Breaking

सामाजिक समरसता के माध्यम से ही हम एक राष्ट्र बन सकते हैं: डॉ. बीआर आंबेडकर

dr-br-ambedkar-said-we-can-become-a-nation-only-through-social-harmony

इंडिपेंडेंट लेबर पार्टी के नेता के रूप में डॉ. बी. आर. आंबेडकर (Dr. BR Ambedkar) ने दिनांक 5 फरवरी, 1940 को कांग्रेस (Congress) और मुस्लिम लीग (Muslim League) के दृष्टिकोण पर चर्चा करते हुए कहा था, “मैं गांधी जी और कांग्रेस से सहमत नहीं हूं जब वे यह कहते हैं कि भारत एक राष्ट्र है. मैं मुस्लिम लीग की विदेश संबंधी समिति के इस कथन से भी सहमत नहीं हूं कि एक राष्ट्र के रूप में हिन्दुओं और मुसलमानों को जोड़ा नहीं जा सकता.”

डॉ. बी. आर. आंबेडकर (Dr. BR Ambedkar) ने आगे कहा “मेरा मानना है कि हम एक राष्ट्र नहीं हैं. परन्तु मुझे इस बात की पूरी आशा है कि हम एक राष्ट्र हो सकते हैं बशर्ते सामाजिक समरसता की समुचित प्रक्रिया की शुरुआत की जाए.”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *