Dr. BR Ambedkar Jayanti: डॉ. बीआर आंबेडकर जयंती से पहले लगा 132 फीट लंबा-8 फीट ऊंचा बैनर, 20 गांव के युवाओं ने उठाया कदम, जश्‍न की तैयारियां

Dr. BR Ambedkar Jayanti, Bhimrao Ramji Ambedkar, Dr. B.R. Ambedkar 132nd birth anniversary, Dr. BR Ambedkar banner, Ambedkar Birth Anniversary celebration, Ambedkar Jayanti celebration, 14 april ambedkar jayanti, 14 april ambedkar jayanti poster, 14 april ambedkar jayanti speech in hindi, 14 april ambedkar jayanti banner, 14 अप्रैल अंबेडकर जयंती, 14 april ambedkar jayanti speech in english, 14 april ambedkar jayanti images, 14 april ambedkar jayanti holiday, 14 april ambedkar jayanti quotes, 14 april ambedkar jayanti photos, डॉ. बीआर अम्बेडकर जयंती, भीमराव रामजी अम्बेडकर, डॉ. बी.आर. अंबेडकर की 132वीं जयंती, डॉ. बीआर अंबेडकर बैनर, अंबेडकर जयंती समारोह, अंबेडकर जयंती समारोह, 14 अप्रैल अंबेडकर जयंती, 14 अप्रैल अंबेडकर जयंती पोस्टर, 14 अप्रैल अंबेडकर जयंती भाषण हिंदी में, 14 अप्रैल अंबेडकर जयंती बैनर, 14 अप्रैल अंबेडकर जयंती, 14 अप्रैल अंबेडकर जयंती भाषण अंग्रेजी में, 14 अप्रैल अंबेडकर जयंती चित्र, 14 अप्रैल अंबेडकर जयंती अवकाश, 14 अप्रैल अंबेडकर जयंती उद्धरण, 14 अप्रैल अंबेडकर जयंती तस्वीरें

अहमदनगर : 14 अप्रैल को भारतीय संविधान के मुख्य निर्माता बाबा साहेब डॉ. भीमराव आंबेडकर की 132वीं जयंती (Dr. BR Ambedkar Jayanti) से पहले 20 गांव के युवाओं के एक समूह ने डॉ. बीआर आंबेडकर (Dr. BR Ambedkar) के जीवन पर 132 फीट लंबा और 8 फीट ऊंचा बैनर बनाया है. युवा अहमदनगर जिले के कोपरगांव तालुका के अंतर्गत धारनगांव गांव के हैं, और उन्होंने अपने निर्माण के लिए 10,000 रुपये की लागत का खर्चा खुद उठाया.

कोपरगांव रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया के नेता जितेंद्र चंद्रकांत रंशुर ने कहा- गांव की ओर जाने वाले मुख्य मार्ग पर बहुरंगी बैनर लगाया गया है और यह आने या जाने वाले सभी लोगों को प्रमुखता से दिखाई देता है. मंगलवार की रात आतिशबाजी और जश्न के साथ इसका उद्घाटन किया गया.

Dr. B.R. Ambedkar 132nd birth anniversary

डॉ. बी.आर. आंबेडकर की लिखित महान किताबें और लेखन के बारे में जानें और यहां पढ़ें

‘सम्राट ग्रुप’ नाम से बनाए गए इस बैनर में अंबेडकर (Ambedkar Birth Anniversary) के कुछ महान कथनों और नारों को दर्शाया गया है, जिसमें बचपन से लेकर उनके जीवन, भारत और श्राविदेश में उनकी शिक्षा, उनके परिवार, पुरानी काली कार जिसमें वह यात्रा करते थे, भारत के लोकतंत्र का प्रतीक संसद की छवियां, साथ ही अन्य प्रमुख ऐतिहासिक व्यक्तित्वों की कई तस्वीरें और जिनके साथ उन्होंने अपने जीवनकाल में बातचीत की झलकियां हैं.

