Rajendra Pal Gautam

Rajendra Pal Gautam honoured with Lord Buddha India Peace & Tourism Mitra Award

दिल्‍ली के समाज कल्याण मंत्री राजेंद्र पाल गौतम लॉर्ड बुद्धा इंडिया पीस एंड टूरिज्म मित्र अवार्ड से सम्मानित

नई दिल्‍ली : दिल्ली के समाज कल्याण मंत्री राजेंद्र पाल गौतम (Rajendra Pal Gautam) को एसोसिएशन ऑफ बौद्ध टूर ऑपरेटर्स (Association of Buddhist Tour Operators) द्वारा लॉर्ड बुद्धा इंडिया पीस एंड टूरिज्म मित्र अवार्ड 2021 (Lord Buddha India Peace & Tourism Mitra Award 2021) से सम्मानित किया गया. इस पुरस्कार ने मानवता, शांति, प्रकृति, संस्कृति और दुनिया भर में भगवान बुद्ध (Lord Buddha) की शिक्षाओं के प्रचार के लिए उनके उत्कृष्ट कार्य को मान्यता दी.

एबीटीओ द्वारा बोधगया (Bodh Gaya) में पुरस्कार समारोह का आयोजन किया गया था, जिसमें विभिन्न देशों और राज्यों के 200 से अधिक विद्वान, व्यापार भागीदार और 50 से अधिक प्रदर्शक उपस्थित थे. इस अवसर पर मंत्री राजेन्द्र पाल गौतम (Rajendra Pal Gautam) मुख्य अतिथि थे.

राजेंद्र पाल गौतम : बाबा साहब के सैनिक होने से लेकर दलित उत्‍थान के लिए काम करने तक…

पुरस्कार ग्रहण करने के बाद राजेंद्र पाल गौतम ने डॉ. बीआर आंबेडकर (Dr. BR Ambedkar) को आंबेडकर नेशनल मेमोरियल (Ambedkar National Memorial) पर श्रद्धांजलि अर्पित की. मिशन जय भीम (Mission Jai Bhim) और अन्य संगठनों के सदस्यों ने उनका स्वागत किया. जिन्होंने उन्हें उनके पुरस्कार के लिए बधाई दी.

SC,ST, OBC, EWS छात्रों के लिए खुशखबरी, फ‍िर मिलेगी फ्री कोचिंग और मासिक वजीफा, मंत्री राजेंद्र पाल गौतम ने किया ऐलान

इस अवसर पर मंत्री राजेंद्र पाल गौतम ने कहा जब तक जाति (Caste System) रहेगी तब तक उत्पीड़न रहेगा. जाति की वजह से हजारों साल तक देश के करोड़ों लोगों ने उत्पीड़न (Dalit Atrocities) झेला है, वह शोषण के शिकार रहे हैं, शिक्षा व्यापार और संपत्ति से वंचित रहे हैं. डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर जी ने हजारों साल की गुलामी से उन्हें आज़ाद करा कर उनके पढ़ने लिखने नौकरियों और विकास के रास्ते खोल दिए है. किंतु आज भी देश के कोने-कोने में जातिगत उत्पीड़न जारी है. विषमता पर आधारित व्यवस्था बार-बार ऐसी घटनाएं करती है जिससे देश शर्मसार होता है. हमने संकल्प किया है कि भारत में समतामूलक समाज की स्थापना करनी है. जब तक देश के अंदर क्षमता मैत्री व भाईचारे पर आधारित न्यायपूर्ण समाज की स्थापना में हो जाए जब तक सबको समान रूप से आगे बढ़ने का अवसर न मिल जाए तब तक यह संघर्ष जारी रहेगा.

दलित बच्‍ची की संदिग्‍ध मौत, रेप, लाश जलाने के मामले की मजिस्‍ट्रेट जांच कराएंगे: मंत्री राजेंद्र पाल गौतम

उनका जीवन और कार्य
राजेंद्र पाल गौतम, आंबेडकर वादी हैं. जिन्होंने भारत में दलितों (Dalits) और उत्पीड़ित वर्गों के उत्थान के लिए अपना जीवन समर्पित कर दिया है. उन्होंने दिल्ली विश्वविद्यालय से लॉ पूरा किया और गरीब पृष्ठभूमि से आने वाले 450 बच्चों की शिक्षा को प्रायोजित किया. अपने प्रारंभिक सक्रियता के दिनों में, वह समता सैनिक दल (Samata Sainik Dal) के सदस्य बन गए. जिसकी स्थापना डॉ. बीआर आंबेडकर ने की थी. जिसमें उन्होंने भारत में उत्पीड़ित जाति और वर्गों के खिलाफ हो रहे अन्याय के खिलाफ आवाज उठाई.

