मेव जाति को MBC-SBC में आरक्षण देने की मांग, गुस्से में गुर्जर समाज

reservation

जयपुर. राजस्थान में एक बार फिर आरक्षण (Rajasthan Reservation) का मुद्दा गरमाया है. अब मेव जातियों ने आरक्षण के लिए ताल ठोकी है. मेव जातियों की मांग है कि उन्हें एमबीसी आरक्षण के तहत आरक्षण की सूची में शामिल किया जाए.

इस मुद्दे को नगर विधायक वाजिब अली (Wajib Ali) ने विधानसभा में उठाया है. वाजिब अली ने सदन में कहा कि मेव, लुहार, मिरासिन, मियां, कुरैशी, गद्दी जाति पिछड़ी हैं. सरकार सर्वे करवाकर एमबीसी आरक्षण में शामिल करे. साथ ही उन्होंने एमबीसी का दायरा बढ़ाकर 10 फीसदी करने की मांग की है.

सदन में विधायक ने कहा कि अलवर और भरतपुर क्षेत्रों में प्रमुख रूप से निवास करने वाली मेव जाति शिक्षा, रोज़गार और अन्य मूलभूत सुविधाओं और संसाधनों के लिहाज़ से काफी पिछड़ी हुई है. उन्होंने कहा कि इन जातियों के लोग खेती और पशुपालन का कार्य कर अपना जीवन गुज़र-बसर कर रही है और सामाजिक रूप से पिछड़ी हुई है इसीलिए उन्हें आरक्षण मिलना चाहिए.

वाजिब अली के बयान से नाराज हुआ गुर्जर समाज
वाजिब अली के इस बयान के बाद गुर्जर समाज (Gurjar community) नाराज हो गया है. गुर्जर नेता शैलेंद्र सिंह ने चेतावनी दी है कि ‘एमबीसी के आरक्षण से छेड़छाड़ नहीं होनी चाहिए. गुर्जर समाज किसी सूरत में छेड़छाड़ बर्दाश्त नहीं करेगा. गुर्जर समुदाय को चेतावनी देते हुए सरकार से कहा है कि एमबीसी आरक्षण के साथ छेड़छाड़ बर्दाश्त नहीं की जाएगी.

ये भी पढ़ेंः- सुप्रीम कोर्ट ने पूछा- शिक्षा और नौकरियों में कितनी पीढ़ियों तक चलेगा आरक्षण

मेव जातियों को एमबीसी में आरक्षण नहीं
वाजिब अली की इस मांग के बाद गुर्जर नेता विजय बैंसला का कहना है कि मेव जाति सामाजिक लिहाज से पिछड़ी हो सकी हैं, उन्हें भी आरक्षण मिलना चाहिए, लेकिन एमबीसी में नहीं.

 

 

आरक्षण की सीमा बढ़ाने पर विचार कर रही है सरकार
बता दें कि राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार आरक्षण सीमा को बढ़ाने पर विचार कर रही है. गत दिनों हुई कैबिनेट की बैठक में सरकार ने इसके संकेत दिए थेय सरकार ने 1992 के इन्दिरा साहनी प्रकरण में आरक्षण के लिए 50 प्रतिशत सीमा सम्बन्धी निर्णय पर पुनर्विचार करने की आवश्यकता जताई थी.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *