरवा गांव (Dangarva Village of Detroj Taluka) में दलित (Dalit) शख्‍स जगदीश परमार ने अपनी बेटी की शादी के मौके पर बृहस्पतिवार को एक जुलूस का आयोजन किया था.

Rajasthan: दलित नवदंंपत्ति‍ को पुजारी ने मंदिर में प्रवेश से रोका, बोला- तुम्‍हारी जगह बाहर है | VIDEO

पटेल ने कहा, “गांव में जब जुलूस एक स्थान पर पहुंचा तब ठाकोर (OBC) समुदाय के कुछ युवकों ने उस क्षेत्र में डीजे नहीं बजाने को कहा. इनकार किये जाने पर छह लोगों ने जुलूस में शामिल लोगों पर लाठी से हमला किया. इस हमले में वधू के पिता घायल हो गए.”

Dalit Atrocities : दलित को थूक में रगड़वाई नाक, मंदिर के लिए नहीं दिया था चंदा…

अधिकारी ने कहा कि घटना के संबंध में छह लोगों के विरुद्ध एक मामला दर्ज किया गया है और अभी तक कोई गिरफ्तारी नहीं हुई है.

Madhya Pradesh: दलित दूल्हे को घोड़ी चढ़ने से रोका, कहा- इस गांव में दलित घोड़ी पर नहीं बैठेगा

दलित उत्‍पीड़न (Dalit Atrocities) से संबंधित सभी रिपोर्ट यहां पढ़ें…

 

dalit man

लंबी मूंछ रखना दलित युवक को पड़ा भारी, 11 लोगों ने लाठी-डंडों से पीटा; दी जातिवादी गालियां

अहमदाबाद. गुजरात में अहमदाबाद के वीरमगाम तालुका में लंबी मूंछ रखने पर एक दलित व्यक्ति (Dalit youth beaten because long mustache) पर 11 व्यक्तियों ने कथित रूप से हमला कर दिया. इस सिलसिले में अब तक तीन लोग गिरफ्तार किए गए हैं.

पुलिस उपाधीक्षक (Gujarat Police) डी एस व्यास ने सोमवार को बताया कि अनुसूचित जाति के सुरेश वाघेला ने शिकायत की है कि लंबी मूंछ रखने के कारण 11 लोगों ने उस पर हमला किया. व्यास ने कहा, ”वाघेला का अस्पताल में उपचार चल रहा है. हमने अब तक तीन लोगों को गिरफ्तार किया है.”

दलित युवक को दी गई जातिवादी गालियां
न्यूज एजेंसी पीटीआई भाषा के मुताबिक, वाघेला की प्राथमिकी के अनुसार रविवार को कराथकल गांव में उसके घर के बाहर धमा ठाकोर की अगुवाई में लोगों का एक समूह पहुंच गया और उन सभी ने लंबी मूंछ रखने को लेकर उसे जातिवादी गालियां दीं.

शिकायत में कहा गया है कि इन सभी लोगों ने धारदार हथियार और डंडों से वाघेला पर हमला किया. इस हमले में वाघेला की बहन भी घायल हो गई.

 

साबरकांठा: गांव में तैनात किए गए 120 जवान, तब घोड़ी पर दलित युवक ने निकाली बारात

साबारकांठा. गुजरात के साबारकांठा में एक अनोखी शादी देखने को मिली. इस शादी में बारातियों से ज्यादा खाकी वर्दी वाले पुलिसकर्मी नजर आए. ये शादी न तो किसी हाई प्रोफाइल उद्योगपति की थी और न ही किसी राजनेता की. ये शादी थी साबरकांठा के वडाली तहसील के (Dalit Men Marriage) भजपुरा गांव में रहने वाले एक दलित लड़के की. दरअसल कुछ दिनों पहले गांव के ऊंची जाति के लोगों ने दलित युवक के घोड़ी चढ़कर बारात निकालने का विरोध किया था.

आजतक की रिपोर्ट के अनुसार, गांव के लोगों द्वारा विरोध किए जाने के बाद युवक ने इस बात की शिकायत पुलिस में थी. मामला दर्ज करने के बाद दलित युवक को शादी के दौरान बारात निकालने से दबंगों द्वारा रोकने की आशंका के बीच पुलिस और प्रशासन ने अतिरिक्त इंतजाम किए थे. इसके बाद ही दूल्हे की बारात निक सकी. इस मौके पर पूरे गांव में पुलिस के 120 जवानों को तैनात किया गया था.

शादी के लिए भी व्यापक इंतजाम
ऊंची जाति के लोगों द्वारा शादी में किसी तरह की परेशानी न डाली जाए इसके लिए प्रशासन ने व्यापक इंतजाम किए थे. शहर के पुलिस आयुक्त डी एम चौहान ने बताया कि नरेश वंकार के बेटे दुर्लभ की बारात ग्रामीणों के सहयोग से पूरे शांतिपूर्ण तरीके से निकाली गई.

परिवारवालों ने किया पुलिसकर्मियों का शुक्रिया
शादी होने के बाद परिजनों ने पुलिस-प्रशासन का आभार जताया है. दूल्हे का सपना था कि वो भी बाकी समाज के लोगों की तरह धूमधाम से अपनी बारात निकाले. जिला पुलिस के सहयोग से उसकी ये इच्छा भी पूरी हो गई. गौरतलब है कि गुजरात में हाल में ऐसे कुछ मौकों पर दो समुदायों के बीच टकराव की स्थिति देखने को मिल चुकी है.

ये भी पढ़ेंः-दलित की बेटी बनी अमेरिका के सुप्रीम कोर्ट में जज, महिला दिवस पर जानिए ये कहानी