राजनीति में नायक पूजा अंत में तानाशाही की ओर ले जाएगी…. डॉ. बीआर आंबेडकर

चंद्रकांत ने कहा, युवाओं ने वर्तमान पीढ़ी को यह बताने की कोशिश की है कि कैसे अम्बेडकर ने न केवल दलितों के लिए काम किया, बल्कि भारतीय लोकतंत्र की नींव रखने में योगदान के साथ-साथ पूरे समाज के लिए भी काम किया.

London School of Economics: लंदन स्‍कूल ऑफ इकोनॉमिक्‍स में डॉ. आंबेडकर की उपलब्धियां, प्रोफेसर कहते- उसके जीतने के लिए यहां और कोई दुनिया नहीं है

बहुत बड़ा कपड़ा बैनर, जिसकी माप 1,056 वर्ग फुट और वजन लगभग 40 किलोग्राम है, कोपरगांव में एक साथ सिला गया, और फिर एक सरकारी बस चालक द्वारा धारनगांव गांव में नि: शुल्क पहुंचाया गया जहां यह 20 अप्रैल तक प्रदर्शित रहेगा.

समता सैनिक दल के सैनिकों को बाबा साहब डॉ. बीआर आंबेडकर का संदेश

इसके अतिरिक्त, सम्राट समूह ने 100,000 रुपये एकत्र किए हैं, जिनका उपयोग 14 अप्रैल को विभिन्न सामाजिक-सांस्कृतिक-शैक्षिक कार्यक्रमों के लिए किया जाएगा, जिसमें गांव में सामुदायिक भोजन भी शामिल है.

Mata Ramabai : माता रमाबाई, जिनके कारण बाबा साहब मामूली भीमा से डॉ. आंबेडकर बने

(Dr. BR Ambedkar Jayanti)

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

संयुक्‍त राष्‍ट्र में ‘दलित छात्रा’ ने बढ़ाया ‘भारत का मान’ शूरवीर तिलका मांझी, जो ‘जबरा पहाड़िया’ पुकारे गए खुशखबरी: हर जिले में किसान जीत सकते हैं ट्रैक्‍टर जब कानपुर रेलवे स्‍टेशन पर वाल्‍मीकि नेताओं ने किया Dr. BR Ambedkar का विरोध सुभाष चंद्र बोस और डॉ. बीआर आंबेडकर की मुलाकात Dr. Ambedkar Degrees : डॉ. आंबेडकर के पास कौन-कौन सी डिग्रियां थीं ‘धनंजय कीर’, जिन्होंने लिखी Dr. BR Ambedkar की सबसे मशहूर जीवनी कांशीराम के अनमोल विचार व कथन जो आपको पढ़ने चाहिए जब पहली बार कांशीराम ने संसद में प्रवेश किया, हर कोई सीट से खड़ा हो गया डॉ. आंबेडकर के पास थीं 35000 किताबें…
सुभाष चंद्र बोस और डॉ. बीआर आंबेडकर की मुलाकात संयुक्‍त राष्‍ट्र में ‘दलित छात्रा’ ने बढ़ाया ‘भारत का मान’ शूरवीर तिलका मांझी, जो ‘जबरा पहाड़िया’ पुकारे गए डॉ. आंबेडकर के पास थीं 35000 किताबें… जब पहली बार कांशीराम ने संसद में प्रवेश किया, हर कोई सीट से खड़ा हो गया जब कानपुर रेलवे स्‍टेशन पर वाल्‍मीकि नेताओं ने किया Dr. BR Ambedkar का विरोध खुशखबरी: हर जिले में किसान जीत सकते हैं ट्रैक्‍टर कांशीराम के अनमोल विचार व कथन जो आपको पढ़ने चाहिए Dr. Ambedkar Degrees : डॉ. आंबेडकर के पास कौन-कौन सी डिग्रियां थीं ‘धनंजय कीर’, जिन्होंने लिखी Dr. BR Ambedkar की सबसे मशहूर जीवनी