ओमप्रकाश वाल्‍मीकि: ओ, मेरे प्रताड़ित पुरखों, तुम्हारी स्मृतियां, इस बंजर धरती के सीने पर, अभी जिंदा हैं

Dalit Sahitya o mere pradadit purkhon om prakash valmiki ki rachna om prakash valmiki, ओम प्रकाश वाल्मीकि जूठन, ओम प्रकाश वाल्मीकि का जीवन परिचय, ओम प्रकाश वाल्मीकि जूठन सारांश, ओम प्रकाश वाल्मीकि की रचनाएँ, ओम प्रकाश वाल्मीकि कहानी, ओम प्रकाश वाल्मीकि pdf, om prakash valmiki ki rachna, om prakash valmiki kavita kosh, om prakash valmiki ki rachna, om prakash valmiki jeevan parichay, om prakash valmiki books, om prakash valmiki ka parichay, om prakash valmiki ki bhasha shaili, om prakash valmiki joothan, om prakash valmiki joothan pdf, om prakash valmiki joothan summary, ओमप्रकाश वाल्मीकि ने अपनी आत्मकथा में क्या लिखा है, ओमप्रकाश वाल्मीकि कक्षा 7 कौन थे, ओमप्रकाश वाल्मीकि को परिवेश सम्मान कब मिला, जूठन उपन्यास में वाल्मीकि का सबसे अच्छा मित्र कौन था

(Dalit Sahitya : O mere pradadit purkhon om prakash valmiki ki rachna)

ओ, मेरे प्रताड़ित पुरखों,

तुम्हारी स्मृतियां

इस बंजर धरती के सीने पर

अभी जिंदा हैं

अपने हरेपन के साथ

तुम्हारी पीठ पर

चोट के नीले गहरे निशान

तुम्हारे साहस और धैर्य को

भुला नहीं पाए हैं अभी तक।

सख़्त हाथों पर पड़ी खरोंचें

रिसते लहू के साथ

विरासत में दे गई हैं

ढेर-सी यातनाएं

जो उगानी हैं मुझे इस धरती पर

हरे-नीले-लाल फूलों में।

बस्तियों से खदेड़े गए

ओ, मेरे पुरखों,

तुम चुप रहे उन रातों में

जब तुम्हें प्रेम करना था

आलिंगन में बांधकर,

अपनी पत्नियों को।

तुम तलाशते रहे

मुट्ठी भर चावल

सपने गिरवी रखकर।

ओ, मेरे अज्ञात, अनाम पुरखो

तुम्हारे मूक शब्द

जल रहे हैं

दहकती राख की तरह

राख : जो लगातार कांप रही है

रोष में भरी हुई।

मैं जानना चाहता हूं

तुम्हारी गंध…

तुम्हारे शब्द…

तुम्हारा भय…

जो तमाम हवाओं के बीच भी

जल रहे हैं

दीए की तरह युगों-युगों से!

O mere pradadit purkhon

ओमप्रकाश वाल्‍मीकि, Om Prakash Valmiki से जुड़े सभी लेख, रचनाएं यहां पढ़ें

दलित साहित्य (Dalit literature) की 5 आत्मकथाएं, जो हर किसी को पढ़नी चाहिए

ओमप्रकाश वाल्‍मीकि (Om Prakash Valmiki)  की वह 2 कविताएं जो ‘दलितों की कहानी’ सबको चिल्‍लाकर बताती हैं… पढ़ें

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सुभाष चंद्र बोस और डॉ. बीआर आंबेडकर की मुलाकात शूरवीर तिलका मांझी, जो ‘जबरा पहाड़िया’ पुकारे गए डॉ. आंबेडकर के पास थीं 35000 किताबें… जब पहली बार कांशीराम ने संसद में प्रवेश किया, हर कोई सीट से खड़ा हो गया जब कानपुर रेलवे स्‍टेशन पर वाल्‍मीकि नेताओं ने किया Dr. BR Ambedkar का विरोध खुशखबरी: हर जिले में किसान जीत सकते हैं ट्रैक्‍टर कांशीराम के अनमोल विचार व कथन जो आपको पढ़ने चाहिए Dr. Ambedkar Degrees : डॉ. आंबेडकर के पास कौन-कौन सी डिग्रियां थीं ‘धनंजय कीर’, जिन्होंने लिखी Dr. BR Ambedkar की सबसे मशहूर जीवनी