दिल्ली सरकार में चुनाव लड़ने और समाज कल्याण मंत्री बनने के बाद वह जय भीम मुख्यमंत्री प्रतिभा विकास योजना जैसी विभिन्न योजनाओं के सूत्रधार रहे हैं. इस योजना के तहत एससी / एसटी / ओबीसी और ईडब्ल्यूएस श्रेणी के बच्चों की निजी कोचिंग फीस दिल्ली सरकार देती है. उनके नेतृत्व में, दिल्ली सरकार ने हाथ से मैला ढोने की प्रथा को समाप्त करने के लिए हाथ से मैला ढोने वालों को मशीनें और सुरक्षात्मक गियर प्रदान करके सीवर सफाई मशीनें भी शुरू कीं.

मिशन जय भीम के माध्यम से आज राजेंद्र पाल गौतम भगवान बुद्ध की शिक्षाओं को भारत और दुनिया के कोने-कोने तक ले जा रहे हैं. डॉ. बीआर अंबेडकर से प्रेरणा लेकर 10 करोड़ लोगों को बौद्ध धर्म के दायरे में लाने का लक्ष्य.

magistrate probe will conduct into Nangal Dalit girl suspected death rape case Rajendra Pal Gautam

दलित बच्‍ची की संदिग्‍ध मौत, रेप, लाश जलाने के मामले की मजिस्‍ट्रेट जांच कराएंगे: राजेंद्र पाल गौतम

नई दिल्‍ली : दिल्ली के नांगल गांव (Delhi Nangal Village) में 9 साल की दलित (Dalit) बच्‍ची के साथ हुए कथित रेप, संदिग्‍ध मौत एवं परिजनों की बिना सहमति लाश को जला दिए जाने के मामले को दिल्‍ली के सामाजिक कल्‍याण मंत्री राजेंद्र पाल गौतम ने गंभीरता से लिया है. उन्‍होंने पीड़ित परिवार और उनके नातेदारों को पूर्ण आश्‍वासन दिया है कि दिल्‍ली सरकार (Delhi Govt) हर तरह से पीड़ित परिवार को मदद मुहैया कराएगी और अगर दिल्‍ली पुलिस (Delhi Police) ठीक ढंग से मामले की जांच नहीं करती तो दिल्‍ली सरकार केस की मजिस्‍ट्रेट जांच कराएगी.

दरअसल, इस घटना की जानकारी मिलने के बाद मंत्री राजेंद्र पाल गौतम (Rajendra Pal Gautam) सोमवार को नांगल गांव पहुंचे और पीड़ित परिवार से मुलाकात की. उन्‍होंने परिवार को दिल्‍ली सरकार और व्‍यक्तिगत तौर पर हर तरह से मदद देने का आश्‍वासन भी दिया.

उन्‍होंने Dalitawaaz.com से कहा, ‘मेरी हमेशा कोशिश रही है कि मैं अपने लोगों के बीच जाऊं और सच की जानकारी लूं. मेरी ज्‍वॉइंट सीपी, डीसीपी और डीएम से बात हुई है. अगर जरूरत पड़ी तो हम इस मामले की मजिस्‍ट्रेट जांच कराएंगे’.

Delhi Cantt Dalit Girl Rape & Murder Case की सभी खबरें यहां क्लिक कर पढ़ें… 

उन्‍होंने आगे कहा कि ‘पहले तो हम उम्‍मीद करते हैं कि दिल्‍ली पुलिस न्‍यायपूर्ण तरीके से जांच करे. इस मामले की जांच तेज और निष्‍पक्ष तरीके से होनी चाहिए. परिजनों के जल्‍द से जल्‍द Crpc 164 के बयान दर्ज कराए जाएं. वक्‍त आने पर हम सरकारी खर्चे पर पीडि़त परिवार को सरकारी वकील भी उपलब्‍ध कराएंगे’.

बताया जा रहा है कि श्मशान घाट के सामने किराए पर पुराना नांगल (Delhi Nangal Village) में वाल्‍मीकि समुदाय से ताल्‍लुक रखने वाली नौ साल की नाबालिग लड़की अपने माता-पिता के साथ रहती थी. वह रविवार शाम लगभग 5:30 बजे अपनी मां को बताकर श्मशान घाट के वाटर कूलर से ठंडा पानी लेने गई थी. 6 बजे श्मशान घाट के पुजारी पंडित राधेश्याम और नाबालिग लड़की की मां को जानने वाले 2-3 अन्य लोगों ने उसे श्मशान में बुलाया और लड़की के शव को यह कहते हुए दिखाया कि वाटर कूलर से पानी पीने के दौरान उसे करंट लग गया था. लड़की की बाईं कलाई और कोहनी के बीच जलने के निशान थे. उसके होंठ भी नीले थे. यह मां ने देखा. पुजारी और 2-3 लोगों ने मां से कहा कि अगर आप पीसीआर कॉल करते हैं तो पुलिस इसका मामला बनाएगी और पोस्टमॉर्टम में डॉक्टर लड़की के सभी अंगों को चुरा लेंगे और इसलिए उसका अंतिम संस्कार करना बेहतर है लड़की का अंतिम संस्कार कर दिया गया, जिसके बाद मृतक लड़की की मां ने पति के साथ शोर मचाया कि उनकी मर्जी के बिना उस लड़की का अंतिम संस्कार कर दिया गया.

दिल्‍ली पुलिस (Delhi Police) ने इस मामले में आईपीसी 304, 342, 201 और एससी/एसटी एक्ट के तहत सभी चार आरोपियों पुजारी राधेश्याम के अलावा सलीम, लक्ष्मीनारायण, कुलदीप को गिरफ्तार कर लिया है.

 

Rajendra Pal Gautam

राजेंद्र पाल गौतम : बाबा साहब के सैनिक होने से लेकर दलित उत्‍थान के लिए काम करने तक…

देश की सफल दलित शख्सियतों के बारे में अगर हम बात करें तो इनमें राजेंद्र पाल गौतम का नाम जरूर आता है. बाबा साहब डॉ. भीमराव आंबेडकर की विचारधारा से बेहद प्रभावित राजेंद्र पाल गौतम ने हमेशा दलितों/वंचितों के हक की लड़ाई लड़ी है.

वर्तमान में राष्‍ट्रीय राजधानी दिल्‍ली की सरकार में अहम ओहदा संभाले हुए हैं. वह दिल्ली सरकार में कैबिनेट मंत्री के तौर पर समाज कल्याण मंत्रालय, अनुसूचित जाति/जनजाति मंत्रालय, रजिस्ट्रार ऑफ को-आपरेटिव सोसाइटीज व गुरूद्वारा इलेक्शन का प्रभार संभाल रहे हैं.

आइये जानते हैं राजेंद्र पाल गौतम के बारे में…

सीमापुरी विधानसभा से लगातार दूसरी बार विधायक राजेंद्र पाल गौतम का जन्म दिल्ली के उत्तर-पूर्वी जिले के घोण्डा क्षेत्र में हुआ. दिल्ली यूनिवर्सिटी से कानून की डिग्री लेने के साथ-साथ इन्होंने गरीब परिवारों के लगभग 450 बच्चों को मुफ्त शिक्षा दिलाने तथा युवाओं में नशे की लत छुड़ाने का काम किया.

साल 1987 में बाबा साहब डॉ. बीआर आंबेडकर द्वारा स्थापित समता सैनिक दल के सैनिक बनकर पूरे देश में दलितों और पिछड़ों के अधिकारों की लड़ाई लड़ी.

साल 2001 में समता सैनिक दल को दिल्ली सरकार द्वारा डॉ. आंबेडकर रत्न अवॉर्ड दिया गया.

राजेंद्र पाल गौतम की समाज में गहरी पकड़ एवं जुझारू प्रवृति को देखते हुए साल 2002 में उन्‍हें समता सैनिक दल का राष्ट्रीय प्रधान महासचिव का दायित्व सौंपा गया. इस दायित्‍व को उन्‍होंने पूरे 8 साल तक निभाया.

उनके द्वारा दलितों के लिए किए गए संघर्ष के कारण ही महामहिम राष्ट्रपति जी ने साल 2017 में समता सैनिक दल को डॉ. आंबेडकर रत्न अवॉर्ड से सम्मानित किया.

केवल यही नहीं, 26-अलीपुर रोड को राष्ट्रीय स्मारक घोषित करने में भी समता सैनिक दल का विशेष योगदान रहा.

भ्रष्‍टाचार के खिलाफ आंदोलन से जन्‍मी आम आदमी पार्टी में वह साल 2014 से प्रभावित सक्रिय हो गए. इसकी वजह उनका पार्टी के मुखिया अरविंद केजरीवाल की विचारधारा से प्रभावित होना रहा. साल 2015 में सीमापुरी विधानसभा से वह विधायक चुने गये. इसके बाद साल 2020 के दिल्‍ली विधानसभा चुनाव में भी वह इसी सीट से दोबारा चुने गए.

दरअसल, दिल्‍ली राज्‍य की 70 विधानसभा सीटों में से सीमापुरी महत्‍वपूर्ण सीट मानी जाती है. यह इलाका नई सीमापुरी और पुरानी सीमापुरी के नाम से बंटा हुआ है. राजेंद्र पाल गौतम के विधायक बनने के बाद इस विधानसभा क्षेत्र में बड़े पैमाने पर विकास हुआ है.